आँखों की रोशनी बढ़ाने के 25 तरीके। aankhon ki roshni kaise badhaye.

30

एक मिनट के लिए अपनी आँखों बन्द करिये, आपने क्या देखा? जाहिर है आपको कला, घना अधेंरा नजर आया होगा । अब जरा सोचिये क्या हो अगर हमें हर जगह यही अधेंरा नजर आए यानि आँखों की रोशनी चली जाए? इसका ख्याल भी हमारे अदंर डर की कपकपी छोड़ देता है ।

क्योकि आँख इंसान के सबसे जरूरी अंगों में से एक है और सबसे जटिल अंग भी है । इसके बिना हम फूलों पर शबनम की बूँदे नही देख सकते, बच्चे की प्यारी मुस्कान और नंगे पहाड पर छाई हरी घास की चादर भी नही देख सकते ।


केवल आँखो रोशनी खराब होने से हम पूरी तरह इस दुनिया से कट जाते है । इस दुनिया में वसी खूबसूरती और प्यार को नही देख सकते । लेकिन अफसोस की बात है की आज लोग कुदरत के द्वारा दिये गए इस दोफे यानी आँखो की रोशनी से खेलते हैं ( मैं भी उनमे से एक हूँ ) ।

दरअसल कोई भी जावबूझ कर अपनी आँखे को खराब नही करना चहाएगा, क्योकि सब को इसकी अहमियत पता होती है और अक्सर हमें इसकी किमत तब पता चलती है जब हमारी आँखो की रोशनी कम हो जाती है ।

आँखों की रोशनी कम होने के कई कारण हो सकते हैं ये खराब लाइफस्टाइल, खाने-पीने की आदते और किसी बिमारी के कारण भी हो सकता है खैर वजह जो भी हों हमें अपनी आँखों की हिफाज़त जरूर करनी चाहिए, बरना हम इससे हाथ धो बैठेगे


इसलिए आज हम आपको इस आर्टिकल में बताएगे Aankhon ki roshni kaise badhaye,How to improve eyesight in hindi,इससे पहले हम आपको आँखों की रोशनी बढ़ाने के तरीकों (  Aankhon ki roshni badhane ke tarike ) बताए चलिए कमजोर आँखो की रोशनी के लक्षण, और कारण जान लेते हैं ।

गहरी नींद के आसान उपाय gehri nind ke aasan upay.जीरे से अनिद्रा को दूर करने के तीन रामबाण इलाज।

इसे भी पढ़े:> गहरी नींद के आसान उपाय gehri nind ke aasan upay.

इसे भी पढ़े:> कद बढ़ाने का आसान तरीका Kad badane ka aasan tarika.Kad badhane ke yoga

इसे भी पढ़े:> बुखार का घरेलू उपचार bukhar ka gharelu upchar बुखार के लक्षण और कारण

आँखों की रोशनी होने के लक्षण ( Symptoms of weak eyesight in hindi ) वैसे तो आँखो के रौशनी कम होने पर आपको काफी समस्याए नजर आएगी और कई लक्षण भी दिखेगे लेकिन मुख्य तौर पर आँखो की रौशनी कन होने ये लक्षण दिखते है अगर आपमे भी ये लक्षण है तो आपको भी सावधान हो जाना चाहिए


1~ आँखो में दुखन, थकान, जलन और खुजली होना

2~ आँखों से बार-बार पानी आना या आँखों सूखापन लगना

3~ धुधला नजर आना या डबल दिखाई देना

4~ सर में दर्द रहना

5~ गर्दन, और कंधो में दुखन होना

6~ज्यादा रोशनी से आँखो में बहुत तकलीफ होना

7~एकाग्रत और ध्यान लगाने में दिक्कत होना

8~ ऐसा लगना की आप आँख नही खोल पाएगे ।

9~आँखों का बार-बार लाल पडनाआँखों की रोशनी कम होने के कारण ( Cause of weak eyesight in hindi )


आँखों की रोशनी कम होने के कारण ( Cause of weak eyesight in hindi ) लगातार डिजिटल उपकरणों की स्क्रीन को देखना- आज के दौर में सबसे ज्यादा आँखों को नुकसान डिजिटल डिवाइस जैसे- कम्प्यूटर और मोबाइल ही पहुचा रहे हैं क्योकि इनसे ब्लू लाइट निकलती है जो आँखो को बहुत नुकसान पहुचती है ।

