पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारण पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो क्या करना चाहिए । बार-बार ब्लीडिंग होने के कारण

पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारण । पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो क्या करना चाहिए । बार-बार ब्लीडिंग होने के कारण ।

पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो क्या करना चाहिए

पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो क्या करें । पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो क्या तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए या फिर घरेलू उपचार करना चाहिए । पीरियड ज्यादा दिन तक आएगा तब से पहले उनके कारणों का पता लगाना चाहिए। उसके बाद में उसका इलाज और उपचार करना चाहिए । घरेलू उपाय की मदद से भी ज्यादा दिन तक आने की समस्या को खत्म किया जा सकता है ।

पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो क्या करना चाहिए ‌। पीरियड लंबे समय तक आ रहे हैं तो डॉक्टर से संपर्क करके हार्मोन को संतुलित करने वाली दवाओं का सेवन करना चाहिए । पीरियड ज्यादा दिन तक वह लंबे समय तक आने पर केवल डॉक्टर के द्वारा सर्जरी भी की जाती है । इससे भी पीरियड लंबे समय तक आने की समस्या खत्म की जा सकती है । गर्भाशय की ओर यूट्रस की सफाई करके भी पीरियड लंबे समय तक वह ज्यादा दिन तक आने की समस्या का समाधान किया जा सकता है ।

प्रत्येक महिला को हर महीने मासिक धर्म यानी कि पीरियड आते हैं । प्रत्येक महिला के पीरियड की अवधि होती है । कुछ महिलाओं को पीरियड 28 दिन से आता है तो कुछ महिलाओं का पीरियड 30 दिन जाता है । उसके ठीक विपरीत कुछ महिलाओं का पिरियड 35 दिन तक आता है । सभी महिलाओं में पीरियड की अवधि अलग-अलग होती है ।

सामान्य तौर पर किसी की महिलाओं का पीरियड 3 से 7 दिनों तक चलता है । तीन से चार दिन के बाद महिला के पीरियड बंद हो जाते हैं । कुछ महिलाओं में पीरियड 3 से 10 दिन तक चलते हैं । कुछ महिलाओं में पीरियड ज्यादा दिन तक आते हैं। इसके पीछे क्या कारण होता है । पीरियड ज्यादा दिन आए तो क्या करना चाहिए । पीरियड ज्यादा दिन आने के बहुत सारे कारण होते हैं । जिसकी वजह से पीरियड ज्यादा दिन तक आते हैं । पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारणों के बारे में विस्तार से बताया गया है ।

पीरियड ज्यादा दिन तक आने का कारण । पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारण और उपाय

पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारण or upay . पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारण और उपाय । पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारण upay । पीरियड ज्यादा दिन तक न आने के कारण ।

ज्यादा पीरियड आने के कारण

ज्यादा पीरियड आने के कारण – पीरियड ज्यादा आने के कारणों के बारे में विस्तार से बताया गया है। यही वह कारण होते हैं जिसके कारण ज्यादा पीरियड आते हैं ।

1 . दवाइयां – यदि कोई महिला किसी दवा का सेवन कर रही है तो इसके कारण भी महिला के पीरियड ज्यादा दिन तक आ सकते हैं । गर्भनिरोधक दवाएं एस्प्रीन , anti-inflammatory दवाएं , जन्म नियंत्रक दवाओं के सेवन से भी पीरियड ज्यादा दिन तक आते हैं और पीरियड ज्यादा दिन आने का कारण बन सकता है ।

2 . हार्मोन के कारण – हार्मोन में बदलाव होने पर , हार्मोन का संतुलन बिगड़ने पर भी महिलाओं के पीरियड ज्यादा दिन तक आने का कारण बन सकता है । हार्मोन के असंतुलित होने पर यूट्रस में बनने वाली परत भी मोटी हो जाती है । जिसके कारण भी ब्लीडिंग ज्यादा दिनों तक होती है । Ovulation के नहीं होने पर भी हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाता है जिसके कारण भी महिलाओं के पीरियड ज्यादा दिन तक आते हैं ।

3 . यूट्रस के बढ़ने के कारण – यूट्रस के बढ़ने के कारण भी महिलाओं के हार्मोन ज्यादा दिनों तक आते हैं । यूट्रस की परत पर पॉलीप्स की मात्रा बढ़ने के कारण भी ब्लीडिंग ज्यादा दिनों तक हो सकती है। यूट्रस में ट्यूमर होने के कारण भी ब्लडिंग के कारण पीरियड ज्यादा दिन तक हो सकते हैं ।

4 . कैंसर के कारण – गर्भाशय में या फिर अंडाशय में कैंसर होने के कारण भी कई बार महिलाओं के पीरियड ज्यादा दिन तक आते हैं और बिल्डिंग भी ज्यादा दिनों तक होती रहती है ।

