hanuman chalisa . hanuman chalisa lyrics . hanuman chalisa in hindi .

hanuman chalisa . hanuman chalisa lyrics . hanuman chalisa in hindi .

तुलसीदासजी ने हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए हनुमान चालीसा की रचना की थी। हनुमान चालीसा ( hanuman chalisa ) का नियमित या मंगलवार, शनिवार को पाठ करने के बहुत से चमत्कारी लाभ मिलते हैं। मंगल दोष, शनि दोष एवं पितृ दोषों से मुक्ति कि लिए भी हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ लाभकारी है।
hanuman chalisa का पाठ 7 बार 21 बार और 108 बार किया जाता है । जिसके अलग-अलग फल प्राप्त होते हैं । hanuman chalisa full

hariharan shree hanuman chalisa . shree hanuman chalisa . shri hanuman chalisa lyrics. jai hanuman chalisa . hanuman chalisa mantra . hanuman chalisa in hindi text . hanuman chalisa in hindi lyrics image

hanuman chalisa lyrics . hanuman chalisa lyrics in hindi pdf

hanuman chalisa lyrics हिंदी में दी गई है । hanuman chalisa lyrics का ओडियो , वीडियो भी होता है । कुछ लोग hanuman chalisa lyrics अंग्रेजी में पढ़ना चाहते हैं तो कुछ लोग hanuman chalisa lyrics हिंदी में पढ़ना चाहते हैं । हम आपके लिए हिंदी में hanuman chalisa lyrics लेकर आए हैं ।

hanuman chalisa pdf . hanuman chalisa lyrics in hindi pdf .

hanuman chalisa pdf भी download करके पाठ कर सकते हो । अधिकतर लोग hanuman chalisa pdf download कर लेते है और फिर पढ़ते हैं ।

hanuman chalisa in hindi . hindi hanuman chalisa .

hanuman chalisa hindi : नीचे hanuman chalisa का hindi version दिया गया है । यदि आप hindi में hanuman chalisa पढ़ना चाहते हैं तो नीचे hanuman chalisa की चौपाइयां hindi में दी गई है । आप आसानी से पढ़ सकते हैं ।

hanuman chalisa full

दोहा
श्रीगुरु चरन सरोज रज, निजमन मुकुरु सुधारि।
बरनउं रघुबर बिमल जसु, जो दायक फल चारि।।

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

चौपाई
जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

राम दूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी।।

कंचन बरन बिराज सुबेसा।
कानन कुण्डल कुँचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजे।
कांधे मूंज जनेउ साजे।।

शंकर सुवन केसरी नंदन।
तेज प्रताप महा जग वंदन।।

बिद्यावान गुनी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचन्द्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये।
श्री रघुबीर हरषि उर लाये।।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।
अस कहि श्रीपति कण्ठ लगावैं।।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।
नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।
कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।
लंकेश्वर भए सब जग जाना।।

जुग सहस्र जोजन पर भानु।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रच्छक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै।।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।
महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरे सब पीरा।
जपत निरन्तर हनुमत बीरा।।

संकट तें हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिन के काज सकल तुम साजा।।

और मनोरथ जो कोई लावै।
सोई अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा।।

साधु संत के तुम रखवारे।।
असुर निकन्दन राम दुलारे।।

अष्टसिद्धि नौ निधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता।।

राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुह्मरे भजन राम को पावै।
जनम जनम के दुख बिसरावै।।

अंत काल रघुबर पुर जाई।
जहां जन्म हरिभक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

सङ्कट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जय जय जय हनुमान गोसाईं।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।

जो सत बार पाठ कर कोई।
छूटहि बन्दि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ हृदय महं डेरा।।

दोहा
पवनतनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

hanuman chalisa in hindi written.

hanuman chalisa written : हनुमान चालीसा तुलसीदास जी के द्वारा लिखित ( written ) है ।

हनुमान चालीसा 7 बार पढ़ने से क्या होता है?

shri hanuman chalisa lyrics : हनुमान चालीसा ( shree hanuman chalisa ) पढ़ने से व्यक्ति की सभी इच्छाएं पूरी होती है और सभी मनोकामना ओं की पूर्ति होती है। यदि कोई व्यक्ति लगातार सात दिनों तक रोजाना सात बार उगते हुए सूर्य या भगवान श्री राम के सामने हनुमान चालीसा ( shri hanuman chalisa lyrics ) का पाठ करता है तो उसे सभी इच्छाओं की पूर्ति होती है और सभी मनोकामनाएं पूरी होती है ।

हनुमान चालीसा का पाठ कब करना चाहिए? shri hanuman chalisa lyrics .

shri hanuman chalisa lyrics : हनुमान भक्तों को हनुमान चालीसा ( jai hanuman chalisa ) का पाठ शनिवार और मंगलवार के दिन करना चाहिए । यदि कोई हनुमान भक्त शनिवार और मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा ( hanuman chalisa mantra ) का पाठ करता है तो उसे हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है और पाठ करने का फल भी अधिक प्राप्त होता है ।

हनुमान चालीसा का पाठ कैसे करें?

hanuman chalisa in hindi lyrics image : हनुमान चालीसा का पाठ करने की विधि : हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए सबसे पहले आपको शनिवार और मंगलवार का दिन चुनना होगा । हनुमान चालीसा का पाठ हनुमान जी के चित्र या मूर्ति के सामने करना होता है । यदि आप मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ कर रहे हो तो आपको एक से 3 बार ही पाठ करना होता है । हनुमान चालीसा का पाठ शुरू करने से पहले आपको एक जल से भरा लोटा अपने पास में रखना चाहिए और हनुमान चालीसा का पाठ पूरा होने पर उस लौटे का जल प्रसाद के रूप में ग्रहण करना चाहिए ।

हनुमान चालीसा कितने दिन में सिद्ध होता है?

hanuman chalisa aarti : हनुमान चालीसा 21 दिन में सिद्ध हो जाता है हनुमान चालीसा की सिद्धि की गिनती होती है । यदि कोई व्यक्ति लगातार 21 मंगलवार हनुमान चालीसा का पाठ करता है तो हनुमान चालीसा सिद्ध हो जाता है ।

हनुमान चालीसा कितने बजे पढ़ना चाहिए?

the hanuman chalisa : हनुमान चालीसा का पाठ सूर्योदय से पूर्व करना चाहिए । क्योंकि सूर्योदय से पूर्व हनुमान चालीसा का पाठ करने से अधिक फल और पुण्य की प्राप्ति होती है । यदि हनुमान भक्त सुबह 4:00 बजे की बात से लेकर सूर्योदय से पहले तक हनुमान चालीसा ( hanuman chalisa in hindi text ) का पाठ करता है तब उसे अधिक फल की प्राप्ति होती है ।

Gest Post , Backlink Exchange और sponsorship के लिए हमें नीचे दी गई Email Id पर contact करें। calltohelps@gmail.com