दरअसल डिजिटल डिवाइस इस्तेमाल करते समय हम अपनी पलके बहुक कम छपकाते है जिसके कारण आँखों में तनाव बढ़ता है और आँखे सूखने लगती हैं जिसके कारण आँखों की रौशनी कम होने लगती है ।

बिना आँखों को आराम दिये पढ़ना-  वैसे तो पढ़ना एक अच्छी आदत है लेकिन लगातार बिना आँखो को आराम दिये पढ़ने से आँखो की रोशनी कमजोर होने लगती है आपने भी देखा होगा की जो लोग बहुत ज्यादा पढ़ाई में लगें रहते हैं उनकी आँखों पर बडे-बडे चश्मे होते हैं ।

ज्यादातर समय तेज रोशनी में रहना- कुछ लोग अपने काम के कारण पुरे दिन तेज रोशनी में रहते हैं जिसके कारण उनकी आँँखे पर इसका बहुत नकारात्मक असर पढ़ता है और आँखो की रोशनी कम होने लगती हैं आपने भी महसूस किया होगा की जब हम थोडे समय तेज धूप में रहते है और इसके बाद किसी कम रोशनी वाले कमरे में जाते हैं तो थोडे समय के लिए कुछ भी साफ-साफ दिखाई नही देता ।

इसे भी पढ़े:> काली मिर्च से धन प्राप्ति के अचूक उपाय। काली मिर्च के आसान उपाय। काली मिर्च के ये 4 टोटके।

इसे भी पढ़े:> धनिया का वैज्ञानिक नाम। साबुत धनिया के फायदे।धनिया Coriander पाउडर के फायदे


इसे भी पढ़े:> शिलाजीत के फायदे। दूध में मिलाकर पिएं शिलाजीत, मर्दानगी बढ़ने के साथ मिलेंगे ये 8 फायदे।


मंद प्रकाश में किसी चीज को लम्बे समय तक देखना- जो लोग अपने कमरें में पढाई करते है तो वो किसी लैम्प को अपने कमरे में लगवा लेते है लेकिन ज्यादातर ऐसी लैम्प मंद प्रकाश ( dim light ) वाली होती हैं जिससे आँखों की रोशनी गिरने लगती है ।

सुखी हवा का लगना- सुखी हवा जैसे- पंखा, टेबल फैन और एयर क्डीशनर से की सुखी हवा ( Dry air ) आँखो पर लगने से भी आँखो को नुकसान पहुचता है । इसलिए ध्यान रखें की आपकी में लगातार सुखी हवा न जा पाए |

आँखों पर चोट लगना- आँखो पर किसी प्रकार की चोट और घाव लगने या क्षति होने से भी रौशनी कम हो जाती है । मुझी अभी भी याद है की बचपन में मेरा अजीम नाम का एक दोस्त था उसका और मेरा किसी बात को लेकर झगडा हो गया था

और बात मार-पिटाई तक आ गई थी लडाई के बीच उसने पुरी ताकत से मेरे मुँह पर घूसा ( Punch ) मारा, उसके मुक्के का कुछ भाग मेरी आँख पर भी लगा था जिसके कारण कई महीनों तक मेरी आँख में दर्द रहा था और पाँच दिन तक एक से धुंधला दिखाई देता था । 


ज्यादा तनाव लेना- तनाव हमारे शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक है अगर किसी आदमी को तनाव के नुकसान पता चल जाए तो वो तनाव के नुकसान सुन कर ही तनाव में आ जायगा । तनाव के कारण शरीर की पूरी प्रक्रिया बुरी तरह प्रभावित होती है जिससे आँखो पर भी नकारात्मक असर पढ़ता है ।


आँखों से जुडी कोई समस्या होना- आँखों की रौशनी बिना किसी कारण के कमजोर नही होती अगर ऊपर बताए गए किसी भी करण की वजह से आपकी रौशनी कम नही हुई है तो हो सकता है की आपको आँखो से जुडी कोई बडी समस्या हों

मैं आपको डरा नही रहा केवल समझा रहा हूँ की अगर आपको अपनी आँखों में कोई समस्या मालूम पडती है तो एक बार किसी अच्छे डॉक्टर से आँखो की चाँज करवा लेंआँखो की रौशनी कैसे बढ़ाए ( Aankon ki roshni kaise badhaye )


आँखों की रोशनी कैसे बढ़ाए ( Aankhon ki roshni kaise badhaye )

