जय जय जय बजरंगबली जय जय जय बजरंगबली जय जय जय बजरंगबली जय जय जय बजरंग जा जा जा बजरंगबली

जिराफ की जीभ काली क्यों होती है

जिराफ की जीभ काली क्यों होती है

आपने देखा होगा कि धरती के लगभग सभी स्तनधारी जीवो में जीभ पाई जाती है | आपने यह भी नोट किया होगा कि जीभ का रंग हमेशा गुलाबी होता है पर आपने कभी यह नोट किया है कि जी जिराफ की जीभ काली क्यों होती है | जिराफ दुनिया का एकमात्र ऐसा जीव है जो कि इस नियम को तोड़ता है यानी कि जिराफ की जीभ गुलाबी की जगह काली होती है |

किसी भी लड़की को खुश करने के तरीके

एक जिराफ की जीभ लगभग 20 इंच लंबी होती है | यह जीभ इतनी कामगार होती है कि यह एक हाथ की तरह काम आती है | जिराफ की जीभ बहुत ही ज्यादा चिपचिपी होती है जिसके कारण जिराफ के मुंह में पाया जाने वाला सलाइवा जिराफ की जीभ को कांटे से बचाता हैं | घाव को जल्दी ठीक करने में मदद करता है | सभी जीवो में जीभ सबसे ज्यादा फ्लैक्सिबल हिस्सा होता है |

क्योंकि जीभ में भी ब्लड सेल्स घूमते रहते हैं | जिसकी वजह से जीभ गुलाबी नजर आती है | जिराफ की जीभ का काला रंग इन्हें धूप से सूखने से बचाता है | अपनी लंबी का कद काटी को शांत करने के लिए जिराफ को लगभग रोजाना 30 किलो पतियों की आवश्यकता होती है | उसकी जीभ अफ्रीका के तपते जंगलों में लगभग 20 घंटे बाहर ही रहती है |

कबूतर के बारे में रोचक तथ्य

जिसकी वजह से जिराफ की जीभ पर काले रंग का मेलेनिन चढ़ जाता है जो कि उसकी जीभ को सनबर्न से बचाता है | यह वही पिगमेंट है जो कि हम ज्यादा धूप में रहने पर हमें काला बना देता है | मेलेनिन अल्ट्रावायलेट किरणों को अवशोषित करता है तथा हमारे डीएनए को बचाता है | जिराफ के लिए यह काला रंग सन स्किन की तरह काम करता है तथा जिराफ सनबर्न से बचता है |

Translate »
%d bloggers like this: