गौरैया के बारे में इंफॉर्मेशन रोचक तथ्य । sparrow ( स्पैरो ) in hindi . About Sparrow in Hindi
गौरैया के बारे में इंफॉर्मेशन रोचक तथ्य । sparrow ( स्पैरो ) in hindi . About Sparrow in Hindi

गौरैया के बारे में इंफॉर्मेशन रोचक तथ्य । sparrow ( स्पैरो ) in hindi . About Sparrow in Hindi ।

आज हम आपको स्पैरो यानी कि gauraiya चिड़िया के बारे में हिंदी में इंफॉर्मेशन देंगे ।‌ sparrow bird information in hindi . sparrow meaning in hindi . sparrow meaning का अर्थ और मतलब क्या होता है ?

स्पैरो यानी कि गौरैया ( gauraiya ) का अर्थ और मतलब होता है कि एक ऐसा भूरे रंग का छोटा सा पक्षी होता है जो कि ब्रिटेन में आमतौर पर पाया जाता है और ब्रिटेन में आपको देखने को मिलता है ।

sparrow hindi meaning

sparrow – स्पैरो
gauraiya – गौरैया

gauraiya या स्पैरो चिड़िया एक चिड़िया है ।‌ यह तो थी नन्ही सी चिड़िया sparrow information in hindi .

gauraiya bird in hindi.

गौरैया चिड़िया पूरे एशिया में पाई जाती है जो कि भूरे रंग का एक छोटा सा पक्षी होता है । जिसके शरीर पर भूरे और सफेद रंग के धब्बे होते हैं ।‌ जहां जहां पर मनुष्य रहता है । वहां वहां पर गौरैया चिड़िया पाई जाती है ।

गौरैया चिड़िया किन-किन देशों में पाई जाती है ?

कुछ ऐसे देश है जहां पर gauraiya चिड़िया की आबादी काफी ज्यादा है और यहां पर आम तौर पर आपको देखने को मिल जाती है ।

वैसे तो gauraiya चिड़िया आमतौर पर पूरे एशिया में देखने को मिल जाता है । इसके अलावा अफ्रीका के कुछ ऐसे भाग भी है जहां पर यह पक्षी पाया जाता है उन सभी के अलावा स्पैरो ऑस्ट्रेलिया , न्यूजीलैंड , अमेरिका में भी पाया जाता है ।

स्पैरो यानी कि गौरैया की कितनी प्रजातियां पाई जाती है ?

आइए अब स्पैरो यानी कि गौरैया की प्रजातियों की बात करते हैं कि इस पैरों यानी कि गौरैया की कितनी प्रजातियां होती है ।‌

वर्तमान में ज्ञात गोरैया की 6 प्रजातियां पाई जाती है जिनके नाम निम्नानुसार है जो कि नीचे दिए गए हैं ।

हाउस स्पैरो – house sparrow
स्पेनिश स्पैरो – Spanish sparrow
सिंड स्पैरो – sind sparrow
रसेट स्पैरो – russet sparrow
डेड सी स्पैरो – dead sea sparrow
ट्री स्पैरो – tree sparrow

gauraiya bird 🐦

वर्तमान में हाउस स्पैरो की संख्या सबसे ज्यादा है और जहां पर मनुष्य और इंसान अपना मकान बनाता है , वहां पर देर सवेर यह स्पैरो रहने के लिए और अपना घर बनाने के लिए आ ही जाता है ।

sparrow in hindi essay . स्पैरो यानी कि गौरैया की शारीरिक विशेषता

यह एक छोटी सा नन्ना सा पक्षी होता है । जिसके शरीर पर दो रंग के धब्बे मौजूद होते हैं । धब्बे का रंग सफेद और काला होता है । gauraiya की चोंच और पैरों का रंग पीला होता है ।

नर gauraiya चिड़िया और मादा गोरिया चिड़िया की पहचान कैसे करें ?

