चंद्रप्रभा वटी के उपयोग और फायदे नुकसान , चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि , वटी कंपनी नेम लिस्ट ,चंद्रप्रभा वटी से नाइटफाल को कैसे रोकें

चंद्रप्रभा वटी के उपयोग और फायदे नुकसान चंद्रप्रभा। चंद्रप्रभा वटी से नाइटफाल को कैसे रोकें। चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि । चंद्रप्रभा वटी के फायदे। चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि । वटी कंपनी नेम लिस्ट। चन्द्रप्रभा वटी की खुराक , chandraprabha vati uses in hindi . चंद्रप्रभा वटी के उपयोग। चन्द्रप्रभा वटी साइड इफेक्ट्स नुकसान। चंद्रप्रभा वटी से नाइटफाल को कैसे रोकें या दूर करें।

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – benefit of chandraprabha vati .

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – benefit of chandraprabha vati . आज हम चंद्रप्रभा वटी के फायदे के बारे में जानेंगे की चंद्रप्रभा वटी के कौन-कौन से बेनिफिट है । चंद्रप्रभा वटी के उपयोग और फायदे नुकसान चंद्रप्रभा। चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि ।वटी कंपनी नेम लिस्ट। चंद्रप्रभा वटी से नाइटफाल को कैसे रोकें।

चंद्रप्रभा वटी का मतलब क्या है ? Chandraprabha vati ka matlab kya hota hai ?

चंद्रप्रभा वटी का मतलब क्या है ? Chandraprabha vati ka matlab kya hota hai ? आइए सबसे पहले हम चंद्रप्रभा वटी के मतलब के बारे में जानते हैं कि इस नाम का मतलब क्या होता है । आयुर्वेद के अनुसार चंद्र अर्थात चंद्रमा होता है । जब की प्रभा वटी यानी कि उजाला होता है ।

आयुर्वेद के अनुसार जो व्यक्ति चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ) खाता है उसका मुंह चंद्रमा के समान हो जाता है । यानी कि चेहरे पर ग्लो आ जाता है और चेहरा चमकने लगता है और इसका सेवन 35 वर्ष से ऊपर वाले व्यक्तियों को रोजाना करना चाहिए ।

यदि इन दोनों नाम को मिला करके इसका अर्थ निकाला जाए तो चांद के समान चमकने वाला होता है । यानी कि चांद के जैसा चमकने वाला ।

चंद्रप्रभा वटी बनाने में काम आने वाली सामग्री ( Ingredients) – chandraprabha vati banane mein kaam aane wale Ingredients .

चंद्रप्रभा वटी बनाने में काम आने वाली सामग्री ( Ingredients) – chandraprabha vati banane mein kaam aane wale Ingredients . Chandraprabha Vati Active Ingredients in Hindi: अब हम जानेंगे कि चंद्रप्रभा वटी बनाने में किन किन सामग्री (Ingredients) का इस्तेमाल किया जाता है । कौन-कौन से Ingredients से मिलकर के चंद्रप्रभा वटी बनी होती है।

chandraprabha vati ingredients .

chandraprabha ingredients name : कपूर , नागरमोथा , चिरायता , गिलोय , देवदास , हल्दी , पीपली , पीपली मूल , हरड़ , बहेड़ा , आंवला , धनिया , गज पीपली , सोंठ , काली मिर्च , भस्म , नमक, काला नमक , सेंधा नमक , छोटी इलायची के बीज , कबाब चीनी , गोखरू , तेजपत्ता , दालचीनी , वंशलोचन , बड़ी इलायची , लोभस्म, मिश्री, शिलाजीत । इसके अलावा भी और कई वस्तुओं को मिलाया जाता है ।

दिव्य चंद्रप्रभा वटी को खरीदने के लिए नीचे दिए गए Buy Now Button पर click करके चंद्रप्रभा वटी को खरीद सकते हो ।

Divya Chandraprabha VatiBUY NOW
Sri Sri Tattva Chandraprabha Vati BUY NOW
Zandu Chandraprabha Vati BUY NOW
Baidyanath Chandraprabha Bati BUY NOW

चंद्रप्रभा वटी कौन-कौन सी कंपनी की आती है ? Which company belongs to Chandraprabha Vati?

चंद्रप्रभा वटी कौन-कौन सी कंपनी की आती है ? Which company belongs to Chandraprabha Vati? मार्केट में चंद्रप्रभा वटी आपको कई कंपनियों की मिल जाएगी । चंद्रप्रभा वटी किसी एक कंपनी की नहीं आती है । बहुत सारी ऐसी कंपनियां है जो कि चंद्रप्रभा वटी का उत्पादन या फिर निर्माण करती है ।

चंद्रप्रभा वटी कंपनी नेम लिस्ट – chandraprabha vati company name list .

