ओरिजिनल सांडे का तेल कैसे बनता है । सांडे के तेल का उपयोग कब किया जाता है ?

सांडे का तेल क्या होता है, कहां से आता है और इसके क्या फ़ायदे हैं?

सांडे के तेल का उपयोग कहां किया जाता है ? घुटने के दर्द की रामबाण दवा

ओरिजिनल सांडे का तेल कैसे बनता है । सांडे के तेल का उपयोग कब किया जाता है ?

सांडे का तेल क्या होता है, कहां से आता है और इसके क्या फ़ायदे हैं? सांडे का तेल क्या काम करता है? सांडे का तेल किस काम आता है सांडे का तेल: ‘मर्दाना कमज़ोरी’ के इलाज में जान गंवाने वाला मासूम जानवर

प्योर ओरिजिनल सांडे का तेल कैसे बनता है । सांडे का तेल बनाने की विधि । आज हम जानेंगे कि जो सांडे का तेल बनाते हैं । वह किस विधि से तेल बनाते हैं । इसके साथ ही किस विधि से सांडे का तेल निकालते हैं ।

सांडा एक प्रकार का जीव होता है । उस जिव से ही तेल निकलता है । वैसे तो जीव हत्या पाप होता है और जीवों को मारना भी गैरकानूनी होता है । क्योंकि यह बहुत ही दुर्लभ जीव होते हैं । सरकार ने इन पर प्रतिबंध भी लगा रखा है ।

अपने चंद से फायदे के लिए हम जिनको नुकसान पहुंचा रहे हैं तथा उन्हें मार रहे हैं । जिसकी वजह से आज यह दुर्लभ जीवों की श्रेणी में पहुंच गए हैं । इंसान ने अपने छोटे से लाभ तथा मुनाफे के लिए इन जिवों को मारना शुरू कर दिया है ।

जो कि काफी ही चिंता का विषय बन गया है । यदि आज हमने इन जीवो की सुरक्षा नहीं की तो आने वाले समय में हम इन जीवो के सिर्फ नाम ही सुन पाएंगे । और यह पूरी दुनिया से लुप्त हो जाएंगे ।

सांडे का तेल कैसे बनता है । तेल बनाने की विधि ।

सबसे पहले तो जो सांडे का तेल निकालते हैं । वह सांडे को मार देते हैं । मार कर के उसके अंदर पीले रंग की चर्बी की गांठ होती है ।

तेल निकालने वाले चर्बी के छोटे-छोटे टुकड़ों को निकाल लेते हैं । निकाल कर के वह इन टुकड़ों को किसी बर्तन में रखकर के आग पर चढ़ा देते हैं ।

चर्बी के इन टुकड़ों को आप आग पर तब तक गर्म करते रहते हैं जब तक कि उनमें से सारा तेल नहीं निकल जाता है ।

जब चर्बी के इन टुकड़ों में से तेल निकल जाता है , तब यह चर्बी के टुकड़े एकदम छोटे छोटे हो जाते हैं । क्योंकि चर्बी वसा के रूप में तथा फेट के रूप में जमा होती है जो कि गर्म होने पर निकल कर के तेल का रूप ले लेती है ।

इतने से फायदे के लिए तथा इतने कम तेल के लिए पता नहीं लोग कितने बेकसूर जीवो को मार देते हैं ।

वैसे तो आजकल बाजार में मिलने वाला सांडे का तेल लगभग मिलावटी तेल होता है । उसमें अन्य तेल की मिलावट होती है । बहुत ही कम जगहों पर आपको शुद्ध तथा प्योर सांडे का तेल देखने को मिलता है ।

आप पूरे बाजार में घूमोगे तब कहीं पर जाकर के शुद्ध तथा ओरिजिनल सांडे का तेल बड़ी ही मुश्किल से मिलेगा ।

नर सांडा तथा मादा सांडा की पहचान क्या होती है ?

नरसंडा के पेट में अंडे नहीं होते हैं जबकि मादा सांडा की पीठ में अंडे होते हैं इन्हें देख कर के ही नर तथा मादा सांडा की पहचान की जाती है ।

सांडे के तेल का उपयोग किस लिए किया जाता है ? सांडे के तेल का उपयोग कहां किया जाता है ? सांडे के तेल का उपयोग कब किया जाता है ?

घुटने के दर्द की रामबाण दवा

सांडे के तेल का उपयोग नब्ज कुछ को ठीक करने के लिए किया जाता है ।
सांडे के तेल का उपयोग चोट लगने पर ठीक करने के लिए भी किया जाता है ।
सांडे के तेल का उपयोग घुटने के दर्द के लिए भी किया जाता है । यह घुटने के दर्द की रामबाण दवा मानी जाती है ।

सांडे के तेल का सबसे अधिक प्रयोग नवज के ढीलेपन , टेढ़ापन , तनाव में कमी , छोटा होने पर भी किया जाता है ।

ढीलापन , छोटापन तथा पतलापन

इस तेल को लगाने से ढीलापन , छोटापन तथा पतलापन दूर होता है । यह तेल डैमेज हुए सेल्स को बनाता है । तथा नसों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है ।

नर सांडे का तेल सबसे ज्यादा प्रभावी माना जाता है । मादा सांडे का तेल कम प्रभावी माना जाता है ।

इस तेल का प्रयोग रात के समय में किया जाता है ।रात के समय में इस तेल को लगा ले तथा सुबह होने पर धो ले ।

चोट लगी है और दर्द

यदि आपके जोड़ों में दर्द है , तब सांडे के तेल की मालिश करके उस पर कोई भी कपड़ा बांध ले । इससे आप का दर्द ठीक हो जाएगा ।

यदि आपको कोई चोट लगी है और दर्द हो रहा है तब भी आप सांडे के तेल की मालिश करके कपड़ा बांध ले दर्द में राहत मिलेगी।

सांडे का तेल क्या होता है, कहां से आता है और इसके क्या फ़ायदे हैं? सांडे के तेल का उपयोग कहां किया जाता है ? घुटने के दर्द की रामबाण दवा सांडे का तेल क्या होता है, कहां से आता है और इसके क्या फ़ायदे हैं?

सांडे का तेल क्या काम करता है? सांडे का तेल किस काम आता है सांडे का तेल: ‘मर्दाना कमज़ोरी’ के इलाज में जान गंवाने वाला मासूम जानवर