पाचन तंत्र मजबूत करने के 16 उपाय Pachan shakti kaise badhaye.

18

उम्मीद है की आपको हमारा ये आर्टिकल पाचन शक्ति कैसे बढ़ाए ( Pachan shakti kaise badhaye .pachan tantra kaise majboot kare जरूर पसंद आयेगा।

पाचन शक्ती बढ़ाने के घरेलू तरीके – अगर गाडी का इंजन खराब हो तो गाडी एक मीटर भी नही चल सकती उसी तरह अगर इसंन रूपी इंजन यानि पाचन तंत्र खराब हो तो लाइफ की गाडी भी लम्बे समय तक नही चल सकती | दरअसल आज कल की जो मॉर्डन लाइफस्टाइल हमने बना रखी है उससे हमारा स्वास्थ्य चरमरा जाता है । 


आज ज्यादातर युवा रात को 1 बजे तक जागते है, दिन मे 3-4 घंटे बिस्तर पर मोबाइल चलाते हिए बिता देते है और शाम को दोस्तों के साथ थोडा पीने या सुट्टे मारने चले जाते है | ये जो बुरे आदते है वो इंसान को अदंर ही अदंर खाती रहती है । अगर ये आदते समय रहते ना छुडी जाए तो पुरे स्वास्थ्य को वर्बाद कर के रख देती ही है | 


यही कारण है की आज चिराग लेकर ढूँढ़ने पर भी पूरी तरह सेहतमंद व्यक्ति नही मिलता | इस जीवनशैली का सबसे बुरा असर हमारे पाचनतंत्र पर पढता है | अगर पाचनतंत्र खराब हो तो इसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य और शरीर पर दिखता है ।

पातन तंत्र के खराब होने से रोग प्रतिरोधक क्षमता ( Immune system ) भी कमजोर पड सकती है जिसके कारण व्यक्ति जल्दी-जल्दी बिमार पडता है. आयुर्वेद के अनुसार ज्यादातर बिमारी की शुरूआत पेट से होती है | 

अगर पाचन तंत्र ढीक ना हो तो वजन बढ़ाना और घटाना दोने मुश्किल हो जाते है | कुछ लोग बिना जिम करे ही बॉडी बिल्डर जैसे लगते है इसके पीछे उनकी अच्छी लाइफस्टाइल और अच्छा पाचनतंत्र ही होता है । ठूस-ठूस जंक फूड खाने और इसके बाद एक लीटर Cold drink गटक लेने से बेचारा पाचन तंत्र ( digestive system ) दम तोट देता है | 


खैर अगर आपसे भी जाने – अनजाने ये गलतियाँ हो गई है या किसी और चीज के कारण पाचन तंत्र खराब हो गया है तो ये आर्टिकल आपके लिए ही है | आज हम आपको पाचन तंत्र मजबूत करने के वैज्ञानिक तरीको से लेकर घरेलू तरीके तक बताएगे जिससे ना केवल आपका पाचन तंत्र मजबूत होगा

बल्कि आपकी Oveall health भी Improve होगी आपको केवल पुरी गहनता के साथ इस आर्टिकल को लास्ट तक पढना है | So without wasting your time let’s begin.

पाचन तंत्र क्या है ( Pachan tantra kya hai )

 पाचन तंत्र को मजबूत करने से पहले चलिए जान लेते है की पाचन तंत्र क्या है । मुख्य रूप से पाचन तंत्र मेे अमाशय, पित्ताशय, यकृत, क्षुद्रांत्र, अग्नाशय और बृहद्रांत्र ( कोलॉन ) आता है | पाचन तंत्र हमारे द्वारा खाए गए भोजन को छोटे-छोटे टूकडो मे तोट कर उससे जरूरी पोषक तत्व, विटामिन्स मिनरल्स, और ऊर्जा ( Energy ) प्राप्त करता है ।


 अगर किसी कारण ये प्रक्रिया छोटी उम्र मे खराब हो जाए तो इससे शारीरिक विकास पर भी नकारात्मक असर पड सकता है । 

पाचन तंत्र खराब होने के लक्षण ( Pachan tantra kharab hone ke lakshan )

पाचन तंत्र खराब होने के लक्षण ( Pachan tantra kharab hone ke lakshan )


 पाचन तंत्र खराब होने से पुरे स्वास्थ्य पर इसका असर देखने को मिलता है खराब पाचन के कारण शरीर खाने से ऊर्जा नही निचोड़ पाता जिसके कारण ज्यादातर समय थकान महसूस होती है. 