चंद्रप्रभा वटी कंपनी नेम लिस्ट – chandraprabha vati company name list . चंद्रप्रभा वटी बनाने वाली पॉपुलर कंपनी के नाम की लिस्ट नीचे दी गई है । यह पॉपुलर कंपनियां चंद्रप्रभा वटी का निर्माण करती है ।

1 . हिमालय की चंद्रप्रभा वटी – Himalaya ki chandraprabha vati .
2 . डाबर की चंद्रप्रभा वटी – dabar ki chandraprabha vati .
3 . झंडू की चंद्रप्रभा वटी – jhandu ki chandraprabha vati
4 . पतंजलि की चंद्रप्रभा वटी – Patanjali ki chandraprabha vati .
5 . बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी – baidyanath chandraprabha vati .
6 . श्री श्री चंद्रप्रभा वटी – Shri Shri chandraprabha vati .

1 हिमालय की चंद्रप्रभा वटी हिमालय
2 डाबर की चंद्रप्रभा वटी डाबर
3 झंडू की चंद्रप्रभा वटी झंडू
4 पतंजलि की चंद्रप्रभा वटी पतंजलि
5 बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी बैद्यनाथ
6 श्री श्री चंद्रप्रभा वटी श्री श्री

Benefit of chandraprabha vati . Chandraprabha Vati ke Fayde.

Benefit of chandraprabha vati . Chandraprabha Vati ke Fayde. चंद्रप्रभा वटी के उपयोग और फायदे (Uses And Benefits Of Chandraprabha Vati in Hindi) . divya chandraprabha vati benefits in hindi .चंद्रप्रभा वटी के फायदे। chandraprabha vati ke fayde . चंद्रप्रभा वटी के फायदे और नुकसान , चंद्रप्रभा वटी के गुण और फायदे ।

1 . Peshab mein jalan – पेशाब में जलन। Benefit of chandraprabha vati .

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – यदि आपको पेशाब में जलन हो रही है तब आपको चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए । चंद्रप्रभा वटी के सेवन से पेशाब में जलन नहीं होती है । पेशाब में जलन से संबंधित किसी भी प्रकार की शिकायत और समस्या है तो आपको चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना शुरू कर देना चाहिए । चंद्रप्रभा वटी के सेवन के कुछ ही दिनों बाद में आपको चमत्कारिक रुप से लाभ प्राप्त होगा । चंद्रप्रभा वटी पेशाब में जलन को दूर करती है और पेशाब में जलन की समस्या से छुटकारा दिलाती है जिससे की पेशाब के जलन में फायदा होता है

2 . किडनी स्टोन या पथरी (ASHMARI ). Benefit of chandraprabha vati .

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – यदि किसी को पथरी की समस्या रहती है और बार-बार शरीर में पथरी बनती रहती है तो उसे नियमित रूप से चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए । उसे चंद्रप्रभा वटी लेनी चाहिए । यदि चंद्रप्रभा वटी का नियमित रूप से सेवन किया जाए और इसका इस्तेमाल किया जाए तो शरीर में पथरी की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है । चंद्रप्रभा वटी किडनी स्टोन अर्थात पथरी में फायदा पहुंचाती है।

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – चंद्रप्रभा वटी के सेवन से पथरी की समस्या को जड़ से खत्म किया जा सकता है आप को नियमित रूप से चंद्रप्रभा वटी का निर्देशानुसार सेवन करना होगा । कुछ समय बाद में आपको रिजल्ट खुद पता चल जाएगा ।

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – चंद्रप्रभा वटी पथरी से संबंधित समस्याओं को दूर करने में मददगार साबित हो सकती है । रोजाना चंद्रप्रभा वटी का सेवन करें और पथरी से संबंधित समस्याओं को दूर भगाएं ।

3 . अपच – vibandha ( Constipation ) Benefit of chandraprabha vati .

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – जिन व्यक्तियों को आपस की प्रॉब्लम रहती है । उसे चंद्रप्रभा वटी का सेवन अवश्य करना चाहिए । चंद्रप्रभा वटी अपच की समस्या को दूर करती है । चंद्रप्रभा वटी का सबसे बड़ा फायदा अपच में होता है ।

अपच यानी कि भोजन का पेट में सही तरीके से पाचन नहीं होना भी एक तरह की पेट से संबंधित बीमारी है । इसका समाधान भी बहुत जरूरी है । नहीं तो आपका खाया पिया बिल्कुल भी अंग नहीं लगेगा ।

खाने का पाचन सही ढंग से नहीं होता है । अपच की शिकायत रहती है । पेट में गैस बनती है । इन सभी समस्याओं के निदान के लिए चंद्रप्रभा वटी का सेवन शुरू कर दें ।

4 . पेट दर्द – Shoola ( Abdominal pain ) Benefit of chandraprabha vati .

