माला डी गर्भनिरोधक गोली । mala d tablet uses in hindi . माला डी गर्भनिरोधक गोली खाने का तरीका ।

माला डी गर्भनिरोधक गोली । mala d tablet uses in hindi . माला डी गर्भनिरोधक गोली खाने का तरीका । माला डी गोली कब लेनी चाहिए । mala d tablet side effects in hindi . mala d tablet in hindi . maladi tablet use in hindi

माला डी टैबलेट (Mala D Tablet) के बारे में जानकारी ‌

mala d tablet in hindi : माला डी टैबलेट (Mala D Tablet) एक प्रकार की गर्भनिरोधक गोली है । माला डी टेबलेट का प्रयोग अनचाहे गर्भ से बचने के लिए और छुटकारा पाने के लिए किया जाता है । माला डी टेबलेट का सेवन डॉक्टर के द्वारा 28 दिन तक करने के लिए कहा जाता है । इसके अलावा माला डी टेबलेट का सेवन डॉक्टर की सलाह के बिना नहीं करना चाहिए ।

माला डी गर्भनिरोधक गोली दो प्रकार की सफेद और रेड आती है। सफेद माला डी गर्भनिरोधक गोली में एथिनिल एस्ट्राडियोल और लेवोनोर्जेस्ट्रेल होता है । जबकि लाल माला डी गर्भनिरोधक गोली में फेरस फ्यूमरेट होता है । माला डी गर्भनिरोधक गोली अंडे की रिहाई को रोकती है और शुक्राणु द्वारा अंडे को निषेचित होने से रोकती है । माला डी गर्भनिरोधक गोलि ओवुलेशन को रोकती है और अंडे को अंडाशय से रिलीज होने से रोकती है ।

सफेद माला डी गर्भनिरोधक गोली को अगले 7 दिनों तक लेने की सलाह दी जाती है तथा लाल माला डी गर्भनिरोधक गोली को अगले 21 दिनों तक सेवन करने की सलाह दी जाती है । माला डी गर्भनिरोधक गोली का पूरा कोर्स 28 दिनों का होता है । शुरुआत के 7 दिनों तक सफेद माला डी गर्भनिरोधक गोली का सेवन करना होता है और उसके बाद 21 दिनों तक लाल माला डी गर्भनिरोधक गोली का सेवन करना होता है ।

mala d tablet detail in hindi

mala d tablet detail in hindi . mala d tablet का यूज़ कब और कैसे किया जाता है । mala d tablet के बारे में जानकारी और डिटेल । mala d tablet का use अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए प्रेग्नेंट होने से पहले किया जाता है। mala d tablet गर्भनिरोधक गोली है जिसका प्रयोग गर्भ को ठहरने से रोकने के लिए किया जाता है । गर्भ ना ठहरे इसके लिए mala d tablet का यूज किया जाता है । mala d tablet प्रेग्नेंट होने से रोकती है और बचाती है । यदि किसी महिला ने असुरक्षित यौन संबंध स्थापित किए हैं तब प्रेगनेंसी से बचने के लिए mala d tablet का यूज किया जाता है । mala d tablet अनचाहे गर्भ को ठहरने से रोकती है ।

गर्भनिरोधक गोली माला डी कैसे काम करती है ?

गर्भनिरोधक गोली माला डी अंडे के उत्पादन को होती है । जिससे कि स्पर्म अंडो को फर्टिलाइज नहीं कर पाता है और महिला गर्भवती नहीं हो पाती है । इस प्रकार अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए माला डी टेबलेट का सेवन महिलाओं के द्वारा किया जाता है । अनियमित माहवारी के इलाज के लिए भी गर्भनिरोधक गोली माला डी का सेवन महिलाओं के द्वारा किया जाता है । गर्भनिरोधक गोली माला डी अण्डाशय में शुक्राणु और अंडे को मिलने से रोकती है । जिससे कि अनचाही प्रेगनेंसी टल जाती है। इसके साथ ही गर्भनिरोधक गोली माला डी गर्भाशय में इस तरह के वातावरण को उत्पन्न करती है जो कि प्रजनन के लिए उपयुक्त नहीं होता है ।

mala d tablet uses in hindi

mala d tablet uses in hindi . गर्भधारण से बचने के उपाय के तौर पर माला डी टेबलेट का यूज किया जाता है । mala d tablet एक गर्भनिरोधक दवा है। mala d tablet का यूज़ अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए किया जाता है ।
माला डी टेबलेट सेवन करने के बाद यह अनचाही प्रेगनेंसी से बचाने का काम करती है । ‌

गर्भनिरोधक गोली माला डी (Mala D) का सामान्य डोज क्या है?