यहाँ पाचन तंत्र खराब होने के कुछ लक्षण दिए गए है अगर इनमे से कुछ लक्षण आपमे है तो आपको सतर्क हो जाना चाहिए कही बाद मे आपको लेने के देने ना पढ जाए 


🔺बार-बार गैस की शिकायत होना 

🔺दस्त होना

 🔺जी मचलाना 

🔺सीने मे जलन होना 

🔺अपच का होना 

🔺खाने का सही से ना पचना ( अपच )

🔺एसिडिटी (Acidity) का होना 

🔺अक्सर पेट से जुडी समस्या होना 

🔺डायरिया होना 

🔺सुबह सही से नही होना यानि कब्ज 

🔺 इरिटेबल बाउल सिंड्रोम


पाचन शक्ति कैसे बढ़ाये ( Pachan shakti kaise badhaye )

Pachan shakti kaise badhaye

करें चलिए अब समस्या के हल के बारे मे बात करें | हम यहाँ आपको कुछ तरीके बता रहे है जिन्हे अगर आपने अपनी लाइफस्टाइल मे ऊतार लिया तो आपको कभी पाचन तंत्र से जुडी समस्याए नही होगी

अपनी जिंदगी से बुरी आदतों को दफा करिये

बुरी आदतें आस्तीन के साँप जैसी होती है जो वक्त आने पर व्यक्ति को डाँस कर उसकी जिदंगी मे जहर खोल देती है | अगर समय रहते इनसे छुटकारा ना पाया जाए को ये व्यक्ति के पुरे व्यक्तित्व को गन्दा कर देती है । हमारी खाने पीने और लाइफस्टाइल की आदतो का हमारे पाचन तंत्र पर भी असर पडता है ।


 आज कुछ ऐसी बुरी आदतें है जो युवा मंडली मे फैशन की तरह उभरी है. खैर बुराई हमेशा बुराई रहती है चाहे कितने ही लोग उस रास्ते पर चल रहे हों | हजरत अली अक्सर कहा करते थे की “भीड कभी इस बात की गवाही नही देती की वह रास्ता सही है क्योकि सच के साथी हमेशा कम होते है ।” 


आपके दोस्त कितना भी काहे लेकिन आपको इन बुरी आदतो से हमेशा दूर रहना है क्योकि ये आपके स्वास्थ्य को तो नुकसान पहुचा ही रही है साथ मे आपकी Personality को भी मैला कर रही है |


 स्मोकिंग- स्मोकिंग पेट से जुडी समस्याओ को दो गुना तक बडा देती है । कई अध्ययन बताते है की स्मोकिंग छोडने से पाचन तंत्र से जुडी ज्यादातर समस्याए खत्म हो जाती है | स्मोकिंग पेट के अल्सर, अल्सरेटिव कोलाइटिस, और जठरांत्र के केंसर की समस्या को बढ़ाती है । इसके अलावा स्मोकिंग से फेफडो का कैसंर भी होता है यानि आप केवल सिगरेट से धुआ निकाल कर ही नही फेक रहे बल्कि अपनी जिदंगी भी हवा मे उड़ा रहे हैं । 


शराब- शराब पेट मे एसिड की मात्रा बढ़ाता है जिससे सीने मे जलन की शिकायत बढ़ती है इसके अलावा शराब से पेट केे अल्सर का खतरा भी बढ़ता है । अत्यधिक शराब पीने जठरांत्र प्राणाली मे खून बहने की शिकायत आती है । यानि अत्यधिक शराब पीने की आदत पाचन तंत्र को बुरी तरह नुकसान पहुचाता है हो सकता है अभी आप ये समस्याए अपने अन्दर महसूस न कर रहे हो लेकिन अगर आपनेे शराब पीने की आदत नही छोडी तो ये बिमारीयाँ बहुत जल्द आपके अन्दर भी घर बना लेॆगी ।


 देर रात तक जागना- देर रात को खाना खाने और इसके बाद सो जाने से सीने मे जलन और खट्टी डकार की समस्या बढ़ती है । जब आप खाने के बाद सो जाते है तो आप का पेट ऊपर हो जाता है जिससे Heartburn यानि सीने मे जलन होना आम बात है क्योकि खाने के बाद अमाशय मे हाइड्रोक्लोरिक अम्ल ( Hydrochloric acid ) का उत्पादन होता है ।