नर गौरैया चिड़िया और मादा गोरिया चिड़िया की शारीरिक बनावट ज्यादा अलग नहीं होती है । बस उनके शरीर पर मौजूद रंगों के आधार पर ही हम उन्हें पहचान सकते हैं ।

नर gauraiya चिड़िया के शरीर के सिर वाले हिस्से और गले वाले हिस्से पर कुछ काले रंग के धब्बे होते हैं । जबकि मादा gauraiya चिड़िया के सिर और गर्दन पर यह धब्बे मौजूद नहीं होते हैं ।

गौरैया चिड़िया की लंबाई कितनी होती है ?

sparrow in hindi essay . आइए अब नन्ही सी छोटी सी चिड़िया gauraiya की लंबाई की बात करते हैं गौरैया चिड़िया की लंबाई 14 से 17 सेंटीमीटर तक की होती है ।

नर gauraiya चिड़िया के आंखों के आसपास काले धब्बे भी देखने को मिल जाते हैं । जबकि मादा के आंखों के आसपास में यह धब्बे नहीं होते हैं ।

स्पैरो यानी कि गौरैया चिड़िया का वैज्ञानिक नाम क्या है ?

स्पैरो यानी कि गौरैया चिड़िया का वैज्ञानिक नाम की बात करें तो गौरैया चिड़िया का वैज्ञानिक नाम passer montanus होता है ।

house sparrow in hindi . sparrow in hindi essay .

अब हम आपको गौरैया चिड़िया यानी कि sparrow से जुड़े हुए कुछ मजेदार रोचक तथ्य और अमेजिंग फैक्ट के बारे में इंफॉर्मेशन देंगे ।

हाउस स्पैरो अधिकतर उन इलाकों में देखने को मिलती है , जहां पर इंसान रहता है । यह चिड़िया इंसानों के आसपास ही पाई जाती है और इंसानों के आसपास ही रहना पसंद करती है ।

जहां पर इंसान घर बनाता है । यह हाउस स्पैरो अपना घर भी इंसानों के बनाए हुए घर के अंदर ही बनाती है । यानी कि यह पक्षी अपना घोंसला इंसानों के घरों में बनाता है । इसी कारण से इस चिड़िया को हाउस स्पैरो कहा जाता है ‌।

स्पैरो यानी कि गौरैया का मुख्य भोजन क्या है ? गौरैया क्या खाती है ?

अब हम स्पैरो यानी कि gauraiya चिड़िया के भोजन की बात करते हैं कि गौरैया चिड़िया क्या खाती है । उत्पत्ति के आधार पर तो gauraiya चिड़िया मांसाहारी चिड़िया होती है । जो कि छोटे-छोटे कीट पतंगों को कीड़ों को और जीव को खाती है । इसके अलावा gauraiya चिड़िया अनाज फल बीज जामुन आदि खाती है ।

घर में गौरैया चिड़िया आना शुभ होता है या अशुभ होता है ?

आइए अब जान लेते हैं कि जब घर में sparrow यानी कि गौरैया चिड़िया आती है तब इसे शुभ मानना चाहिए या फिर अशुभ मानना चाहिए ।‌

हिंदू धर्म के अनुसार और पुराणों के अनुसार gauraiya चिड़िया जब यदि किसी घर में आती है तब इसे शुभ माना जाता है ।

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार माना जाता है कि जब gauraiya चिड़िया किसी घर में जाती है , तब वहां पर सुख समृद्धि और शांति का वातावरण बना रहता है ।

और उस घर में सुख शांति और समृद्धि आती है । इसीलिए gauraiya चिड़िया यदि जब किसी घर में आती है तब उसे शुभ माना ।

गौरैया अपना घोंसला कहां बनाती है ? गौरैया का घोंसला ।

गौरैया चिड़िया अपना घोंसला अलग-अलग जगह पर बनाती है । जंगल में रहने वाली और पेड़ों पर रहने वाली gauraiya चिड़िया अपना घोंसला पेड़ों पर बनाती है ।

जबकि घर में रहने वाली हाउस sparrow अपना घोंसला घर की दीवारों में मौजूद छोटी-छोटी जगह में बना लेती है । वहीं पर अंडे देती है और बच्चे बड़े होते हैं ।

जबकि जंगल में रहने वाली gauraiya चिड़िया जंगल में पेड़ की पतली शाखा पर अपना घोंसला बनाती है और अंडे देती है ।