Aankhon ki roshni kaise badhaye

अब तक हम आँखों की रोशनी कम होने के लक्षण और कारणों के बारे में बात कर चुके हैं चलिये अब जानते हैं आँखों की रोशनी कैसे बढ़ाए ( How to improve eyesight in hindi )

*. जरूरी विटामिन्स और खनिज पदार्थ लें *

अगर शरीर में जरूरी पौषक त्तत्वो और खनिज पर्दाथों की कमी हो तो इससे पूरा शारीरिक स्वास्थ्य चरमरा जाता है । शरीर में खनिज पदार्थों की कमी अक्सर खाने-पीने की गलत आदतों के कारण होती है क्योकि लोग स्वाद के चक्कर में बहार के चाऊमीन, बर्गर, पास्ता और पिज्जा ठूस-ठूस कर खाते है

जिसके बाद पेट में फलों और सब्जियों के लिए जगह ही नही बचती । जिसकी वजह से शरीर को जरूरी विटामिन्स ( Vitamins ) और minerals मिल नही पाते ।देखिये आपके पैर के नाखून से सर के बाल तक सभी अंगो को स्वास्थ रहने के लिए जरूरी पौषक तत्वों और खनिज  पदार्थों की जरूरत होती है ।

अगर शरीर में पौषक तत्वों की कमी हो जाए तो इससे Hair fall, दुबलापन, मोटापा और खराब पाचन तंत्र जैसी शिकायतें हो सकती है । इसी कारण Vitamins और minerals की कमी होने पर आँखे भी कमजोर हो जाती हैं ।आँखों को स्वास्थ और उनकी रौशनी बढ़ाने के लिए आपको विटामिन A,C,E और जिंक की जरूरत है

इसके अलावा आपको अलग-अलग रंग के फल और सब्जियां खाते रहना चाहिए इससे शरीर को सभी तरह के पौषक तत्व मिल जाते हैं ।यहाँ तक आँखो की रौशनी बढ़ाने की बात है तो आपको गाजर, लाल मिर्च, ब्रोकली, पालक स्ट्रॉबेरी, और शकरकंद खाना चाहिए ।


*. कैरोटीनॉयड लेना ना भूलें * आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए आप कुछ दूसरे जरूरी पौषक तत्व जैसे- लूटीन और zeaxanthin ले सकते हैं । ये पौषक तत्व कैरोटीनॉयड होते हैं जो आँखों की रेटीना में पाए जाते हैं ।

जिनको लेने से आॅखों की रौशनी बढ़ती है । कैरोटीनॉयड मुख्य रूप से हरी पत्ते वाली सब्जियों, ब्रोकली और अण्डों मे पाया जाता है ।


इसे भी पढ़े:> शुगर के घरेलू उपचार sugar ke gharelu upchar.शुगर को जड़ से खत्म करने के आसान उपाय।

इसे भी पढ़े:> Skin Care:चेहरे पर शहद लगाने के फायदे Benefits Of Using Honey For The Face.

इसे भी पढ़े:> दालचीनी के फायदे -Cinnamon Benefits and Uses in Hindi. दालचीनी के लाभ और हानि।

इसे भी पढ़े:> रात को इलायची खाकर गर्म पानी पीने के फायदे। रात को 2 इलायची खाकर पी लें 1 गिलास गर्म पानी, फिर देखें कमाल

*. फिट रहिये: Stay fit *

जी हाँ रेगुलर व्यायाम करने और संतुलित वजन रखने से आपकी आँखो की रौशनी को फायदा पहुच सकता है । क्योकि टाइप 2 माधुमेह ज्यादातर उन लोगो को होता है जो मोटापे का शिकार होते हैं


टाइप 2 माधुमेह होने के कारण खून में शुगर की मात्रा अधिक रहती है और खून में ज्यादा शुगर होने स वो आँखों के अन्दर खून की वाहिकाओं ( blood vessels ) को नुकसान पहुचाती है जिससे आँखो की रौशनी कम होती है । इसलिए स्वास्थ रहिये, प्रतिदिन व्यायाम करिये और एक अच्छी डाइट लिजिए

*. दूसरे बुरे हालतों को काबू करें *

केवल मघुमेह से ही नज़रे कमजोर नही होती बल्कि हाइ ब्लड प्रेशर ( high blood pressure ) और दूसरे कई प्रकार के रोग भी आँखो की रौशनी पर बुरा असर डालते हैं । क्योकि ये रोग जीर्ण सूजन से सम्बन्धित है जो आपके सर से लेकर पैर के नाखून तक के स्वास्थ ( Health ) को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है ।