गर्भनिरोधक गोली माला डी की खुराक मरीज की उम्र , स्वास्थ्य और रोग की स्थिति पर निर्भर करती है इसके अलावा डॉक्टर की स्थिति पर भी निर्भर करती है । माला डी की सामान्य खुराक 0.15 एमजी होती है । बच्चों को और बुजुर्गों को माला डी टेबलेट के सेवन से बचना चाहिए । इसके अलावा कम उम्र के महिलाओं को भी माला डी टेबलेट का सेवन नहीं करना चाहिए ।

माला डी टैबलेट (Mala D Tablet) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए? mala d tablet kaise use kare

mala d tablet kaise use kare: माला डी टेबलेट का सेवन डॉक्टर के बताए अनुसार ही करना चाहिए । माला डी टेबलेट का सेवन तभी करें जब डॉक्टर आपको कहे । इसके अलावा माला डी टैबलेट की जितनी मात्रा का सेवन डॉक्टर आपको करने के लिए कहे उतनी ही मात्रा का सेवन करें ना ही उस से काम करें और ना ही ज्यादा मात्रा में सेवन करें । माला डी टेबलेट का सेवन पानी के साथ करें । माला डी टैबलेट को पानी से सीधा निगल ले । माला डी टैबलेट को तोड़ना मरोड़ना और चबाना नहीं चाहिए ।

माला डी टेबलेट का सेवन खाना खाने से पहले और खाना खाने के बाद दोनों ही स्थितियों में किया जा सकता है । आप चाहो तो माला डी टेबलेट का सेवन खाना खाने से पहले भूखे पेट भी कर सकते हो । इसके अलावा यदि आप चाहें तो माला डी टेबलेट का सेवन खाना खाने के बाद कर सकते हो । लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना है कि माला डी टैबलेट का सेवन एक निश्चित समय पर करें ।

माला डी गर्भनिरोधक गोली खाने का तरीका

गर्भनिरोधक गोली माला डी की निश्चित और नियमित मात्रा लेनी चाहिए । माला डी की ओवरडोज से बचना चाहिए। यदि आपने माला डी की ओवरडोज ली है तब आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए । डॉक्टर्स की मानें तो मासिक धर्म शुरू होने के पांच दिन के भीतर ही गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन शुरू करना होता है।

माला डी गोली कब लेनी चाहिए

माला डी गोली का सेवन कब किया जाता है? माला डी गोली कब लेनी चाहिए । माला डी गोली तब लेनी चाहिए जब अनचाही प्रेगनेंसी से बचना होता है । माला डी गोली का सेवन दो परिस्थितियों में किया जाता है । इस स्थिति में माला डी टेबलेट का सेवन अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए किया जाता है । मासिक धर्म संबंधी असामान्यताएं को दूर करने के लिए गर्भपात की गोली माला डी लेनी चाहिए ।

माला डी (Mala D) का डोज मिस हो जाए तो क्या करना चाहिए ?

माला डी टेबलेट का सेवन डॉक्टर के बताए अनुसार ही करना चाहिए । यदि आप माला डी टेबलेट की खुराक लेना भूल गए हैं और दूसरी खुराक का समय आ गया है तब आपको माला डी टेबलेट की पहली खुराक नहीं लेनी चाहिए । आपको दूसरी खुराक ही लेनी चाहिए । माला डी टैबलेट की खुराक भूलने पर यदि दूसरी खुराक में अभी समय है तो तुरंत माला डी टेबलेट की पहली खुराक का सेवन करें । इसके साथ ही आपको माला डी टेबलेट की ओवरडोज नहीं लेनी चाहिए । माला डी टैबलेट की खुराक नियमित समय पर और नियमित मात्रा में ही लें ।

माला डी गोली किस काम आती है ?

माला डी गोली अनचाही प्रेगनेंसी को रोकने के काम आती है । माला डी गोली अनचाही प्रेगनेंसी से बचाने के काम आती है । माला डी टेबलेट अंडे को रिलीज होने से रोकने के काम आती है । इसके साथ ही माला डी टेबलेट का उपयोग शुक्राणु द्वारा अंडे को फर्टिलाइजर होने से रोकने के लिए काम में ली जाती है । माला डी गोली का उपयोग मासिक चक्र की अनियमितता की समस्या को दूर करने के लिए भी काम में ली जाती है ।

