चींटी की जीवन की आयु कितनी होती है ? Chinti ki umra kitni hoti hai .

44

चींटी कब सोती है? – चिंटी जमीन के अंदर रहने वाला एक छोटा सा जीव है । चीटियां कभी भी अकेले नहीं रहती है । कि चीटियां हमेशा समूह में रहती है । चीटियां समूह में ही अपना कार्य करती है ।

Chinti ki umra kitni hoti hai – चींटी की उम्र कितनी होती है?

सामान्य Chinti तथा रानी चींटी की उम्र अलग-अलग होती है । एक रानी Chinti की उम्र 15 साल तक हो सकती है । कुछ जगहों पर रानी Chinti की उम्र 30 साल भी बताई गई है । जबकि उसी समय की सामान्य Chinti की उम्र 4 से 7 साल तक हो सकती है ।

इसके अलावा age , Chinti की अलग-अलग प्रजाति तथा nasal पर भी निर्भर करती है । चीटियों की age अलग-अलग होती है ।

Chittiyan kab soti hai – चींटी कब सोती है?

अब आपको जानकर हैरानी होगी की Chinti कभी सोती ही नहीं है । क्योंकि Chinti की Eye नहीं होती है । Chinti बिना थके हुए काम करती रहती है ।

Chinti ke kitne ped hote Hain – चींटियों के दो पेट होते हैं

अलग-अलग जीव में पेट भी अलग-अलग होते हैं । कुछ जिवों में एक पेट होता है तो कुछ जिवों में दो पेट होता है । जबकि चिंटि 2 पेट वाला जीव होता है ।

Chinti kya khati hai – चिट्टियां क्या खाती है?

चींटी को आप सर्वाहारी जीव की श्रेणी में रख सकते हो । क्योंकि चींटी को जो भी मिलता है लगभग वह उसी को ही खा लेती है ।

आपने देखा होगा जहां पर भी चींटी को कुछ भी मिलता है उसी के चारों ओर लग जाती है ।

Chinti ka mukhya bhojan kya hai - चिंटी का मुख्य भोजन क्या है ?

Chinti ka mukhya bhojan kya hai – चिंटी का मुख्य भोजन क्या है ?

1 . वैसे चीटियां फलों को खाती है ।
2 . पेड़ पौधों के बीजों को खाती है ।
3 . मीठी चीजों को खाती है ।

चींटी कौन सी गैस छोड़ती है?

चींटी को अपना रास्ता कैसे पता होता है?

Chinti के सुंधने की capacity बहुत तेज होती है । इसलिए वह छोटी सी smale को भी पहचान लेती है और वहां तक पहुंच जाती है ।

अब बात करते हैं कि दूसरी Chinti को रास्ता कैसे पता चलता है । जब पहली Chinti जहां से गुजरती है वह एक विशेष प्रकार की smale छोड़ती है । उसी गंध को पहचान करके दूसरी चींटी उसका अनुसरण करते करते पहुंच जाती है । इस प्रकार से चीटियां अपना रास्ते का पता लगाती है और रास्ते को खोजती है ।

City ko samajik prani kyon Kaha jata hai – चींटी को सामाजिक प्राणी क्यों कहा गया है?

आपने देखा होगा कि चीटियां समूह के अंदर जमीन के अंदर अपना घर बनाती है और एक ही जगह पर रहती है । सभी चीटियां मिलकर के काम करती है ।‌ इस कारण से चीटियों को सामाजिक प्राणी कहा जाता है ।

जिस प्रकार से मनुष्य समाज में रहकर के अपना कार्य करता है । ठीक उसी प्रकार से चीटियां भी अपना कार्य करती है ।

City ko samajik prani kyon Kaha jata hai - चींटी को सामाजिक प्राणी क्यों कहा गया है?

Chinti ka vaigyanik naam kya hai – चींटी का वैज्ञानिक नाम क्या है?

Chinti का वैज्ञानिक नाम Formicidae hota है।

चींटी का अध्ययन क्या कहलाता है?

कीट विज्ञान की शाखा के अंतर्गत चीटियों का अध्ययन किया जाता है । पिपीलिकाशास्त्र या पिपीलिका जीव विज्ञान की वह शाखा है जिसके तहत चीटियों का अध्ययन किया जाता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here