शार्क मछली चलते हुए पानी में सोती कैसे हैं |

शार्क मछली के बारे में रोचक तथ्य

शार्क मछली के बारे में रोचक तथ्य

शार्क मछली की दुनिया भर में 400 से भी ज्यादा प्रजातियां पाई जाती है |

इस शार्क मछली की आंखों के पास में कपड़े बने हुए होते हैं इंगल अपनों में ऑक्सीजन वाला पानी पंप करते हैं

शार्क मछली चलते हुए पानी में सोती कैसे हैं |

शार्क मछली के बारे में रोचक तथ्य

जब शार्क मछली पानी में चलती रहती है तो पानी के बहाव की वजह से पानी इनके जबड़ों में भर जाता है | पानी जबड़ों में भरने के बाद ऑक्सीजन लेने का काम स्पाइनल कॉर्ड करता है | जोकि ऑटोमेटिक संक्रिया का ही एक हिस्सा है |

यानी कि शार्क मछली में स्वसनअनैच्छिक क्रिया के द्वारा होती है जो कि एक ऑटोमेटिक प्रक्रिया होती है | जिसकी वजह से शार्क मछली चलते हुए पानी में भी सांस ले सकती है और सो भी सकती है | यह काम स्पाइनल कॉर्ड के द्वारा होता है | जिससे कि शार्क मछली पानी में चलती हुई भी सो जाती है |