माला डी गोली खाने से क्या होता है

माला डी गोली खाने से अनचाही प्रेगनेंसी से छुटकारा मिलता है । माला डी गोली खाने से अनचाही प्रेगनेंसी से बचने में मदद मिलती है । अनचाही प्रेगनेंसी को रोकने के लिए माला डी टेबलेट खाई जाती है । इसके अलावा जो महिलाएं मासिक चक्र की अनियमितता को दूर करने के लिए माला डी गोली खा रही है उन महिलाओं का माला डी खाने के बाद मासिक चक्कर नियमित होता है।

mala d tablet side effects in hindi . माला डी (Mala D) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

mala d tablet side effects in hindi . माला डी (Mala D) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं? यदि आपने माला डी टेबलेट का सेवन सही समय पर और निश्चित मात्रा में नहीं किया है तो माला डी टेबलेट के साइड इफेक्ट अर्थात दुष्परिणाम देखने को मिल सकते हैं ।

माला डी टेबलेट के सेवन के बाद इसके साइड इफेक्ट सामान्य और अस्थाई होते हैं । जब आप माला डी टेबलेट का सेवन बंद कर देते हो तो कुछ ही दिनों बाद इनके साइड इफेक्ट दिखना बंद हो जाते हैं । यदि आपने माला डी टेबलेट की ओवरडोज ली है तब इसका साइड इफेक्ट लंबे समय तक देखा जा सकता है ।

mala d tablet side effects in hindi

1 . बाधित मासिक धर्म चक्र
2 . हाई ब्लडप्रेशर (High Blood Pressure)
3 . गंभीर एलर्जी प्रतिक्रिया (Severe Allergic Reaction)
4 . उल्टी (Vomiting)
5 . एक्ने (Acne)
6 . पेट दर्द (Stomach Pain)
7 . स्तन में दर्द (Breast Pain)
8 . सिरदर्द (Headache)
9 . पेट के निचले हिस्से में दर्द, उल्टी, एलर्जी, उच्च रक्तचाप आदि।
10 . लिवर रोग (Liver Disease)
11 . अनैदानिक वेजिनल ब्लीडिंग

किन महिलाओं को माला डी टेबलेट का सेवन नहीं करना चाहिए ?

माला डी टेबलेट का सेवन निम्नलिखित परिस्थितियों में नहीं करना चाहिए । यदि कोई महिला इन स्थिति में होने पर भी माला डी टेबलेट का सेवन करती है तो उसे दुष्परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं । यदि कोई महिला धूम्रपान की लत से ग्रसित है तो उसे माला डी टेबलेट का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा यदि कोई महिला शराब की लत से ग्रसित है तो उसे भी माला डी टैबलेट का सेवन नहीं करना चाहिए । लिवर रोग से ग्रसित महिला को भी माला डी टेबलेट के सेवन से बचना चाहिए ।

यदि कोई महिला लीवर की बीमारियों, एडेनोमा, पोस्टऑपरेटिव थ्रॉम्बोम्बोलिज़्म, कोरोनरी और सेरेब्रोवास्कुलर रोगों, स्तन कैंसर का इतिहास, पिछली गर्भावस्था के दौरान पीलिया, और हाइपरलिपीमिया से पीड़ित से पीड़ित है तो भी उसे माला डी टेबलेट के सेवन से बचना चाहिए ।

माला डी टेबलेट के सेवन से पहले यह जरूर देखें ?

यदि किसी महिला को माला डी में मौजूद ऐस्ट्राडिओल और लिवोनोगेस्ट्रल से एलर्जी होती है तो उसे माला डी टेबलेट के सेवन से बचना चाहिए और सेवन नहीं करना चाहिए । इसके साथ ही इस बात की जानकारी डॉक्टर को भी जानी चाहिए ।

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान माला डी (Mala D) को लेना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंट महिला को माला डी टेबलेट का सेवन नहीं करना चाहिए और माला डी टेबलेट के सेवन से बचना चाहिए । प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए माला डी टेबलेट सुरक्षित नहीं मानी गई है । इसके साथ ही स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी माला डी टेबलेट के सेवन से बचना चाहिए और इसका सेवन नहीं करना चाहिए । यदि कोई प्रेग्नेंट महिला माला डी टेबलेट का सेवन करती है तब इसका असर मां और बच्चे दोनों पर पड़ता है और इसके गंभीर दुष्परिणाम और साइड इफेक्ट देखने को मिल सकते हैं ।

कौन-सी दवाइयां माला डी (Mala D) के साथ रिएक्शन कर सकती हैं?

