उल्लू के बारे में रोचक तथ्य

उल्लू अपने शिकार का अंदाजा कैसे लगाते हैं |

उल्लू अपने शिकार का अंदाजा कैसे लगाते हैं |

उल्लू को शिकार करने के लिए अपने शिकार को देखने की जरूरत नहीं पड़ती है | उल्लू शिकार की आवाज से ही शिकार का पता लगा लेते हैं |

अंटार्कटिका को छोड़कर दुनिया के हर महाद्वीप पर उल्लू पाए जाते हैं |

उल्लू की कुल 225 प्रजातियां होती है |

उल्लू के सुनने की क्षमता बहुत तेज होती है | इसके साथ ही इसके चेहरे का आकार एक सैटेलाइट डिश की तरह होता है |

उल्लू अपने शिकार का अंदाजा कैसे लगाते हैं |

उल्लू 800 मीटर की दूरी से ही किसी चूहे की आवाज को सुन सकता है | यह उल्लू के रोचक कारनामे है

इनके चेहरे के पास छोटे-छोटे पंख होते हैं | जिनके माध्यम से ध्वनि इनके कानों तक पहुंचती है | यह उल्लू के रोचक कारनामे है

उल्लू के संवेदनशील कान इनके पंखों के नीचे छिपे हुए होते हैं |

उल्लू अपने शिकार का अंदाजा कैसे लगाते हैं |

उल्लू आवाज की दिशा तथा दूरी का पता कैसे लगाते हैं

उल्लू का दायां कान, बाएं कान से थोड़े ऊपर की तरफ होता है | जिसके कारण जब किसी चूहे की आवाज उनके कानों तक पहुंचती है | तब वह आवाज अलग-अलग टाइम पर अलग-अलग कानों में पहुंचती है | जिसकी वजह से उल्लू आवाज की सही दिशा का पता तथा शिकार की सही दूरी का पता लगा सकता है | यह उल्लू के रोचक कारनामे है

उल्लू के सुनने की समता मनुष्य की तुलना में 10 गुना ज्यादा होती है |