उल्लू के बारे में 22 रोचक तथ्य । Owl In Hindi

उल्लू के बारे में 22 रोचक तथ्य । Owl In Hindi

पुत्र प्राप्ति के उपाय -पुत्र प्राप्ति का टोटका

उल्लू रात में कैसे देख पाता है | पहली नजर में देखा जाए तो उल्लू खास खतरनाक नहीं लगता है | शुक्र कीजिए कि आपकी कीड़े नहीं है उल्लू की आंखें काफी बड़ी होती है | वजन में आदमी की आंखों के बराबर होती है |

उल्लू की आंखें बाकी जानवरों की तरह सामने की तरफ होती है जो कि उल्लू को दूरी का अंदाजा लगने लगाने में मददगार साबित होती है | मजेदार बात यह है कि यदि कोई छोटा जीव उल्लू से बचना चाहता है तो दरअसल उसे उल्लू से दूर नहीं बल्कि उल्लू की तरफ ही बढ़ना चाहिए | क्योंकि उल्लू को दूर का ज्यादा दिखता है |

लेकिन जिस प्राणी से मासूम बच्चों को सावधान रहना चाहिए वह जाहिर है की बिल्ली जाति के प्राणी है | फिर चाहे वह जंगल का राजा महाबली शेर हो या फिर सीधी-सादी घरेलू बिल्ली | ज्यादातर बिल्लियों की नजर बहुत तीखी होती है पर रात के अंधेरे में सबसे अच्छी तरीके से शेर तथा बाग जैसे बड़े जानवरों को ही दिखाई देता है |

उड़ने वाली मकड़ी के बारे में रोचक तथ्य..

इसी के कारण से वह अंधेरे में मजे से शिकार कर पाते हैं | विडाल वंशी जानवरों में आंखों के पीछे की तरफ एक रिफ्लेक्टिव लेयर होती है | जिसे टेबिटम कहते हैं | यह कम रोशनी की हालत में देखने की क्षमता को बढ़ा देती है | इसी की बदौलत ही जब हम विडाल की आंखों पर फ्लैशलाइट डालते हैं उनकी तेज चमकती आंखें घूमती हुई नजर आती है | फिर सारे विडाल वंशी रात को नहीं जगते हैं |

क्या हाथी बम का पता लगा सकते हैं…

तेज रफ्तार वाला चीता दिन में शिकार करता है और उसे रात में देखने वाली आंखों की भी जरूरत नहीं पड़ती है | चिता खुली जगह तथा घास के मैदानों में रहता है जहां शिकार नजर आया चिता कमाल की रफ्तार से उसके पीछे पड़ जाता है |

अपनी तेज नजर तथा रफ्तार की वजह से चीता एक कामयाब शिकारी है पर चीते की दृष्टि को इतनी शक्ति देने वाली चीज है क्या | स्तनपाई यों की आंखों में पीछे की तरफ एक परत होती है जहां पर मौजूद sensory cells अंदर आती रोशनी पर प्रतिक्रिया करते हैं | इस परत के एक हिस्से में ज्यादा रिसेप्टर होते हैं | जिन्हें फोबिया कहते हैं |

कुत्ते चीजों को क्यों छुपाते हैं |…

चीते का रेटीना फोबिया लंबाकार होने के कारण शिकार का पीछा करते वक्त उसे फोकस में रख पाता है | अचानक तथा सटीक ढंग से मूड भी जाता है | ऐसा समझा जाता है कि चीते की आंख के बीच में जो गहरे रंग का जो निशान है वह सूरज की रोशनी से आंखों को बचाता है तथा नजर को तेज करता है |

लेकिन चिता यूं ही धुन में आकर के नहीं भागता फिरता है | वह पैनी नजर से पहले अपने आसपास देखता है | चीता की पैनी नजर तथा तेज रफ्तार उसे एक खतरनाक शिकारी बना देती है