कुत्ते बिल्ली तथा अन्य जानवर पानी कैसे पीते हैं

कुत्ते बिल्ली तथा अन्य जानवर पानी कैसे पीते हैं

पानी पीने वाले अनोखे जानवर कौन-कौन से हैं |

cat

जब इंसान पानी पीता है , तब यह सोचता है कि वह पानी पीने के लिए हाथ या फिर गिलास का उपयोग करता है | लेकिन यह बात एक दम सच नहीं है | पानी पीने के लिए गालों का होना भी जरूरी होता है | पानी पीने में गाल अहम भूमिका निभाते हैं | बिना गालों के पानी पीने में बहुत ही मुश्किल होती है तथा पानी आसानी से नहीं पी सकते हैं |

जानवरों की बात करें तो जानवरों में भी यही प्रक्रिया लागू होती है | छोटे गाल वाले जानवर पानी नहीं पी पाते हैं | इसलिए वह अलग अलग तरीके अपनाते हैं, पानी पीने के और अलग-अलग तरीकों से पानी पीते हैं |

dog

कुत्ते पानी पीने के लिए अपनी जीभ को पीछे की तरफ मोड़ते हैं | कुत्ते अपनी जीभ को पानी में डालकर के पानी को स्कोप करते हैं | इस तरह से यह प्रक्रिया वह लगातार करते हैं तथा पानी पी लेते हैं | कमाल का तरीका है ना कुत्तों के पानी पीने का , शायद ही इसके बारे में आपको पहले किसी ने बताया होगा | यदि आपके आसपास भी कोई कुत्ता हो तो आप एक बार जरूर नोट करना कि वह आखिरकार पानी कैसे पीता है |

बिल्ली के पानी पीने का तरीका कुछ अलग है | बिल्ली अलग तरीके से पानी को पीती है | बिल्ली पानी पीने के लिए जीभ को पानी के ऊपर टच करती है | जिससे कि पानी बिल्ली की जीभ के साथ चिपक कर उसके मुंह में आ जाता है |

क्योंकि बिल्ली की जीभ पर हजारों माइक्रोस्कोप होते हैं | जिसकी मदद से पानी बिल्ली की जीभ पर चिपक जाता है और बिल्ली पानी पीने में कामयाब हो जाती है | इसीलिए जब बिल्ली अपनी जीभ को मुंह में लेती है तो पानी जीव के साथ ही अपने आप मुझे में आ जाता है और बिल्ली पानी पी लेती है |

cat

बिल्ली पानी पीने के लिए अपनी जीभ को एक सेकंड में 4 बार अंदर बार करती है |

पक्षियों के पास भी गाल नहीं होते हैं | इसलिए इनके पानी पीने का तरीका भी अलग होता है | पक्षी पानी पीने के लिए अपनी चोच में पानी को भर कर के अपने सिर को ऊपर करके पानी को घटक लेती है | इस प्रकार पक्षी पानी पीते हैं | यही तरीका है पक्षियों के पानी पीने का जो कि बहुत ही कमाल का है |

इसके विपरीत कबूतर के पानी पीने का तरीका अलग होता है | कबूतर अपनी चोच को बंद करके एयर टाइट सील बना लेते हैं | जैसे कि इसकी जीभ पिस्टन तथा चोच पंप का कार्य करने लग जाती है और कबूतर पानी पी लेता है |

pigeon

बाकी पक्षियों को पानी पीने के लिए सर को ऊपर उठाना पड़ता है | जबकि कबूतर बिना अपने सर को ऊपर उठाएं भी पानी पी सकते हैं |

रेगिस्तानी इलाकों में पानी की बहुत कमी होती है | रेगिस्तान में पाए जाने वाले कीड़े पानी पीने के लिए अलग तरीकों का इस्तेमाल करते हैं | क्योंकि रेगिस्तान में पानी का कोई भी स्रोत नहीं होता है |

cat

इसलिए वहां के कीड़े पानी पीने के लिए एक ऊंची जगह पर चले जाते हैं | ऊंची जगह पर जाने के बाद में वह अपना सर नीचे की तरफ कथा तथा पीछे का हिस्सा ऊपर की तरफ कर लेते हैं | यानी कि वह अपने सिर के बल पर खड़ा हो जाता है | इसके बाद में जब समुद्र की ठंडी हवा का झोंका इन तक पहुंचता है | यह ठंडी हवा रेगिस्तान की गर्म हवा से मिलकर के कोहरे का निर्माण करती है | यह कोहरा बीटल की पीठ पर बूंदों के रूप में जमा हो जाता है |

कुछ समय बाद पानी नीचे की तरफ खिसकने लगता है क्योंकि बीटल अपनी सिर के बल पर खड़ा है | इसलिए पानी सीधा बीटल के मुंह में जाता है और वह पानी पी लेता है | है , ना बीटल के पानी पीने का कमाल का तरीका |

dog cat