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – पेट दर्द भी एक आम समस्या है । यह किसी के साथ भी हो सकता है । लेकिन काफी समय से पेट में दर्द हो रहा है और जांच करवाने के बाद में भी कुछ नहीं आ रहा है तब एक बार आपको चंद्रप्रभा वटी का सेवन करके जरुर देखना चाहिए । जिन व्यक्तियों के पूरे पेट में या फिर पेट के नीचे वाले हिस्से में दर्द रहता है । सोनोग्राफी या फिर एक्सरे के बाद में खुद पता नहीं चलता है । उनको चंद्रप्रभा वटी का नियमित सेवन करना चाहिए । पेट के दर्द को दूर करके पेट दर्द में फायदा पहुंचाती है चंद्रप्रभा वटी ।

लड़कियों में मासिक चक्कर के दौरान होने वाला दर्द ऐसे नहीं होता है । काफी पीड़ा का अनुभव होता है और लड़कियां इससे काफी परेशान भी हो जाती है । लेकिन यदि मासिक धर्म के दौरान चंद्रप्रभा वटी का सेवन करें तो इसमें आपको आराम और लाभ मिलेगा । लड़कियां मासिक चक्र के दौरान होने वाले पेन से छुटकारा पाने के लिए भी चंद्रप्रभा वटी का सेवन कर सकती है । इससे भी उनके पेट में राहत मिलेगी ।

5 . मूत्र विकार – Mutrakrichar ( Dysuria ) Benefit of chandraprabha vati .

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – कभी कबार हम किसी मुसीबत के चलते हुए समय पर टॉयलेट नहीं कर पाते हैं और टॉयलेट को जबरदस्ती रोके रखते हैं । जिसके कारण हमारे प्राइवेट पार्ट के हिस्सों में दर्द होने लगता है । इस दर्द को खत्म करने के लिए भी चंद्रप्रभा वटी काफी फायदेमंद होती है । चंद्रप्रभा वटी के सेवन से मूत्र विकार दूर होता है । चंद्रप्रभा वटी मूत्र विकार के रोगों में फायदेमंद साबित होती है ।

6 . पेट में भारिपन – Anaha ( Bloating ) Benefit of chandraprabha vati .

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – हमें कभी भी जबरदस्ती हमारे मित्र को नहीं रुकना चाहिए क्योंकि यह हमारे शरीर की अंदरूनी नसों को कमजोर करता है । यदि आवश्यक ना हो तो मूत्र कभी बिना रोकें । यदि हम कुछ भी खाते या फिर पीते हैं जिसके कारण पेट में भारीपन सा रहता है । यदि आपको भी खाने पीने के कारण पेट फुला हुआ तथा पेट में भारीपन रहता है तो आपको चंद्रमा प्रभा वटी का नियमित सेवन करना चाहिए । यदि किसी के पेट में भारीपन रहता है तो चंद्रप्रभा वटी के सेवन से पेट के भारीपन को दूर किया जा सकता है । क्योंकि चंद्रप्रभा वटी पेट के भारीपन को दूर करने में फायदेमंद साबित होती है ।

7 . मुत्र का रुक रुक कर आना – Mutraghata ( urinary obstruction )

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – कई बार जब हम मूत्र करते हैं । तो मुत्र पूरा नहीं आता है । वह अंदर ही रुक जाता है या फिर कई बार मुत्र रुक रुक के थोड़ी थोड़ी देर बाद में आता है । जिनको रुक रुक कर पेशाब आने की समस्या रहती है । उन को नियमित रूप से चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए ।

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – मूत्र का रुक रुक कर आना सही नहीं माना जाता है यह किसी रोग और बीमारी का संकेत भी हो सकता है । इसलिए आपको अपने डॉक्टर से जांच जरूर करवानी चाहिए । यदि यह ज्यादा नहीं है तो कोई बात नहीं , चंद्रप्रभा वटी के सेवन से इसे दूर किया जा सकता है । लेकिन शिकायत ज्यादा है तब आपको एक बार डॉक्टर से परामर्श जरूर करना चाहिए । जिस किसी को भी मत तक रुक रुक कर आने की समस्या है , उन्हें भी चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए । यह मूत्र को रुक रुक कर आने की समस्या को दूर करती है और मूत्र विकार को दूर करने में मदद करके आपको फायदा पहुंचाती है ।

8 . खून की कमी – Pandu ( anemia , liver problem )

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – जिन व्यक्तियों को खून की कमी रहती है या फिर जिनके शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा कम होती है उन व्यक्तियों को चंद्रप्रभा वटी को लेना चाहिए । अधिकतर एनीमिया की शिकायत महिलाओं को होती रहती है और महिलाओं को खून की कमी भी रहती है । इसलिए महिलाओं को चंद्रप्रभा वटी लेनी चाहिए ।

