गर्भ में बच्चा कैसे बड़ा होता है ? मां के गर्भ में बच्चा कैसे बनता है

गर्भ में बच्चा कैसे बड़ा होता है ? मां के गर्भ में बच्चा कैसे बनता है

गर्भ में बच्चा कैसे बड़ा होता है ? मां के गर्भ में ऐसे बड़ा होता है बच्चा

गर्भ में बच्चा कैसे बड़ा होता है ? मां के गर्भ में बच्चा कैसे बनता है

ऐसे होता है गर्भ में शरीर का निर्माण गर्भ में बच्चा कैसे बड़ा होता है ? मां के गर्भ में ऐसे बड़ा होता है बच्चा गर्भ में बच्चा कैसे बड़ा होता है ? मां के गर्भ में बच्चा कैसे बनता है

आज हम बात करेंगे कि गर्भ में बच्चा कैसे बड़ा होता है तथा किस प्रकार से गर्भ में सारी जरूरतें पूरी होती है । किस प्रकार से उसके अंगों का विकास होता है । आज हम इस जटिल प्रक्रिया को समझेंगे ।

बहुत सारे ऐसे बच्चे होते हैं जो कि समय से पहले ही जन्म ले लेते हैं । यानी कि 9 महीने से पहले ही जिनका जन्म हो जाता है । आखिरकार उनका क्या होता है ?

जो बच्चे समय से पहले पैदा होते हैं । वह अपनी जिंदगी के लिए संघर्ष करते हैं । इन बच्चों में वह जरूरी बदलाव नहीं हो पाते हैं जो कि बच्चों मे माता की कोख में होने चाहिए थे ।

आज हम बच्चे के गर्भ में 24 हफ्ते से 28 हफ्ते तक की कहानी देखेंगे । इन हफ्तों में बच्चा का विकास किस तरह से होता है । बच्चा किस प्रकार से बड़ा होता है ।

शरीर में फेफड़ों का विकास शुरू हो जाता है तथा हमारी इंद्रियां जागृत हो जाती है । वह हमारे इस दिमाग को दुनिया की जानकारी देती है ।

एक मजबूत इंसान के लिए एक मजबूत कंकाल होना जरूरी होता है और एक मजबूत कंकाल में 200 तक की हड्डियां होती है । उनसे ही हमारे शरीर को आकार मिलता है और हम चल पाते हैं और हमारे अहम अंगो को सुरक्षा होती है ।

पसलियों को मांसपेशियां ढक लेती है । फेफड़े बड़े होते हैं तथा उनमें जीवन देने वाली हवा भरती है ।

जब हमारा शरीर बनना शुरू हुआ था तो वह बिना हड्डी के शुरू हुआ था और हमारा कंकाल तंत्र कार्टिलेज का बना होता है । 25 वें हफ्ते में हमारी सबसे बड़ी हड्डी पेल्विस बनती है ।

हमारे शरीर की हड्डियां एक खास सेल से बनती है । जिसे ओस्टियोक्लास्ट कहते हैं ।

27 वे हफ्ते तक हमारा दिमाग काफी सक्रिय हो जाता है । सेल्स एक बड़ी संरचना में बदलने लगते हैं । सेल्स एक दूसरे से जुड़ने लगते हैं ।

अब दिमाग के ज्यादातर हिस्से का विकास शुरू हो जाता है । हमारे दिमाग में रोज करीब 10 करोड़ नए कनेक्शन बनते रहते हैं । इसके साथ ही हमारी याददाश्त बढ़ने लगती है ।

28 वें हफ्ते में हमें आवाज भी सुनाई देने लग जाती है । दिमाग की बाहरि हिस्से संकेत भेजने लगते हैं ।

किसी को भी यह याद नहीं रहता कि गर्भ में उनके साथ क्या हुआ ? क्योंकि उस समय तक वह सेल्स बने ही नहीं होते हैं जो कि हमारी याददाश्त को जमा करते हैं ।

28 हफ्ते में हम देखना शुरू कर देते हैं । 27 वें हफ्ते में हमारे आंखों के कोरनिया के हिस्से तथा बाकी के हिस्से भी बनने लगते हैं तथा आपस में जोड़ने लगते हैं जिससे कि हम दुनिया के बाकी रंगो को देख सकते हैं