क्या चोट लगने पर गंदे शब्द बोलने से दर्द कम होता है ?

चोट लगने पर गंदे शब्द या फिर गाली निकालते हैं  क्या चोट लगने पर गंदे शब्द बोलने से दर्द कम होता है ? आपने बहुत सारे ऐसे लोगों को देखा होगा जो कि चोट लगने पर गंदे शब्द या फिर गाली निकालते हैं । क्या आपने कभी सोचा है कि चोट लगने पर गंदे शब्द निकालने से या फिर गाली देने से दर्द कम होता है । आज हम इसी के बारे में बात करेंगे ।

वैज्ञानिकों का मानना है कि गंदे शब्द बोलना एक तरह से पेन किलर का काम करता है । उसके दिमाग की धड़कन बढ़ जाती है तथा दिमाग के कुछ हिस्से से सक्रिय हो जाते हैं । जिससे एंडोर्फिन नाम के रसायन निकलते हैं और हमें दर्द बर्दाश्त करने में मदद मिलती है ।

इससे हमें बहुत ही खतरनाक परिस्थितियों से निपटने में मदद मिलती है । लेकिन इस बात का भी ध्यान रखना है कि जरूरत से ज्यादा कठोर भाषा का प्रयोग नहीं करना है । हम किसी भी प्रकार के कठोर भाषा या गाली गलौज को प्रोत्साहित नहीं कर रहे हैं ।

वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च की और उसमें पाया कि जब भी हमारे को चोट लगती है तब हमारे मुंह से अचानक से कोई गाली जैसा शब्द निकलता है । तब हमें दर्द कम महसूस होता है ।