खून की कमी को पूरा करने के लिए चंद्रप्रभा वटी के सेवन के साथ-साथ अन्य खाद्य पदार्थों को भी अपने आहार और डाइट में शामिल करना चाहिए । आपको ज्यादा से ज्यादा हरी पत्तेदार सब्जियां , फल फ्रूट , ड्राई फ्रूट , दूध , पनीर आदि प्रोटीन विटामिन से भरपूर चीजें खाने में शामिल कर दें इससे भी खून की कमी को दूर कर सकते हो । चंद्रप्रभा वटी के सेवन से पुरुषों को और महिला को यह फायदा होता है कि यह शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाती है और शरीर में खून की कमी को दूर करके एनीमिया की शिकायत को दूर करती है ।

9 . लीवर प्रॉब्लम – Haleemaka ( liver cirrhosis )

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – चंद्रप्रभा वटी के नियमित सेवन से लीवर से संबंधित समस्या को दूर किया जा सकता है ।‌ जिन व्यक्तियों के लिवर में प्रॉब्लम रहती है या फिर लीवर से संबंधित कोई समस्या है । उनके लिए चंद्रप्रभा वटी काफी अच्छी दोस्ती है । लिवर में प्रॉब्लम के कारणों से हो सकती है । जैसे कि अनियमित तथा अनहेल्दी खानपान की वजह से या फिर रेगुलर एक्सरसाइज नहीं करने की वजह से भी हो सकता है । लीवर के रोगों के लिए और लीवर के मरीजों के लिए चंद्रप्रभा वटी सबसे बेस्ट और सबसे अच्छी दवा मानी जाती है क्योंकि चंद्रप्रभा वटी के सेवन से लीवर से संबंधित विकार दूर होते हैं और चंद्रप्रभा वटी लीवर के रोगों में फायदा पहुंचाती है ।

10 . हर्निया – Antravruddhi ( hernia )

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – जिन व्यक्तियों को हर्निया की शिकायत रहती है या फिर जिनको हर्निया है । उनको भी नियमित रूप से चंद्रप्रभा वटी लेना चाहिए जो कि हर्निया में काफी लाभदायक होती है । हर्निया वाले मरीज यदि चंद्रप्रभा वटी का सेवन करते हैं तो चंद्रप्रभा वटी बने बहुत अधिक फायदा पहुंचाती है हर्निया वाले मरीजों को तो चंद्रप्रभा वटी नियमित रूप से सेवन करना चाहिए ।

चंद्रप्रभा वटी के फायदे
1 पेशाब में जलन।
2 किडनी स्टोन या पथरी
3 अपच
4 पेट दर्द
5 मूत्र विकार
6 पेट में भारिपन
7 मुत्र का रुक रुक कर आना
8 खून की कमी
9 लीवर प्रॉब्लम
10 हर्निया

Benefit of chandraprabha vati: चंद्रप्रभा वटी शारीरिक और मानसिक बीमारियों में कैसे फायदा पहुंचाती है ?

Benefit of chandraprabha vati: चंद्रप्रभा वटी शारीरिक और मानसिक बीमारियों में कैसे फायदा पहुंचाती है ? जो व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से काफी परेशान है उन को नियमित रूप से चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए क्योंकि नियमित रूप से चंद्रप्रभा वटी सेवन करने पर शारीरिक और मानसिक बीमारियों में लाभ प्राप्त होता है और यह उन्हें फायदा पहुंचाती है । जिन लोगों को थोड़ी सी शारीरिक परिश्रम करने के बाद में बहुत ज्यादा ही थकान महसूस होती है और तनाव का अनुभव होता है और लोगों के लिए चंद्रप्रभा वटी बहुत ही अच्छा और रामबाण नुस्खा है ।

चंद्रप्रभा वटी लेने से शारीरिक थकान कमजोरी दूर होती है और मानसिक बीमारियों में स्मरण शक्ति की कमजोरी को दूर करके स्मरण शक्ति तेज करती है । चंद्रप्रभा वटी एक प्रकार का टॉनिक होता है । यह हमारे शरीर से टॉक्सिन पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है ।

चंद्रप्रभा वटी वीर्य संबंधित रोगों में लाभदायक । Chandraprabha vati virya sambandhit rogon mein labhdayak .