ऑप्टिक तंत्रिका पर सूजन होने से आँखों में दर्द हो सकता है और पूरी तरह से आँखो की रोशनी भी जा सकती है । मल्टीपल स्केलेरोसिस जैसी बीमारी को रोका नहीं जा सकता है, अच्छी आदतों और दवाओं से थोडा कन्ट्रोल कर सकते हैं । जबकि हाइ ब्लड प्रेशर को अच्छी डाइट, व्यायाम और उच्चरक्तचापरोधी ( antihypertensive ) दवाओं से काबू किया जा सकता है ।


*. सुराक्षात्मक चश्मा पहनें: Wear protective eyewear *चाहे आप रैकेटबॉल खेल रहे हों, ऑफिस में काम कर रहे हों या स्कूल का वैज्ञानिक प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हों । आपको हर जगह सुराक्षात्म चश्मा ( protective eyewear ) पहनना चाहिएसुराक्षात्म चश्मा आपकी आँखों को नुकीले कणों, कैमिकल्स, धूल और दूसरे हानिकारक पदार्थों से बचाएगा ।


*. सनग्लास पहनें *सनग्लास ( Sunglasses ) सिर्फ कूल दिखने के लिए ही नही होते बल्कि इससे आँखो की सुराक्षा भी की जा सकती है । सनग्लास आँखों को मोतियाबिंद और धब्बेदार अध: पतन होने से बचा सकता है ।

इसके अलावा एक अच्छा हैट पहनने से आपकी आँखो को सुरज की रौशनी से भी सुराक्षा मिलेगी । अगर आप सनग्लास पहनना चहाते हैं तो ऐसा सनग्लास पहनिये जो 99 से 100  प्रतिशत UVA और UVB रेडीएशन से आँखो को बचाता हो 

20-20-20 नियम का पालन करें लगातार घंटो तक किसी कम्प्युटर और मोबाइल को देखते रहनेे से आँखो को बहुत भारी नुकसान पहुचता है लेकिन कुछ लोगों का काम ही ऐसा होता है की उन्हे घंटो तक कम्प्युटर के सामने बैठना पडता है तो ऐसे में आँखो को स्वास्थ कैसा रखा जा सकता है ?

इसके लिए आप 20-20-20 रूल को फॉलो कर सकते है जिसके अनुसार अगर आप किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस पर काम कर रहे हैं तो हर 20 मिनट के बाद 20 फीट दूर रखी किसी चीज को 20 सेकण्ड्स तक देखे । इससे आपकी आँखो को कम्प्युटर और मोबाइल की रोशनी से थोडा आराम मिलेगा जिससे आँखो का तनाव कम होगा ।

इसके अलावा बीच-बीच में अपनी आँखो पर ताजा पानी की ठण्डी-ठण्डी छीटे मारते रहें और पालकें को  भी जल्दी-जल्दी छपकाते रहे । पालकें छपकाने से आँखो में आँसू का उत्पादन होता है जिससे आँखे स्वास्थ रहती हैं ।

स्मोकिंग करना छोड़े

स्मोकिंग फेफडों, दिल, बालों दातों और लगभग-लगभग शरीर के हर हिस्से पर बहुत नकारात्मक असर डालती है । लेकिन क्या आप जानते है की स्मोकिंग से आँखो पर भी बहुत बुरा असर पडता है ।

स्मोकिंग करने वाले लोगों में मोतियाबिंद और उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन का खतरा ज्यादा रहता है । लेकिन अच्छी बात ये है की स्मोकिंग छोडने के कुछ समय बाद आपकी आँखे और शरीर का हर हिस्सा स्वास्थ होने लगता है ।

*. अपने परिवार के आँखों के स्वास्थ्य के बारे में जानें *कुछ बिमारीयां और रोग जेनिटिक होते हैं जो माँ-बाप से बच्चें में जाती है कुछ हालतों में आँखो का कमजोर होना अनुवंशिक हो सकता है मतलब माँ-बाप की आँखें कमजोर होने पर बच्चों की भी आँखें कमजोर हो सकती हैं ।

इसलिए आप अपने परिवार की आँखों के स्वास्थ्य के बारे में पुरी जानकारी जुटा लें, इससे आपको अपने आँखो के इलाज में मदद मिलेगी ।