 इसलिए हमेशा खाने के 3 से 4 घंटे बाद ही सोए क्योकि इतने समय मेे खाना गुरूत्वाकर्षण ( gravity ) के कारण पाचन तंत्र के अन्य हिस्सो मे पहुच जाएगा | 

खानें को अच्छी तरह चबाकर खाए 

पाचन की शुरूआत आपके मुँह से होती है । आपके दाँत खाने को छोटे-छोटे भागो मे तोट देते है ताकि आँते के एंजाइम इन्हे अच्छी तरह अमाश्य तक पहुचा साके और पाचन सही से हो । अगर खाने को सही से चबाया ना जाए तो पाचन तंत्र खाने सेे पौषक तत्व नही ले पाता या फिर बहुत कम पौषक तत्व लिए जाते है । 


अगर आप खाने को अच्छी तरह चबा कर खाएगे तो आपके पेट को कठोर खाने को द्रव मे बदलने मे कम मेहनत करनी पडेगी | खाने को चबाने से मुँह मे लार ( Saliva ) निकलती है जितना ज्यादा आप खाने को चबाएगे उतनी ही ज्यादा लार खाने मे मिक्स होगी | लार आपके मुँह मे ही पाचन शुरू ( digestive process ) कर देती है लार खाने मे मौजूद कार्बोहाइड्रेट और फैट्स ( Fats ) को तोटना शुरू कर देती है । 


आपके पेट मे लार द्रव ( fluid ) की तरह काम करती है लार कठोर खाने मे मिक्स होकर उसे भी द्रव की तरह कर देती है जिससे खाना आँतो से अच्छी तरह गुजरता है । भोजन अच्छी तरह चबाने से पाचन के लिए अच्छी मात्रा मे लार रहती है | खाना अच्छी तरह चबाने से खट्टी डकार और सीने मे जलन की समस्या भी दूर होती है । एक अध्ययन मे पता चला की खाना अच्छी तरह चबाने से Stress कम होता है जिससे पाचन तंत्र मजबूत होता है ।


माइंडफुल होकर खाए ( Eat mindfully ) 

शायद आपने ध्यान ना दिया हो लेकिन हम खाते समय कही ओर ही खोए रहते है या फिर खाना खाते समय टी०वी देखते है । उस समय हमे पता ही नही होता की हमारे मुँह मे कब खाना जा रहा है और कब हलक से नीचे ऊतर रहा है ।


 जब हम इस तरह खाना खाते तो हमे खाने का पुरा स्वाद नही आता जिससे मुँह मे लार नही निकलती या फिर बहुत कम निकलती है । पाचन की शुरूआत हमारे मुह से होती है अगर खाने सही से लार मिक्स नही होगी तो वो पुरी तरह नही पचेगा जिससे वह पाचन तंत्र मे भी खराबी पैदा करेगा इसलिए खाना खाने से पहले इन बातो का ध्यान रखें-

🔺खाते समय किसी भी चीज के बारे मे ना सोचें
 🔺टीवी को बन्द कर दें और मोबाइल को भी यूज ना करें केवल खाने पर फोकस करें 
🔺 किसी से बात भी ना करें 
🔺खाने की बनावट और स्वाद को महसूस करेें
 🔺महसूस करें की खाने का स्वाद चबाने के बाद कैसा होता जा रहा है । 


तनाव से छुटकारा पाए


जिस तरह जंग लोहे को धीरे-धीरे गला कर पुरी तरह खत्म कर देती है उसी तरह तनाव व्यक्ति को अदंर ही अदंर खाता रहता है । अगर आपकी लाइफ मे कोई समस्या है तो उसका समाधान ढूढियो चिंता या तनाव लेने से कभी कोई समस्या हल नही होती बल्कि व्यक्ति मानसिक रूप से भी बार्वाद हो जाता है । तनाव पेट के अल्सर, दस्त, कब्ज और इरिटेबल बाउल सिंड्रोम की समस्या को बढ़ाता है ।


 दरअसल तनाव के दौरान शरीर मे स्ट्रेस हार्मोन्स ( Stress hormones ) निकलते है जो पाचन तंत्र पर नकारात्मक प्रभाव डालते है क्योकि जब हम किसी तरह के तनाव मे होते है तो हमारे शरीर को लगता है की हम किसी बडी समस्या मे है और अब आप के पास आराम और पाचन के लिए समय नही है जिसके कारण शरीर ( Body ) आपके पाचन तंत्र से खून और ऊर्जा को शरीर के दूसरे हिस्सो मे भेज देता है यानि जब तक आप तनाव मे होते है तब तक आपका पाचन तंत्र एक तरह से कौमा मे होता है