चंद्रप्रभा वटी वीर्य संबंधित रोगों में लाभदायक । Chandraprabha vati virya sambandhit rogon mein labhdayak . जब पुरुषों के शरीर में वीर्य की कमी होती है तब शरीर पीला पड़ जाता है थोड़े से काम से थकान महसूस होती है आंखें अंदर धंस जाती है और भूख कम लगती है यह लक्षण वीर्य की कमी के होते हैं । वीर्य से संबंधित रोगों को दूर करने में चंद्रप्रभा वटी बहुत अधिक फायदेमंद होती है । विर्य और धातु से संबंधित सभी रोग चंद्रप्रभा वटी के सेवन से दूर होते हैं । इसके साथ ही चंद्रप्रभा वटी नाईट फॉल अस्तर स्वपनदोष में भी फायदा पहुंचाती है ।

चंद्रप्रभा वटी रक्त धातु को बढ़ाने में मदद करती है । चंद्रप्रभा वटी से स्पर्म काउंट में वृद्धि होती है । चंद्रप्रभा वटी रक्त शोधन का काम करती है साथ ही रक्त के निर्माण में भी सहायक होती है । स्वपनदोष होने पर चंद्रप्रभा वटी को गुड्डू ठीक वाद के साथ में सेवन करना चाहिए चंद्रप्रभा वटी कमजोर शुक्रवाहिनी को फिर से पहले वाली अवस्था में लाने का काम करती है ।‌

चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि । चन्द्रप्रभा वटी की खुराक: (Chandraprabha vati ki khurak)

चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि । चन्द्रप्रभा वटी की खुराक: (Chandraprabha vati ki khurak) आइए जानते हैं कि divya chandraprabha vati के सेवन की विधि क्या है ? यानी कि चंद्रप्रभा वटी की खुराक किस तरह से लेना चाहिए और divya chandraprabha vati कि खुराक का सेवन किस विधि से करना चाहिए ।

चंद्रप्रभा वटी के सेवन की विधि एक समान होती है लेकिन चंद्रप्रभा वटी की खुराक की मात्रा बच्चे , बूढ़े , जवान और महिलाओं के लिए अलग-अलग होती है ।

बच्चों के लिए divya chandraprabha vati एक गोली सुबह शाम दोनों समय निश्चित की गई है । जबकि व्यस्क व्यक्ति के लिए चंद्रप्रभा वटी की दो से तीन गोली प्रतिदिन सुबह-शाम दोनों टाइम निश्चित की गई है ।

चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि : यदि महिला और पुरुष दोनों में से किसी को मूत्र गर्भाशय और प्रजनन संबंधी समस्या और शिकायत हो तो divya chandraprabha vati की एक गोली खाना खाने से आधा घंटा पहले खुराक के रूप में लेना चाहिए ।

divya chandraprabha vati की गोली को आप गुनगुने पानी और गुनगुने दूध के साथ सेवन कर सकते हो यह चंद्रप्रभा वटी के लेने की सही विधि और तरीका( Vidhi or tarika ) है।

जिन व्यक्तियों को महिला और पुरुष को किसी भी प्रकार की कोई भी शिकायत नहीं है , उन्हें चंद्रप्रभा वटी की एक गोली को खाना खाने के आधे घंटे पश्चात गुनगुने पानी या फिर गुनगुने दूध के साथ ले सकते हो ।

chandraprabha vati uses in hindi . चंद्रप्रभा वटी के उपयोग (Uses Of Chandraprabha Vati in Hindi)

chandraprabha vati uses in hindi . चंद्रप्रभा वटी के उपयोग (Uses Of Chandraprabha Vati in Hindi) chandraprabha vati uses .चंद्रप्रभा वटी का उपयोग अनेक रोगों में upchar और इला ilaj के लिए किया जाता है । divya chandraprabha vati अनेक रोगों में फायदेमंद साबित हुई है । चंद्रप्रभा वटी मधुमेह जैसी खतरनाक और घातक बीमारी को समाप्त करने की क्षमता रखती है । चंद्रप्रभा वटी हमारे शरीर पर बहुत ही असरकारी होती है ।

चंद्रप्रभा वटी का उपयोग कहां कहां किया जाता है ? कौन-कौन से रोगों को ठीक करने के लिए चंद्रप्रभा वटी का उपयोग किया जाता है ?

