Moray eels मोरे ईल या बाम मछली बाम मछली के फायदे

Moray eels मोरे ईल या बाम मछली बाम मछली के फायदे

मोरे ईल या बाम मछली बाम मछली के फायदे

Moray eels मोरे ईल या बाम मछली बाम मछली के फायदे

दूसरी दुनिया का अजीब सा जीव । जो लगता है बस पानी के साथ साथ बहेता होगा । आगे बढ़ने का बेहतरीन अंदाज । पर जब तक सामने शिकार ना आए तब तक । गोताखोरों का पसंदीदा । यह अक्सर गुफाओं कि दीवारों , छेदों तथा पत्थरों में छुपते हैं । यह है मोरे ईल ।

मोरे ईल दुनिया भर के समुद्रों में पाई जाती है । जिनमें शामिल है ट्रॉपिकल तथा सब ट्रॉपिकल समुंदर । यह आमतौर पर मूंगे तथा उसके आसपास में रहती है ।मोरे इल की सांप जैसी मस्कुलर बॉडी होती है । इसी की वजह से लोग इन्हें मछली ना समझ करके सांप की केटेगरी में डाल देते हैं । लेकिन यह एक मछली है ।

Moray Eel की प्रजातियां

Moray Eel की प्रजाति में करीब 200 प्रजातियां आती है । और यह आकार में काफी अलग अलग होती है । कुछ प्रजातियां 1 फुट से भी छोटी होती है और कुछ बहुत विशाल Moray Eel । जो मोरे प्रजाति में सबसे बड़ी है , वह लंबाई में 13 फुट तक हो सकती है ।

औसतन मोरे इल छोटी होती है । करीब 5 फुट की Moray Eel में वजन की बात करें तो सबसे वजनदार Moray Eel , जायन Moray Eel का वजन 30 किलो तक पाया गया है ।

मोरे अपने खौफनाक मुंह के लिए जानी जाती है । क्योंकि यह उन्हें लगातार खोलती तथा बंद करती रहती है । यह अपने खतरनाक दांत दिखाती रहती है।

सभी Moray Eel प्रजातियां दो मुख्य भागों में बंटी हुई होती है

जिसे एक चेतावनी माना जाता है । यानी कि सामने एक खतरा है । सच तो यह है कि Moray Eel एक आम मछली की तरह सांस नहीं ले पाती है । उन्हें पानी को अपनी शारीरिक ग्रविटी से अंदर भेज करके अपने गलफड़ों से निकालना पड़ता है ।

ऐसा करते वक्त , देखते समय यह बहुत ही खतरनाक लगता है । लेकिन सच तो यह है कि उस समय Moray Eel सांस ले रही होती है ।

सभी Moray Eel प्रजातियां दो मुख्य भागों में बंटी हुई होती है । क्यों मोरेज तथा अनेक मोरेज । इन दोनों प्रजातियों के बीच में सिर्फ एक फर्क है । जो हमें हमेशा नजर आता है । सभी प्रजातियों के अपने अनोखे फीचर हो सकते हैं । एक शारीरिक बदलाव जो हर प्रजाति में अलग देखने को मिलता है वह है इनके दांत ।

क्योंकि Moray Eel मछली खाती है । इनके दांत लंबे, पेने तथा घुमावदार होते हैं । जो Moray Eel सख्त सेल वाले जानवर खाती है , उनके दांत कम धार वाले होते हैं । इसके अलावा सभी Moray Eel में तीसरा फर्क भी होता है और वह है रंग का ।

रंग के आधार पर Moray Eel कितने प्रकार की होती है ?

1 – Moray Eel काली
2 – भूरी Moray Eel
3 – हरी Moray Eel
4 – हल्की भूरी Moray Eel
5 – पीली Moray Eel
6 – नीली Moray Eel
7 – नारंगी Moray Eel
8 – सफेद Moray Eel
9 – कभी कबार एक साथ इन सभी रंगों का मिक्स भी हो सकती है ।

ज्यादातर Moray Eel ने खुद को जिंदा रहने के लिए ढाला है । उसकी वजह से इन्हें रंग छुपाना भी आता है । Moray Eel भी लगातार हरे रंग का म्यूकस विकसित करती है । जिनसे उनका पूरा शरीर ढक जाता है ।

जो मोरे हरि नजर आती है । उसने भी पीला म्यूकस विकसित करके खुद को अपने आप को ढाल लिया है । इस म्यूकस के बहुत से अच्छे फायदे होते हैं ।

म्युकस से Moray Eel को क्या फायदा होता है ?

