Baby boy symptoms – चौथे महीने में गर्भ में लड़का होने के लक्षण सच है या झूठ ?

Baby boy symptoms : लड़का पैदा होने के लक्षण, क्या सच है क्या झूठ

गर्भ में लड़का होने को लेकर के लोगों ने बहुत सारी भ्रांतियां फैली हुई है । आज हम उन भ्रांतियां की सच्चाई के बारे में आपको बताएंगे । अधिकतर लोग गर्भ में लड़का होने को लेकर के कौन-कौन सी भ्रांतियां सुनते आए हैं और फैलाते हैं ।

प्रत्येक व्यक्ति अपने होने वाली संतान को लेकर के जिज्ञासु होता है । वह हमेशा ही यह बात जानने की कोशिश करता रहता है कि हमारी होने वाली संतान लड़का होगा या फिर लड़की होगी ।

लेकिन भारत में प्रसव से पूर्व भ्रुण लिंग की जांच करना कानूनन अपराध है । ऐसा करते हुए पाए जाने पर सजा और जुर्माना दोनों हो सकता है ।

नोट – यह वेबसाइट इस तरह की किसी भी गतिविधि को बढ़ावा नहीं देती है । इस लेख का मुख्य उद्देश्य लोगों तक जानकारी पहुंचाना है ।

लड़का पैदा होने पर मिलने वाले संकेत और उनकी सच्चाई के बारे में विस्तार से जानते हैं ।

मॉर्निंग सिकनेस नहीं होने पर होता है पेट में लड़का ?

भ्रम : ऐसा माना जाता है कि प्रेगनेंसी के दौरान यदि महिला को मॉर्निंग सिकनेस जैसे कि मितली आदि नहीं हो तो यह लड़का होने की ओर संकेत करता है ।

सच्चाई : मॉर्निंग सिकनेस प्रेगनेंसी का सामान्य लक्षण होता है । इसी से ही पता चलता है कि महिला गर्भवती औरत प्रेग्नेंट है । 70 से 80% महिलाओं में मॉर्निंग सिकनेस होता है । मॉर्निंग सिकनेस प्रेगनेंसी के पहली तिमाही में खत्म हो जाता है ।

स्तनों की साइज में वृद्धि होना बेबी बॉय की ओर संकेत करता है ?

भ्रम : ऐसा माना जाता है कि प्रेगनेंसी के दौरान यदि महिला का दाहिना बूब्स बड़ा हो जाता है तब पेट में लड़का होने की ओर संकेत करता है ।

सच्चाई : ब्रेस्ट की साइज में वृद्धि होना और ब्रेस्ट की साइज में बदलाव होना ,यह कोई सटीक प्रमाण नहीं होता है कि गर्भवती महिला की होने वाली संतान बेबी बॉय होगा । प्रेगनेंसी के दौरान महिला के हार्मोन में बदलाव के कारण , रक्त संचार में वृद्धि होने के कारण स्तनों की साइज में बदलाव आता है। कई बार स्तनों में सूजन आने की वजह से भी स्तन बड़े लगते हैं ।

प्रेगनेंसी के दौरान हाथ पैर ठंडे रहने पर पेट में बेटा होने की ओर संकेत करता है ?

भ्रम : ऐसा माना जाता है कि यदि प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला के हाथ पैर ठंडे रहते हैं , तब यह पेट में बेबी बॉय अर्थात लड़का होने की ओर संकेत करता है ।

सच्चाई : गर्भावस्था के दौरान पैरों का ठंडा रहना सामान्य बात होती है । कई बार यह डायबिटीज के कारण भी हो सकता है । कुछ महिलाओं में ब्लड सरकुलेशन असंतुलन के कारण भी पैर ठंडे रहते हैं।

गर्भवती महिला के पेशाब से जाने पेट में लड़का है या लड़की

भ्रम : ऐसा माना जाता है कि पर्याप्त पानी पीने के पश्चात भी यदि गर्भवती महिला के पेशाब का रंग पीला होता है तो पेट में बेटा होने की ओर संकेत करता है ।

सच्चाई : प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला के पेशाब के रंग में बदलाव होना पेट में पल रहे शिशु के लिंग से कोई लेना देना नहीं होता है । पेशाब कारण कम पानी पीने की वजह से भी पीला हो सकता है । यदि गर्भवती महिला कोई दवाई का सेवन कर रही है तो इसके कारण भी गर्भवती महिला के पेशाब का रंग पीला हो सकता है ।

प्रेगनेंसी में मूड स्विंग्‍स होने पर लड़का होगा या लड़की होगी ?

भ्रम : ऐसी मान्यता है कि प्रेगनेंसी के दौरान यदि गर्भवती महिला का मूड बार-बार बदल रहा है तो यह लड़का होने की ओर संकेत करता है ।

सच्चाई : प्रेगनेंसी के दौरान महिला के मूड में बदलाव आना उसकी इच्छा अनइच्छा में बदलाव आना , पसंद और नापसंद में बदलाव आना हारमोंस के कारण होता है । क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान हार्मोन में काफी तेजी से बदलाव होता है । जिसके कारण महिला का मूड स्विंग्‍स होता है । मूड स्विंग्‍स का गर्भ में पल रहे शिशु के जेंडर से कोई लिंक नहीं होता है ।

प्रेगनेंसी में नमकीन या खट्टा खाने की इच्छा होने पर होता है लड़का ?

भ्रम : अधिकतर लोगों का ऐसा मानना है कि प्रेगनेंसी के दौरान यदि गर्भवती महिला को नमकीन चीजें खाने की या खट्टी चीजें खाने की इच्छा होती है तो यह पेट में बेटा होने की ओर संकेत करता है ।

सच्चाई : प्रेगनेंसी के दौरान हार्मोन में जल्दी-जल्दी बदलाव होने के कारण महिला को कभी नमकीन चीजें खाने की इच्छा होती है तो कभी खट्टी चीजें खाने की इच्छा होती है । हार्मोन में बदलाव होने के कारण ही महिलाओं की पसंद , नापसंद मूड में बदलाव आना जैसे लक्षण प्रकट होते हैं ।