1 . मधुमेह रोग को ठीक करने के लिए और मधुमेह के upchar और ilaj के लिए divya chandraprabha vati का उपयोग किया जाता है ।

2 . किडनी से संबंधित रोगों के इलाज और उपचार के लिए भी divya chandraprabha vati को औषधि के रूप में upyog or upchar में लिया जाता है ।

3 . मूत्र से संबंधित रोगों के upchar और ilaj के लिए चंद्रप्रभा वटी को ayurvedic dava के रूप में उपयोग में लिया जाता है ।

4 . शारीरिक और मानसिक शक्ति की ताकत को बढ़ाने के लिए divya chandraprabha vati का औषधि के रूप में upyog और इस्तेमाल किया जाता है ।

5 . स्त्री रोगों मैं स्त्री रोगों को ठीक करने के लिए और उनके ilaj और upchar के लिए divya chandraprabha vati का उपयोग में लाया जाता है ।

6 . वीर्य से संबंधित दोष को दूर करने के लिए और विधि से संबंधित upchar और ilaj के लिए divya chandraprabha vati का upyog किया जाता है ।

patanjali chandraprabha vati . chandraprabha vati patanjali.
baba ramdev chandraprabha vati benefits

patanjali chandraprabha vati price. पतंजलि चंद्रप्रभा वटी प्राइस।

patanjali chandraprabha vati price. पतंजलि चंद्रप्रभा वटी प्राइस। chandraprabha vati price: बाबा रामदेव चंद्रप्रभा वटी यानी कि पतंजलि चंद्रप्रभा वटी कितने रुपए में आती है और बाबा रामदेव की पतंजलि चंद्रप्रभा वटी का मूल्य यानी की प्राइस कितना रुपए है ।

दिव्य चंद्रप्रभा वटी यानी कि पतंजलि चंद्रप्रभा वटी जिसे बाबा रामदेव चंद्रप्रभा वटी जी कहा जाता है कि 60 ग्राम की की प्राइस ₹112 है । बाबा रामदेव की दिव्य पतंजलि चंद्रप्रभा वटी की यह price कम ज्यादा भी हो सकती है ।

चंद्रप्रभा वटी बैधनाथ । baidyanath chandraprabha vati hindi

चंद्रप्रभा वटी बैधनाथ । baidyanath chandraprabha vati hindi . बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी ( baidyanath chandraprabha vati ) का उपयोग सूजाक , पेशाब में जलन , कमजोरी आदि रोगों के इलाज और upchar के लिए औषधि के रूप में उपयोग में लिया जाता है । baidyanath chandraprabha vati का upyog असाध्य रोगों के upchar के लिए भी किया जाता है।

1 पतंजलि चंद्रप्रभा वटी प्राइस₹125.00
2 बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी  ₹216.00
3डाबर की चंद्रप्रभा वटी ₹180.00
4झंडू की चंद्रप्रभा वटी₹499.00
5श्री श्री चंद्रप्रभा वटी₹125.00
6हिमालय चंद्रप्रभा वटी प्राइस ₹240.00

बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी के फायदे। baidyanath chandraprabha vati benefits

बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी के फायदे। baidyanath chandraprabha vati benefits . बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी के अंदर मौजूद आंवला शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है साथ ही पाचन तंत्र को मजबूत कर के मूत्र संबंधित विकार को दूर करने का काम करता है । baidyanath chandraprabha vati में मौजूद देवदार मांसपेशियों के दर्द और एंठन को दूर करने का काम करता है।

बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी में मौजूद गुग्गुल चोट के दौरान लगने वाली सूजन को कम करता है । साथ ही पेट की गैस को भी दूर करने का काम करता है । चंद्रप्रभा वटी में मौजूद घटक पसीने की मात्रा को बढ़ा करके शरीर में मौजूद अशुद्धियों को बाहर निकालता है । बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी में मौजूद कपूर लिंग को उत्तेजित करके वीर्य की मात्रा को बढ़ाने का काम करता है ।

बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी मैं मौजूद दालचीनी चोट के दौरान लगने वाली सूजन को कम करती है । साथ ही कामेच्छा को बढ़ाती है और पेट और आंतों में बनने वाली गैस को भी दूर करती है । बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी में मौजूद शीलाजीत टेंशन के दौरान शरीर में होने वाले नुकसान(nuksan) से बचाती है और कामेच्छा को जागृत करती है ।

बैधनाथ चंद्रप्रभा वटी में मौजूद त्रिफला पेट और आंत की गैस को दूर करती है । साथ ही कब्ज की शिकायत को भी दूर करती है । बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी में मौजूद लोहे भस्म हिमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है । साथ ही शरीर में एनीमिया रोग को भी दूर करता है ।

बैद्यनाथ चंद्रप्रभा वटी में मौजूद “जौ” ब्लड शुगर को नियंत्रित करने का काम करता है । इस तरह की दवाओं का इस्तेमाल high blood pressure की दवाओं के रूप में इस्तेमाल किया जाता है ।

डाबर चंद्रप्रभा वटी के फायदे । dabur chandraprabha vati ke fayde aur benefit .