ऐसा इसलिए होता है क्योकि दिमाग और पाचन तंत्र की आँते आपस मे तंत्रिकाओ के द्वारा जुडी होती है इसलिए जो चीजे अपके दिमाग को नुकसान पहुचाती है वो आपके पाचन को भी नुकसान पहुचाएगी | 


देखिए डेली मेडिटेशन करनेे से आपका स्ट्रेस लेवल कम होता है इसलिए आपको अपने Daily routine मे मेडिटेशन ( Meditation ) को जरूर एड करनाचाहिए 


इसे भी पढ़े:> कब्ज से होने वाली बीमारियां कब्ज क्यों होता है कब्ज से बचने के उपाय।

इसे भी पढ़े:> जानें क्यों होता है सीने में दर्द। सीने के दर्द के घरेलू उपचार सीने में दर्द क्यों होता है।


प्रतिदिन व्यायान ( Regular exercise ) करें

व्यायाम करना पाचन तंत्र को मजबूत करने के बेहतरीन तरीको मे शामिल है क्योकि इससे ना केवल पाचन सुधरता है बल्कि पुरा स्वास्थ्य अच्छा रहता है व्यायाम और गुरूत्वाकर्षण ( Gravity ) के कारण भोजन पाचन तंत्र के हर हिस्से तक आसानी से पहुच जाता है । एक स्टाडी मे पता चला की व्यायाम करने से खाना 30% जल्दी हजम होता है |

 
 इसके अलावा रेगुलर Exersice से तनाव और टेशंन भी कम होती है जो पाचन तंत्र के लिए जहर के समान है । व्यायाम शरीर की मसल्स को मजबूत करता है । शरीर मे रक्त संचार को बढ़ाता है और रोग प्रति रोधक क्षमता ( Immune system ) को भी बढ़ाता है ।


 व्यायाम से फायदा उठाने के लिए आपको घंटो जिम मे पसीना बहाने की जरूरत नही है आप चाहे तो घर पर ही हल्का-फुल्का वर्कआउट कर सकते है या फिर कोई स्पोर्ट Game जैसे- क्रिकेट, बॉलीबॉल, फुटवॉल या वास्कीट बॉल भी खेल सकते है | या आप चाहे तो सुबह के समय जॉगिंग कर सकते है या फिर साइकिल चला सकते है । 


अपनी शरीक की सुनें


 हमारे शरीर मे प्राकृतिक आलर्म होता है जो सही पर सही पर हमे काम करने के लिए उत्तेजित करता है जैसे- कुछ लोगो को सुबह के समय बिल्कुल भूख नही लगती ( मै भी उनमे से एक हू ) लेकिन फिर भी कुछ लोग ठूस-ठूस कर खाते है लेकिन जब उन्हे भूख लगती है तब वे कुछ नही खाते यानि वे अपने शरीर के Function के बिल्कुल उल्टे चलते है जिसके कारण उनके शरीर की प्रकृति भी उल्टी चलती है । 


जब आप अपनी भूख के अनुसार नही खाते तो अक्सर गैस और बदहजमी की शिकायत होती है । भोजन को धीरे-धीरे खाए और पेट भर जाने के बाद एक भी निवाला मुँह मे ना रखे इससे आपको पेट से जुडी ज्यादातर समस्याओ से छुटकारा मिल जाएगा । 


वही कुछ ऐसे भी होते है जो बुरे मूड या तनाव मे खाना खाते है ताकि उनका तनाव कम हो जाए इसे Emotional eating कहते है । एक अध्यन मे पता चला की Emotional eating करने से खट्टी डकार और bloating की समस्या बढ़ती है । 

इसलिए अगर आप किसी तरह के तनाव मे हो तो थोडा Relax होकर ही भोजन करें और भूख लगने पर ही खाना खाए और अगर भूख लगे तो उस समय खुदको भूखा ना रखे 

ज्यादा मात्रा में पानी पिजिए 


कम मात्रा मे पानी लेना कब्ज के मुख्य कारणो मे से एक है । Health Experts बताते है की हमे दिन मे 1.5 से 2 लीटर पानी पीना चाहिए इससे कब्ज समेत पेट से जुडी सभी समस्याओ मे राहत मिलेगी | अगर आप किसी गर्म जगह पर रहते है तो आपको इससे ज्यादा पानी पीना चाहिए | 