1 – यह पत्थर के बीच में रहने वाले जीवो के लिए एक प्रोटेक्टिव लेयर बनाता है । बिलकुल वैसे ही जैसे की मछली को पकड़ने पर वह हाथ से फिसल जाती है ।

2 – म्यूकस की वजह से Moray Eel अपने इलाके की तंग सुरंगों से निकल जाती है ।

3 – दूसरा म्यूकस Moray Eel को पैरासाइट से बचा कर रखता है । क्योंकि उन पर पैरासिटिक इन्फेक्शन का बहुत खतरा बना रहता है ।

4 – Moray Eel छोटे जीव को अपने मुंह में भी चलने देती है । ताकि वह पैरासाइट को खा करके उन्हें साफ रखें ।

5 – कुछ प्रजातियों में म्यूकस का खतरनाक टॉक्सिन का काम करता है जो कि शिकारियों को Moray Eel को खाने से रोकता है

6 – कुछ प्रजातियों में म्यूकस शिकार को मारने का काम भी करता है । क्योंकि शिकार को पकड़ने के पश्चात Moray Eel शरीर से उसको रगड़ती है । इससे खास म्यूकस के अलावा Moray Eel ने खुद को शानदार तरीके से ढाला है ।

Moray Eel इंसानों पर बहुत कम हमला करती है और ज्यादातर तब हमला करती है जब इंसान इनके इलाके में घुसता है । कभी कबार Moray Eel इनको खाना खिला रहे गोताखोरों को भी काट लेती है ।

पर इनका सच यह है कि उनकी नजर कमजोर होती है और खाना लेने जाते समय यह गलती से उनकी उंगलियां काट लेती है । पर अफसोस इनकी वजह से अंगुली कट सकती है । इनके अलावा Moray Eel इंसान को कोई नुकसान नहीं पहुंचाती है ।

Moray Eel को दूसरी मछलियों के साथ शिकार करते हुए भी देखा गया है तथा उनके साथ बातचीत करते हुए भी देखा गया है । उन्होंने बातचीत करने का तरीका भी विकसित कर लिया है ।

Groupers Fish शिकार का पता लगाने का काम करती है तथा शिकार नजर आते ही वह Moray Eel को शिकार का संकेत दे देती है । उसके बाद शिकार को दबोचती है । फिर दोनों मिलकर के उस शिकार कि दावत उड़ाते हैं ।

Moray Eel को अपने लिए खाना मिल जाता है या फिर इंतजार में बैठी groupers Fish को दे देती है । इससे Moray Eel इनके शिकार से जुड़ी सबसे दिलचस्प बात आती है । Moray Eel जिस तरह से दावत उड़ाती है । वह सबसे अनोखा है । Moray Eel के पास जबड़े के दो सेट होते हैं । दूसरा वाला उसके मुंह में पीछे की तरफ छिपा हुआ रहता है । सामने वाले जबड़े से शिकार दबोच लेती है तो दूसरा हिस्सा आगे खिसक आता है । यह मुंह में पीछे की तरफ होते हैं ।

यह धीरे से शिकार को मारती है । इनकी जबरदस्त बॉडी तथा टीखे दांत देखने वाले के रोंगटे खड़े कर देता हैं । घात लगाकर शिकार करने वाले दुनिया के सबसे कामयाब शिकारी । हमने देखा यह जानवर शिकार करने के लिए सब्र दिखाते हैं ।

खौफनाक तथा चोरी-छिपे काम करने वाले अमेरिकी एलीगेटर । हमने सबसे बड़े सांपों में से एक पाइथन को जाना और दूसरी दुनिया की लगने वाली सांप जैसी मछली Moray Eel के बारे में जाना ।

यह शानदार शिकारी है और अपने दुश्मन पर हावी हो जाते हैं और शिकारियों के लिए यह है मौत का फरिश्ता कहलाते हैं । उम्मीद है कि आपको इनके रोजाना जिंदा रहने वाली जिंदगी पसंद आई होगी । उनके हथियार भी आपको पसंद आए होंगे । जो कि इन्होंने जिंदा रहने के लिए विकसित किए हैं ।

हमारे ग्रह पर बहुत सी जिंदगी हैं और उनके बीच में अक्सर जंग छिड़ी हुई रहती है । ताकतवर तथा खतरनाक व जानलेवा जानवर ही कामयाब होते हैं ।