डाबर चंद्रप्रभा वटी के फायदे । dabur chandraprabha vati ke fayde aur benefit . dabur chandraprabha vati के उपयोग और फायदे के रूप में डाबर चंद्रप्रभा वटी का upyog गुर्दे की पथरी और यूरिन से संबंधित problem को दूर करने के लिए ilaj और upchar के लिए किया जाता है ।

चर्म रोगों के उपचार के लिए भी डाबर चंद्रप्रभा वटी का upyog औषधि के रूप में किया जाता है ।

1 . डाबर चंद्रप्रभा वटी में मौजूद कपूर खांसी की समस्या को दूर करता है साथ ही कफ को बाहर निकालने का काम करता है ।

2 . dabur chandraprabha vati में मौजूद “मुस्ता” लीवर को संक्रमण से सुरक्षित करता है । साथ ही लीवर को बेहतर तरीके से काम करने के लिए भी मदद करता है ।

3 . डाबर चंद्रप्रभा वटी में मौजूद “वाचा” नस के ऊपर नस चढ़ने की समस्या को दूर करता है । साथ ही पेशाब के रूप में पानी को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है ।

4 . डाबर चंद्रप्रभा वटी के ingredients “अतीस” बुखार के दौरान तापमान को नियंत्रित करता है । लीवर के नुकसान को भी होता है ।

chandraprabha vati side effects. चन्द्रप्रभा वटी साइड इफेक्ट्स नुकसान।

chandraprabha vati side effects : चन्द्रप्रभा वटी साइड इफेक्ट्स नुकसान। चंद्रप्रभा वटी 0% आयुर्वेदिक दवा है । चंद्रप्रभा वटी के सामान्य रूप से कोई भी साइड इफेक्ट ( side effects) और नुकसान (nuksan) नहीं होते हैं । कभी कबार 1- 2 ऐसे side effects आ जाते हैं जिनमें निम्नलिखित side effects चंद्रप्रभा वटी के देखे जा सकते हैं ।

1 . चंद्रप्रभा वटी के सामान्य साइड इफेक्ट के रूप में मरीज को कभी-कभी पेशाब में जलन हो सकती है।

2 . चंद्रप्रभा वटी के nuksan और side effect के रूप में मरीज को सांस लेने में दिक्कत हो सकती है।

3 . कुछ मरीजों में चंद्रप्रभा वटी के साइड इफेक्ट के तौर पर डायरिया की शिकायत भी रह सकती है ।

4 . चंद्रप्रभा वटी के side effect के रूप में कभी कबार मरीज को मतली आने की समस्या या शिकायत हो सकती है ।

चन्द्रप्रभा वटी नुकसान
1 चन्द्रप्रभा वटी पेशाब में जलन
2 चन्द्रप्रभा वटी सांस लेने में दिक्कत
3 चन्द्रप्रभा वटी मतली आने की समस्या
4 चन्द्रप्रभा वटी डायरिया की शिकायत

chandraprabha vati uses in marathi

chandraprabha vati prostate. पौरुष ग्रंथि के लिए चंद्रप्रभा वटी के फायदे ।

chandraprabha vati prostate: पौरुष ग्रंथि के लिए चंद्रप्रभा वटी के फायदे । चंद्रप्रभा वटी और पौरुष ग्रंथि से संबंधित समस्याओं के निवारण के लिए उपयोग में लाई जाती है । पौरुष ग्रंथि के अंतर्गत मूत्र विकार मूत्र में संक्रमण से संबंधित समस्या स्वपनदोष , नाईट फॉल आदि पौरुष समस्या के इलाज उपचार और निदान के लिए चंद्रप्रभा वटी का उपयोग किया जाता है ।

divya chandraprabha vati for nightfall. चंद्रप्रभा वटी से नाइटफाल को कैसे रोकें या दूर करें।

divya chandraprabha vati for nightfall. चंद्रप्रभा वटी से नाइटफाल को कैसे रोकें या दूर करें। दिव्य चंद्रप्रभा वटी का उपयोग पुरुषों के स्तंभन दोष , नाइटफॉल (nightfall) तथा शीघ्रपतन से संबंधित समस्याओं के इलाज और उपचार के लिए भी किया जाता है । यह इसमें रामबाण दवा साबित होती है ।

वीर्य स्खलन यानी कि नाइटफॉल में वीर्य अपने आप ही निकल जाता है । जब रात्रि में नींद में सो रहे होते हैं तब सोते हुए ही वीर्य निकल जाता है । इसे ही nightfall कहा जाता है । इस nightfall की समस्या को दूर करने के लिए दिव्य चंद्रप्रभा वटी का सेवन किया जाता है ।

पेशाब के साथ में वीर्य का निकलना सही नहीं माना जाता है या कई बार किसी लड़की या महिला के बारे में सोचते ही हमारा वीर्य निकल जाता है । इस तरह की समस्या को चंद्रप्रभा वटी की सहायता से दूर किया जा सकता है ।

औरत या लड़की को देखने से या उसके बारे में सोचने से ही वीर्य निकलने की समस्या है तब आप एक बार चंद्रप्रभा वटी का सेवन करें । आप इस तरह की समस्या से जल्द ही में मुक्त हो जाएंगे ।

मूत्र मार्ग संक्रमण को दूर करने के लिए प्राइवेट अंगों से जुड़ी हुई समस्याओं के निदान के लिए भी चंद्रप्रभा वटी का उपयो upyog किया जाता है ।

divya chandraprabha vati price . चंद्रप्रभा वटी की प्राइस कितनी है ?