अगर आप किसी कारण से ज्यादा पानी नही पी सकते तो आपको ऐसी सब्जियां और फल खाने चाहिए जिनमे अधिक मात्रा मे पानी हो जैसे- तरबूज, नीबू, आम, लीची, अंगूर, अनार, ककडी, टमाटर, और खीरा | पानी हमारे शरीर को हाड्रेट रखता है इसलिए आपको ज्यादा पानी पिजिए


ज्यादा फाइबर लें


शायद आप ना जानते है लेकिन फाइवर ( Fiber ) हमारे पाचन तंत्र के लिए बहुत अच्छा रहता है । घुलनशील फाइबर पानी को अवशोषित ( absorb ) करता है और मल ( Stool ) मे Bulk एड करता है । अघुलनशील फाइवर टूथब्रश की तरह काम करता है जो आँतो को साफ करता है । 


घुलनशील फाइवर ओट ब्रेन ( Oat bran ), फलियो, नट्स, बीजो, और सब्जियो मे पाया जाता है । प्रेबाइयोटिक्स ( Prebiotics ) एक अन्य प्रकार का फाइवर है जो आँतो मे हैल्दी जीवाणुओ ( bacteria ) की मात्रा बढ़ाता है । इस प्रकार के फाइवर की डाइट लेने से पेट से जुडी ज्यादातर समस्याओ दूर होती है । Prebiotics कई प्रकार के फलो, सब्जियो और अनाज मे पाया जाता है । 

हैल्दी फैट खाए
अच्छे पाचन के लिए आपको हैल्दी फैट्स ( Healthy fats ) खाना चाहिए | हैल्दी फैट आपकी भूख को संतुष्ट करता है और इससे खाने से पौषक तत्व अच्छी तरह लिए जाते है । आपको वह भोजन करना चाहिए जिसमे ओमेगा- 3 फैट ( omega-3 fatty ) एसिड हो जैसे- सन का बिज, चिया बीज, नट्स ( खासकर अखरोट ) और सार्डिन । 


जहाँ Unhealthy फैट्स आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुचाएगा वही हैल्दी फैट्स खाने से आपका स्वास्थ्य सुधरेगा और पाचन तंत्र भी मजबूत होगा |


आँतों को मजबूत करने वाला भोजन करें 

पाचन सही रखने के लिए जरूरी है की आप अपने पाचन तंत्र की आँतो का ख्याल रखे आपको हम यहाँ कुछ ऐसे पौषक तत्व बता रहे है जो आपको लेने ही चाहिए इनसे आपकी आंतो का स्वास्थ सुधरेगा और आंतो मे अच्छे जीवाणुओ की मात्रा बढ़ेगी जिससे पाचन तंत्र भी मजबूत रहेगा । 


ग्लूटामाइन- ग्लूटामाइन ( Glutamine ) एक प्रकार का अमिनो एसिड है जो आंतो को स्वास्थ रखता है ये कमजोर आंतो को मजबूत करता है । आप अपने शरीर मे कई प्रकार का खाना खा कर ग्लूटामाइन का लेवल बढ़ा सकते है जैसे- सोयाबीन, अण्डे और बादाम । ग्लूटामाइन आप supplement के रूप मे भी ले सकते है

लेकिन बेहतर रहेगा अगर आप पहले अपने डॉक्टर से बात कर लें क्योकि वो आपकी शरीरिक हालत देख कर बताएगे की supplement से ग्लूटामाइन बढ़ाना आपके लिए सही है या नही
 जिंक- जिंक ( Zinc ) एक मिनरल है जो आंते के स्वास्थ के लिए बहुत जरूरी है जिंक की कमी जठरांत्र से जुडी कई समस्याए पैदा कर सकती है ।

आप जिंक के लिए ( RDI ) जिंक 8 mg ले सकते है अगर आप पुरूष है तो फिर 11 mg लिजिए, आप जिंक के लिए कई प्रकार के खाद प्रदार्थ ले सकते है जैसे- shellfish और सूरजमुखी के बीज । जिंक के Supplement लेने से दस्त, कोलाइटिस, कमजोर आंते और अन्य पेट से जुडी समस्याए खत्म होती है ।

