गिलोय का काढ़ा कैसे बनाये । गिलोय का काढ़ा बनाने का तरीका ।

18

Giloy ka kadha peene Ka tarika : आज हम जानेंगे कि गिलोय का काढ़ा कैसे बनाएं । गिलोय का काढ़ा बनाने की विधि जानते हैं । गिलोय के kadha के फायदे तो आप जानते ही होंगे ।

गिलोय को कई बीमारियों की अचूक तथा रामबाण दवा माना जाता है। जिसके कारण Giloy को अमृता की उपाधि भी मिली हुई है ।

गिलोय का काढ़ा बनाने की विधि – Giloy ka kadha banane ki vidhi .

सबसे पहले तो हमें गिलोय की हरि कथा ताजी लकड़ी को लेना है । Giloy की लकड़ी ताजा तोड़ी हुई होनी चाहिए । तभी इसका असर सबसे ज्यादा होगा और यह आपको सबसे ज्यादा फायदा देगी ।

अब आपको गिलोय की लकड़ी को साफ पानी से धो कर के साफ कर लेना है । गिलोय की लकड़ी को साफ करके ही काम में लेना चाहिए ।

गिलोय की लकड़ी से काढ़ा कैसे बनाएं । Giloy ki lakadi ka kadha kaise banaen .

अब आपने जो Giloy की लकड़ी है उसको छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ लेना है । यानी कि स लकड़ी के छोटे-छोटे टुकड़े बना लेना है ।

Giloy की लकड़ी को आप दो तरीके से छोटे-छोटे टुकड़ों में विभाजित कर सकते हो । गिलोय की लकड़ी को मिक्सी में डालकर के भी छोटे-छोटे टुकड़ों में विभाजित कर सकते हो । इसके अलावा तोड़कर या फिर मामदस्ते में कूट कर भी छोटे-छोटे टुकड़े बना लेना है ।

जब Giloy की लकड़ी के छोटे-छोटे टुकड़े हो जाए तब उसे किसी बर्तन में डाल लेना है । बर्तन में डालने के बाद में गिलोय की लकड़ी से 4 गुना पानी बर्तन में डाल लेना है ।

उसके बाद में इसे आपको किसी भी गैस पर रखकर के गर्म करना है और उबालना है । गिलोय की लकड़ी और पानी को तब तक डालते रहना है जब तक कि पानी की मात्रा तीन चौथाई नहीं रह जाती है ।

जब पानी की मात्रा एक कप या तीन चौथाई रह जाती है तब इसे आपको किसी छलनी से छान लेना है । Giloy के इस काढ़े को छान करके इसे किसी पात्र में इकट्ठा कर लेना है ।

अब गिलोय के kadha को ठंडा होने देना है । जब गिलोय का काढ़ा ठंडा हो जाता है तब इसे आप पि सकते हो ।

गिलोय का काढ़ा पीने का तरीका – Giloy ka kadha peene Ka tarika .

  1. गिलोय की लकड़ी का काढ़ा थोड़ा कड़वा होता है । यदि आप इसे पि नहीं पा रहे हो तो इसमें थोड़ा सा शहद मिला कर के पी सकते हो ।

2 . Giloy के kadha को हमेशा छान करके पीना चाहिए क्योंकि गिलोय की लकड़ी को कूटकर के डालते हैं ।

3 . गिलोय के kadha को ठंडा करके पीना चाहिए । गर्म काढ़ा नहीं पीना चाहिए ।