आईय अब बाबा रामदेव की दिव्य चंद्रप्रभा वटी के प्राइस की बात करते हैं यानी कि उसके मूल्य की बात करते हैं । बाबा रामदेव की दिव्य चंद्रप्रभा वटी आप online order करके मंगा सकते हैं या फिर आप पतंजलि स्टोर पर संपर्क कर सकते हैं इसके अलावा आप Patanjali store पर जाकर के भी बाबा रामदेव की दिव्य चंद्रप्रभा वटी लेकर आ सकते हैं।

बाबा रामदेव की दिव्य चंद्रप्रभा वटी की प्राइस ऑनलाइन पता स्टोर की प्राइस अलग-अलग हो सकती है लेकिन दिव्य चंद्रप्रभा वटी की ऑनलाइन प्राइस ₹112 है जो कि 60 ग्राम की बोतल में आती है ।

gokshuradi guggulu and chandraprabha vati. गोक्षुरादि गूगल और चंद्रप्रभा वटी के फायदे और उपयोग ।

gokshuradi guggulu and chandraprabha vati. गोक्षुरादि गूगल और चंद्रप्रभा वटी के फायदे और उपयोग । गोक्षुरादि गूगल और चंद्रप्रभा वटी का उपयोग मूत्र विकार को दूर करने के लिए किया जाता है और यह मूत्र विकार का घरेलू आयुर्वेदिक उपचार ( gharelu Ayurvedic upchar ) है ।

महिलाओं को पुरुषों में बार-बार पेशाब आने की शिकायत रहती है या फिर ज्यादा हंसी किया फिर खांसी आने पर भी पैसा निकल आता है इस समस्या के निवारण के लिए गोक्षुरादि गुग्गुल और चंद्रप्रभा वटी का सेवन किया जाता है ।

गोक्षुरादि गूगल और चंद्रप्रभा वटी के सेवन से बार-बार मुख्तर या पेशाब आने की शिकायत दूर होती है । साथ ही यदि गोखरू और गिलोय साथ में मिला जाए आ जाए तब यूरिन में किसी भी प्रकार का infection को दूर किया जा सकता है ।‌

पथरी की किडनी की पेशाब से संबंधित समस्याओं के निवारण में भी यह है क्वाथ या मिश्रण बहुत ही फायदेमंद होता है ।

चंद्रप्रभा वटी परहेज । चंद्रप्रभा वटी में किन किन चीजों का परहेज करना चाहिए । Chandraprabha vati mein kin Ka parhez Karna chahie .

चंद्रप्रभा वटी परहेज । चंद्रप्रभा वटी में किन किन चीजों का परहेज करना चाहिए । Chandraprabha vati mein kin Ka parhez Karna chahie . चंद्रप्रभा वटी के परहेज के बारे में जानते हैं यदि आप चंद्रप्रभा वटी ले रहे हैं सब आपको कुछ बातों का ध्यान रखना है और आपको कुछ चीजों का परहेज करना होगा । यदि आप ऐसा करते हैं तब आप चंद्रप्रभा वटी के फायदे को डबल कर सकते हैं।

यदि आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन कर रहे हैं और आपके शरीर की हालत सही नहीं है और आप डॉक्टर के निर्देश के बिना ले रहे हैं सब आपको चंद्रप्रभा वटी का परहेज करना चाहिए और इसे नहीं लेना चाहिए ।

चंद्रप्रभा वटी के सेवन से पहले पप्पू पतंजलि स्टोर पर या इस दवा की सलाहकार से मिल कर के ही सेवन करना चाहिए अन्यथा इस दवा का परहेज करना चाहिए ।

आज हमने चंद्रप्रभा वटी के फायदे के बारे में जाना कि कौन-कौन से ऐसे बेनिफिट हैं जो कि हमें चंद्रप्रभा वटी से मिलते हैं और हमें चंद्रप्रभा वटी का इस्तेमाल या फिर यूज ( use ) क्यों करना चाहिए । चंद्रप्रभा वटी के उपयोग और फायदे नुकसान चंद्रप्रभा। चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि ।वटी कंपनी नेम लिस्ट। चंद्रप्रभा वटी से नाइटफाल को कैसे रोकें।