*. अपने हाथों और आँखों के लेंस को साफ रखें *आँखों का किटाणुओं और संक्रमणों के चपेट में आने का खतरा ज्यादा रहता है । जिससे आँखों मे जलन हो सकती है  जिसके कारण आँखों में जलन होती है और उससे आँखो की रौशनी भी कमजोर हो सकती इसलिए आपको अपने हाथों को अच्छी तरह थोना चाहिए इसके अलावा अगर आप लेंस पहनते हैं तो उसे भी साफ रखें और डॉक्टर की सलाह के अनुसार उसे समय पर बदलवा दें ।

*. आँखों की रोशनी बढ़ाने के कुछ अन्य उपाय *
1~ अपनी हाथिलियों का कुछ दैर के लिए तब तक रगडे़ जबतक की वो गर्म ना हो जाए, गर्म होने के बाद उन्हे अपने आँखों पर रखें और हाथेली ठण्डी होने पर उन्हे हटा लें इससे आँखो का तनाव कम होता है और हाथों की ऊर्जा से आँखो की रोशनी भी बढ़ती है ।


2~ सुबह उठने के बाद अपने मुँह की ताजा लार को आँखों मे काजल की तरह लगाए इससे भी आँखो की रोशनी बढ़ती है । 3~ नहाने से 10 मिनट पहले अपने पैरों के तलवो की शुद्ध सरसों के तेल से अच्छी तरह मालिश करें इससे आँखो को रोशनी बढ़ती है और लम्बे समय तक मजबूत रहती है ।

4~ आयुर्वेद में आँखो की रोशनी बढ़ाने के लिए एक विधि बताई गई है जिसे सूर्यस्नान ( Sunbathing ) कहते हैं । सूर्यस्नान के लिए आपको किसी समुन्द्र के किनारे जाने की जरूर नही है इसे आप कही भी कर सकते हैं ।

आपको केवल किसी रेतीली जगह या घास पर नंगे पैर खड़े होकर सूरज को देखना है लेकिन ध्यान रहे की आपको केवल उगते हुए या डूबते हुए सूरज को ही देखना है इस समय सूरज से निकलने वाली UV किरणे आँखों को नुकसान नही पहुचा सकती । आप शुरूआत 10 सेकंड से कर सकते है इसके बाद हर दिन 10 सेकड तक बढ़ाते रहें ।

5~ आँखो की रोशनी बढ़ाने के लिए त्राटक बहुत अच्छा माना जाता है ये एक प्रकार का मेडिटेशन है जिसमें जलती हुए मोमबत्ती को तब तक देखना पडता है जबतक की आँखो से आँसू ना निकल जाए । इसको आप 1-2 से ज्यादा ना करें । लेकिन ध्यान रहे की आप त्राटक के दौरान आँखो पर ज्यादा तनाव न डालें इससे समस्या और बढ़ सकती है ।


6~ प्रतिदिन ध्यान ( Meditation ) करें । मेडिटेशन करने से तनाव कम होता है जिससे आँखों को फायदा पहुचता है इसके अलावा प्रतिदिन ध्यान करने कई और फायदे भी होते हैं।


7~ रूई की बत्ती बना कर उन्हे गुलाब जल ( Rosewater ) मे भीगोकर अपनी आँखो पर रख लें और कुछ बूँदें अपनी आँखों में डाल लें इससे आँखों का तनाव कम होगा और नेत्रज्योति भी बढ़ेगी लेकिन ध्यान रहे की किसी घटिया क्वालिटि का गुलाब जल उपयोग न करें इससे आँखों को फायदे की जगह भारी नुकसान पहुचेगा ।


आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए क्या खाए ( What to eat for improving eyesight )

आँखो की रोशनी बढ़ाने के लिए आपको सभी तरह के जरूरी पौषक तत्वों की अवाश्यकता होती है । इन खाद पर्दाथों का सेवन करिये इससे आपकी रौशनी प्राकृतिक रूप से बढ़ेगी ।

1~ ज्यादा मात्रा में सेब और अंगूर खाए ये आँखों को स्वास्थ रखने के साथ रौशनी भी बढ़ाते हैं ।

2~ गाजर खाए क्योकि इनमे अच्छी मात्रा में विटामिन ए ( Vitamin a ) होता है जो आँखो की रौशनी के लिए फायदेमंद है ।

3~ खीरे का जूस भी आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए फायदेमंद माना जाता है ।

4~ अपनी डाइट में पालक को जरूर शामिल करें क्योकि ये खून को साफ करता है और हिमोग्लोविन ( hemoglobin ) को बढ़ाता है तथा आँखो रौशनी भी बढ़ाता है ।

