चिंटी का जो डंक होता है उसमें कौन सा अम्ल होता है । जिसके कारण हमें जलन होती है और वह जगह लाल हो जाती है । चींटी के डंक में फॉर्मिक अम्ल ( formic acid ) होता है जिस के कारण जब चींटी काटती है तब जलन होती है और वह हिस्सा लाल हो जाता है ।

फार्मिक अम्ल चींटी के अलावा मधुमक्खी के डंक तथा बिच्छू के डंक में भी पाया जाता है। जब भी चिंटी या फिर बिच्छू काटता है तो इंसान को और तेज जलन होती है और वह हिस्सा सूजकर के लाल हो जाता है ।

फार्मिक अम्ल लाल चींटी के डंक में पाया जाता है लाल चींटी का लेटिन भाषा में नाम “फॉर्मिका” होता है । इसी फार्मिक अम्ल के कारण चींटी के डंक में पाए जाने वाले अम्ल का नाम फार्मिक अम्ल पड़ा ।

फार्मिक अम्ल कौन कौन से कीड़े और जिवों में होता है ? Formic Acid kaun kaun se jeev mein paya jata hai .

आइए अब जानते हैं कि और कौन-कौन से जीव में फॉर्मिक अम्ल होता है । लाल चिंटी के अलावा ऐसे कौन-कौन से जीव है जिनमें फॉर्मिक अम्ल पाया जाता है । फॉर्मिक अम्ल जिन जिवों में पाया जाता है उनकी लिस्ट और नाम नीचे दिए गए हैं ।

1 . चींटी के डंक में भी फॉर्मिक अम्ल होता है .
2 . बिच्छू के डंक में भी फॉर्मिक अम्ल होता है
3 . जूँआ के डांस में फार्मिक अम्ल पाया जाता है ।
4 . बर्रों के डंक में भी फॉर्मिक अम्ल होता है ।

फार्मिक अम्ल शरीर में कैसे पहुंचता है ? Formic acid sharir mein kaise pahunchta hai .

चींटी के डंक में पाए जाने वाला अमल chiti ke dank mein paye jane wala amal hai

फार्मिक अम्ल हमारे शरीर में कीड़े के काटने के कारण जाता है और जब कोई कीड़ा काटता है तब यह हमारे रक्त में मिल जाता है । जब भी मधुमक्खी , बिच्छू हमें काटती है और खाते हैं तब यह जैसे ही अपना डंक हमारी त्वचा में घुसाते हैं तभी हमारी त्वचा में फार्मिक अम्ल छोड़ देते हैं । जिसके कारण हमें तेज जलन होती है और वह हिस्सा सूज करके लाल भी हो जाता है ।

फॉर्मिक अम्ल क्या होता है ? Formic Amal kya hota hai .

फार्मिक अम्ल एक कार्बनिक यौगिक होता है । फॉर्मिक अम्ल का रासायनिक सूत्र HCOOH होता है । फॉर्मिक अम्ल का उपयोग कार्बनिक पदार्थों के संश्लेषण में , रबड़ को जमाने में तथा रंगाई में किया जाता है ।

Gest Post , Backlink Exchange और sponsorship के लिए हमें नीचे दी गई Email Id पर contact करें। calltohelps@gmail.com