नीचे दी गई दवाओं के साथ माला डी टेबलेट का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए । यदि आप पहले से कोई दवा ले रहे हैं तब उन दवाओं की जानकारी डॉक्टर को दें और यदि कोई दवा नीचे दी गई दवा में से है तो इस दवा के साथ माला डी टेबलेट का सेवन बिल्कुल भी ना करें ।

1 . हाइड्रोकोर्टीसोन (Hydrocortisone)
2 . इकोविन (Ecovin)
3 . प्रेडनिसोलोन (Prednisolone)
4 . अल्विन (Ulvin)
5 . फ्लूविन (Fluvin)
6 . वार्फरिन (Warfrin)
7 . लॉक्ससिप पीडी (Loxcip PD)

क्या माला डी (Mala D) भोजन या एल्कोहॉल के साथ रिएक्शन करती है?

भोजन के साथ माला डी टेबलेट का कोई भी साइड इफेक्ट नहीं होता है । माला डी टेबलेट का सेवन आप खाना खाने से पहले भी कर सकते हैं और माला डी टेबलेट का सेवन खाना खाने के बाद भी कर सकते हैं । दोनों ही परिस्थितियों में माला डी टेबलेट का सेवन सुरक्षित माना गया है ।

लेकिन शराब तथा अल्कोहल के साथ माला डी टेबलेट का सेवन सुरक्षित नहीं माना गया है । शराब और अल्कोहल के साथ माला डी टेबलेट का सेवन नहीं करना चाहिए । इसके दुष्परिणाम देकर जा सकते हैं ।

क्या माला डी टेबलेट का प्रभाव किडनी पर पड़ता है ?

माला डी टेबलेट का किडनी पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ता है । किडनी के मरीज माला डी टेबलेट का सेवन कर सकते हैं ।

माला डी टेबलेट का प्रभाव लीवर पर पड़ता है क्या ?

माला डी टेबलेट का असर लीवर पर पड़ता है । लीवर पर आंशिक दुष्प्रभाव माला डी टैबलेट के देखे जा सकते हैं । माला डी टेबलेट के लीवर के दुष्प्रभाव अस्थाई होते हैं ।

माला डी टेबलेट का असर कितनी देर तक रहता है ?

माला डी टेबलेट का असर कितनी देर तक रहता है । इसके बारे में अभी तक कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई है । इसके बारे में अधिक जानकारी डॉक्टर से प्राप्त करें ।

माला डी टेबलेट का असर कितनी देर में शुरू होता है ?

माला डी टेबलेट का असर माला डी टेबलेट सेवन करने के कुछ ही घंटे बाद शुरू हो जाता है । माला डी टेबलेट सेवन करने के कुछ घंटे बाद ही माला डी टेबलेट अपना असर दिखाना शुरू कर देती है।

क्या माला डी टेबलेट के सेवन से इसकी आदत पड़ सकती है ?

नहीं , माला डी टेबलेट के सेवन से इसकी आदत नहीं पड़ती है । ना ही माला डी टेबलेट सेवन करने से इसकी लत पड़ती है । इसके साथ ही माला डी टैबलेट के सेवन से महिला इसकी आदी नहीं होती है ।

अगर मुझे माला डी टैबलेट (Mala D Tablet) लेने के बाद उल्टी होती है तो क्या होगा?

यदि आपने माला डी टेबलेट की खुराक ली है और खुराक लेने के 3 से 4 घंटे के भीतर आपको उल्टी हो जाती है तब आपको माला डी टेबलेट की दूसरी खुराक का सेवन करना चाहिए । क्योंकि वह खुराक मिस्ड मानी जाएगी ।

माला डी कितने साल की गर्भावस्था को गिराने में सक्षम होती है ?

माला डी गर्भनिरोधक गोली का सेवन निश्चित मात्रा में और निश्चित समय पर डॉक्टर के निर्देशानुसार किया जाए तो माला डी गर्भनिरोधक गोली 3 साल तक की गर्भावस्था से बचा सकती है।

माला डी गर्भनिरोधक गोली प्राइस । माला डी गोली price . माला डी गर्भनिरोधक गोली price .

माला डी गर्भनिरोधक गोली प्राइस । माला डी गोली price . माला डी गर्भनिरोधक गोली price . माला डी गर्भनिरोधक गोली को pharmacy.in से मात्र ₹4 से ₹5 की प्राइस ( price ) में खरिद सकते हो । माला डी गर्भनिरोधक गोली प्राइस ₹4 से ₹5 है।
माला डी गोली price ₹4 से ₹5 है। माला डी गर्भनिरोधक गोली price ₹4 से ₹5 है।

माला डी गोली कितने रुपए की आती है mala d tablet price in hindi

माला डी गोली कितने रुपए की आती है । mala d tablet price in hindi . गर्भनिरोधक गोली माला डी की टेबलेट की प्राइस ज्यादा नहीं होती है गर्भनिरोधक गोली माला डी मात्र ₹4 से ₹5 में मिल जाती है । माला डी की गोली स्वास्थ्य केंद्र पर उपलब्ध होती है ।