5~ चुकंदर, टमाटर, सलाद, पत्ता गोभी, सोया, हरे मटर, संतरा और खजूर विटामिन A के अच्छेे स्त्रोत हैं जो तेजी से आँखों की रौशनी बढ़ाने में मदद करते हैं

6~ बादाम खाए क्योकि बादाम को भी रौशनी तेज करने के लिए लाभदायक माना जाता है । इसके अलावा ब्लूबेरी का जूस भी आँखो के लिए फायदेमंद होता है ।आँखों के रौशनी बढ़ाने वाली आयुर्वोदिक औषधि ( Ayurvedic herbs for improving eyesight )


आँखों की रोशनी बढ़ाने की आयुर्वेदिक औषधि ( Ayurvedic herbs for improving eyesight )

आयिर्वेद हजारों सालों से लोगो का इलाज करता आया है क्योकि आयुर्वेद में जुडी-बुटियों से इलाज होता है इसलिए हम आपको कुछ आयुर्वेदिक औषधियों के बारे में बता रहे है जो आँखो की रौशनी बढ़ाने में बहुत अच्छी मानी जाती हैं ।

त्रिफला-  त्रिफला में तीन प्रकार के फल होते हैं जो कई  प्रकार की बिमारीयों के इलाज में कामआते हैं इसलिए त्रिफला को तीन फलों से नाम से भी जाना जाता है । त्रिफला के फायदे केवल आयुर्वेद ही नही बताता बल्कि हाल ही की कई रीसर्चो में पता चला है की त्रिफला की ड्रॉप आँखों में डालने से आँखों की सूजन, लालपन, और तनाव कम होता है । 


त्रिफला विटामीन सी और एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्त्रोत होता है जो आँखो को तनाव के कारण होने वाले नुकसान से बचाते हैं ।रीसर्चों के आधार पर ये साफ हो जाता है की आँखो की रौशनी बढ़ाने के लिए त्रिफला एक अच्छा supplement है । आप त्रिफला को पाऊडर, कैप्सूल और चाय के रूप में ले सकते हैं

जिन्कगो बिलोबा- जिन्कगो बिलोबा का आज पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है । ज्यादातर इसका प्रयोग मानसिक स्वास्थ और दिमाग के टॉनिक के रूप में किया जाता है और इससे शरीर में रक्तसंचार भी सही रहता है । प्राकृतिक एंडीऑक्सीडेंट होने के कारण इसे आँखों के लिए भी लाभकारी माना जाता है ।

आवंला- आवंले में विटामिन सी अधिक मात्रा में होता है और ये एक एंटीऑक्सीडेंट भी है जो आँखों की रौशनी बढ़ाने और उसे लम्बे समय तक बनाए रखने मे मदद करता है ।

सेब का मुरब्बा- सेब का मुरब्बा डेली सेब के मुरब्बो खाने से आँखो की रौशनी तेज रहती है । सेब के मुरब्बा खाने के बाद ऊपर से एक गिलास दूध पी लें इससे आँखों की रौशनी बढ़ने के साथ शारीरिक स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा ।

सौफ- सौफ में मौजूद कई गुणकारी तत्व और एंटीऑक्सीडेंट इसे बहुत लाभकारी बना देते हैं । प्रतिदिन एक चम्मच सौफ के पाऊडर के साथ एक गिलास दूध लेने से आँखों की रौशनी भी बढ़ती है ।


इन्हे भी पढ़े- नजर उतारने के टोटके। बुरी नजर से बचने के सबसे सरल और अचूक उपाय।

इसे भी पढ़े:> अनवांटेड किट खाने की विधि। अनवांटेड 72 किट कैसे खाए। अनवांटेड किट इन हिंदी।

इसे भी पढ़े:> अदरक के रस के फायदे। अदरक के जूस के 10 फायदे। सेहत के लिए कमाल का है अदरक

इसे भी पढ़े:> चेहरे पर आलू के रस के फायदे Chehre per aalu ke ras ke fayde

इसे भी पढ़े:> गन्ने के रस के फायदे गन्ने का रस इतना फायदा दे सकता है, यह आपने सोचा भी नहीं होगा।

तो दोस्तो हमें उम्मीद है की आपको हमारा ये आर्टिकल आँखों की रोशनी कैसे बढ़ाए ( Aankhon ki roshni kaise badhaye / how to improve eyesight in hindi ) जरूर पसंद आया होगा अगर पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तो और Relatives के साथ जरूर शेयर करें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here