प्रोबायोटिक्स- प्रोबायोटिक्स ( Probiotics ) आँते के लिए एक अच्छा bacteria है जिसे अगर supplements के द्वारा लिया जाए है तो ये पाचन तंत्र के स्वास्थ को अच्छा करेगा । ये स्वास्थवर्धक बैक्टेरीया पाचन केे दौरान अपचनीय फाइवर को तोट कर पचाने मेे मदद करता है

जिसे अगर तोट कर पचाया ना जाए तो गैस और bloating की समस्या पैदा कर सकता है ।
 एक स्टाडी बताती है की प्रोबायोटिक्स लेने से bloating, गैस और IBS मे दर्द की समस्या मे सुधार होता है ।

प्रोबायोटिक्स कई प्रकार के भोजन मे पाया जाता है जैसे- खट्टी गोभी, किमची, मीसो और दही प्रोबायोटिक्स कैप्सूल मे भी उपल्बध है । एक अच्छे प्रोबायोटिक्स supplement मे strains लैक्टोबैसिलस और Bifidobacterium मिक्स होते है


इसे भी पढ़े:> चंद्रप्रभा वटी के फायदे – benefit of chandraprabha vati .चंद्रप्रभा वटी कंपनी नेम लिस्ट

सही खाना खाए

 हाइ रीफाइन कार्बोहाइड्रेट और Unhealthy फैट्स वाले भोजन से पाचन से जुडी समस्याए होती है । गलत खाने-पीने की आदत से पाचन ही नही बल्कि पुरे स्वास्थ पर इसका बुरा असर पडता है । ज्यादा तला हुआ Low कैलोरी वाले खाने और कॉल्ड Drinks, आइसक्रीम मे कृत्रिम मिठास ( sweeteners ) होते है जो पाचन तंत्र को नुकसान पहुचाते है ।

एक अध्ययन मे पता चला की 50 ग्राम कृत्रिम मीठा xylitol लेने से 70% लोगो मे bloating और दस्त की समस्या बढ़ती है । काई अध्ययन ये भी बताते है की कृत्रिम मीठा लेने से आँतो मे बुरा बैक्टिरीया भी बढ़ता है  जबकि कई वैज्ञानिक स्टाडी ये बताती है की पौषक तत्वो से भरपूर डाइट लेने से पाचन से जुडी समस्याए खत्म होती है । इसलिए कोई भी अकलमंद इंसान processed foods नही खाएगा। 


 देखिए फास्ट फूड या जंक फूड ( Junk food ) खाना तो बिल्कुल वेबकूफी है क्योकि इनमे पौषक तत्व ना के बराबर होते है । ज्यादातर जंक फूड मैदे से बनता है जो की एक तरह से कूडा है । इसलिए अपने खाने से इस कचरे को साफ कर दें।  


पाचन शक्ती बढ़ाने के घरेलू तरीके ( Pachan shakti badhane ke gharelu tarike ) 

 अगर आप घरेलू तरीको से पाचन शक्ति बढ़ाना चहाते है तो इसके लिए आपको बहुत से नुसके मिल जाएगे लेकिन आमतौर पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए इलायची, अदरक, निम्बू, सौंफ, हल्दी और आंवले का सेवन किया जाता है । 


अगर फलो की बात करें तो अमरुद, पपीता, केला, आम, अनार, अंजीर, और संतरे अच्छे माने जाते है वही शुद्ध गेहू के आटे की रोटी, चना और मूग भी पेट को फायदा करती है अगर आप इन्हे अच्छी तरह चबा कर खाए


दही खाए- दही हमारे पाचन के लिए अच्छी मानी जाती है, क्योकि इसमे अच्छा बेक्टेरीया पाया जाता है जो आंतो और पाचन तंत्र के स्वास्थ के लिए अच्छा रहता है इसके अलावा कई वैज्ञानिक अध्ययनो मे पता चला है की दही से तनाव कम होता है जो खराब पाचन का मुख्य कारण है दही लेने का सही समय दोपहर का है । 


योगा और मेडिटेशन करें-  हजारो सालो से लोग स्वास्थ से जुडी समस्याओ के समाधान के लिए योग का सहारा ले रहे अगर आप चाहे तो कई योगा कर सकते है जो आपको पाचन तंत्र को मजबूत करेगा

पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए आप नौकासन, त्रिकोण आसन, पश्चिमोत्तानासन, प्लाविनी योग, अग्निसार योग, भुजंगासन और वज्रासन कर सकते है | इसके अलावा डेली प्राणायाम आपको ऊर्जा देगा और शरीर मे प्राण ऊर्जा का संचार करेगा । डेली मेडिटेशन करिए क्योकि इससे तनाव मे रहात मिलेगी 


आयुर्वेद का सहारा लें- 

 पिछले 5 हजार सालो से अायुर्वेद लोगो की स्वास्थ से जुडी समस्याओ का समाधान करते हुए आ रहा है । आयुर्वेद बिना Side effects के लोगो का इलाज करता है लेकिन आयुर्वेदिक दवाओ को असर दिखाने मे थोडा समय लगता है लेकिन अगर आर जुडी-बुढियो द्वारा अपना इलाज काराना चहाते है तो किसी अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टर से सम्पर्क करें वो आपको कुछ अच्छे घरेलू तरीके भी बताएगा | 


व्रत रखें- व्रत रखने से पाचन तंत्र को आराम मिलता है और शरीर मे कई प्रकार के बिमारीयो वाले वेक्टीरीया मारे जाते है । लेकिन व्रत पुरा होने के बाद ठूस-ठूस कर नही खाना चाहिए इससे पाचनतंत्र पर विपरीत प्रभाव पडता है । अगर आपका वजन कम है तो ज्यादा व्रत ना रखे क्योकि खाना ना मिलने की हालत मे बॉडी शरीर मे उपलब्ध चर्बी का इस्तेमाल ऊर्जा के लिए करेगी ।

खानें के बाद थोडा चलें- लोग अक्सर एक ही जगह घंटो बैढ काम करते है, हमारा शरीर कढी मेहनत के लिए बना होता है लेकिन एक ही जगह बैढ कर काम करने से हमारे स्वास्थ पर इसका बुरा असर पढता है थोडी मेहनत और व्यायाम करने से शरीर के साथ पाचन तंत्र भी मजबूत रहता है | 


खाने के बाद कभी आराम नही करना चाहिए क्योकि इससे खाना पाचन तंत्र के अन्य हिस्से मे नही पहुच पाता जब आप खाने के बाद चलते है तो इससे खाना पाचन तंत्र के अन्य हिस्सो मे जाता है इसलिए खाने के बाद कम से कम 100 कदम जरूर चलें .


इसे भी पढ़े:> Giloy ke fayde . Giloy in Hindi . गिलोय के फायदे ।Giloy juice benefit


डॉक्टर को दिखाए
अगर ऊपर बताए गए तरीको के बाद भी आपको पाचन शक्ति मे सुधार ना दिखे तो फिर आपको किसी अच्छी डॉक्टर को दिखाना चाहिए । हो सकता है आपको कुछ और समस्या हो, किसी अच्छे डॉक्टर से परामर्श लें | वो आपकी शारीरिक हालात को देखते हुए सही इलाज करेग । 


निष्कर्ष
 पाचन तंत्र मजबूत करने के लिए अपने डाइट को साधारण रखें जिसमे सभी तरह के पौषक तत्व, मिनरल्स और विटामिन्स हो ये आपके पाचन तंत्र के साथ पुरे स्वास्थ्य को भी Improve करेगा इसके अलावा खाने मे फाइवर लेने से भी पाचन तंत्र मजबूत होता है क्योकि ये पेट मे अच्छे वैक्टिरीया को बढाता है और आंतो को साफ करता है । 


माइन्डफुलनेस और मेडिटेशन करने से भी पाचन शक्ति सुधरती है क्योकि माइंडफुल होकर खाने से मुँह मे लार अच्छी तरह निकलती है जबकि मेडिटेशन करने से तनाव दूर होता है जो पाचन तंत्र के लिए जहर होता है । और अंत मे अपनी लाइफ से बुरी आदतो जैसे- शराब पीना, देर रात तक जागना और स्मोकिंग को दफा कर दिजिए, इससे आपको पेट से जुडी ज्यादातर समस्याओ मे राहत मिलेगी


तो दोस्तो ! हमें उम्मीद है की आपको हमारा ये आर्टिकल पाचन शक्ति कैसे बढ़ाए ( Pachan shakti kaise badhaye / pachan tantra kaise majboot kare )  जरूर पसंद आया होगा अगर पसंद आय हो तो इसे सोशल मिडिया पर अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ जरूर करें और अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो कृपया हमे कमेंट के द्वारा जरूर बताए | 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here