5 . रक्त का थक्का नहीं बनना – हीमोफिलिया और वॉन विलेब्रांड रोग के कारण कुछ महिलाओं के शरीर में रक्त का थक्का नहीं जमता है । जिसके कारण भी महिलाओं को पीरियड के बाद भी ब्लीडिंग ज्यादा दिनों तक होती रहती है ।

6 . पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज के कारण – प्रजनन अंगों में संक्रमण के कारण पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज होता है । जिसके कारण महिलाओं की योनि से पीरियड के बाद भी ज्यादा दिनों तक और लंबे समय तक ब्लीडिंग यानी कि रक्त स्राव होता रहता है ।

7 . मोटापे के कारण – मोटापे के कारण भी पीरियड ज्यादा दिन तक आ सकते हैं । मोटापे के कारण शरीर में वसा की मात्रा बढ़ जाती है । वसायुक्त ऊतक अधिक एस्ट्रोजन का उत्पादन करते हैं । अधिक एस्ट्रोजन से ज्यादा दिन तक पीरियड आने का कारण बनता है ।

8 . थायराइड के कारण – कुछ महिलाओं को थायराइड की समस्या होती है थायराइड के कारण भी पीरियड ज्यादा दिन तक आ सकते हैं और ब्लीडिंग ज्यादा दिनों तक हो सकती है ।

पीरियड ज्यादा दिन तक आने के उपाय । ब्लीडिंग रोकने के घरेलू उपाय ।

पीरियड ज्यादा दिन तक किसी भी कारण से आ रहे हो , लेकिन घरेलू उपाय की मदद से पीरियड ज्यादा दिन तक आने की समस्या से छुटकारा पा सकते हो । पीरियड ज्यादा दिन तक आ रहे हैं तो महिलाओं को घरेलू उपाय करना चाहिए । पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो यह उपाय करना चाहिए ।

ब्लीडिंग रोकने के घरेलू उपाय – पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो सबसे पहले तुलसी की पांच से सात हरी और ताजा अखियां तोड़ ले । उसके बाद उसे सिलवटें से रगड़ करके तुलसी की पत्तियों का रस निकाल ले । उसके बाद इस रात में एक चम्मच शहद मिलाएं । इस तरह से पीरियड ज्यादा दिन तक आने की दवा बन करके तैयार हो गई है । इस दवा के सेवन से पीरियड ज्यादा दिन तक आने की समस्या खत्म हो जाएगी।

1 . period jyada din tak aana किसी गंभीर बीमारी की ओर संकेत करता है । period jyada din tak aana मेनोरेजिया का कारण भी हो सकता है । मेनोरेजिया हार्मोन असंतुलन के कारण होने वाला रोग होता है । मेनोरेजिया में हार्मोन असंतुलन के कारण यूट्रस में बनने वाली औरत मोटी हो जाती है । जिसके कारण महिलाओं के पीरियड ज्यादा दिन तक को लंबे समय तक आते रहते हैं । मेनोरेजिया के कारण पीरियड के दौरान हेवी ब्लीडिंग भी होती है । क्योंकि यूट्रस में बनने वाली परत की मोटाई काफी ज्यादा होती है जो कि ब्लडिंग के दौरान बाहर निकलती है । जिसके चलते हुए काफी हैवी ब्लीडिंग होती है ।

2 . period jyada din tak aana कैंसर की ओर संकेत करता है । period jyada din tak aana अंडाशय और गर्भाशय का कैंसर के कारण भी होता है ।

3 . period jyada din tak aana गर्भाशय में फाइब्रॉएड्स का होना । फाइब्रॉएड्स के कारण भी हेवी ब्लीडिंग होती है और पीरियड ज्यादा दिन तक आते हैं ।

पीरियड के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग क्यों होती है

पीरियड के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग क्यों होती है । पीरियड के दौरान हेवी ब्लीडिंग मेनोरेजिया के कारण होती है । इसके अलावा पीरियड के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग हार्मोन असंतुलन के कारण भी होती है । पीरियड के दौरान जब किसी महिला को ज्यादा ब्लीडिंग होती है तब इसका मतलब होता है कि उस महिला के हार्मोन का संतुलन बिगड़ा हुआ है । हार्मोन का संतुलन जब किसी महिला के शरीर में बिगड़ता है तब यूट्रस के अंदर बनने वाली परत की मोटाई ज्यादा हो जाती है । यह परत फिर धीरे-धीरे लंबे समय तक टूटकर के बिल्डिंग के रूप में बाहर निकलती रहती है । इससे पीरियड के दौरान लंबा समय लगता है और पीरियड लंबा चलता है और पीरियड ज्यादा दिनों तक आता है ।

पीरियड्स में ज्यादा ब्लीडिंग होने के कारण

पीरियड्स में ज्यादा ब्लीडिंग होने के कारण – पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होने के मुख्य रूप से दो कारण होते हैं । दो कारण की वजह से पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होती है । पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होने का पहला कारण मेनोरेजिया होता है। जबकि पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होने का दूसरा कारण हार्मोन असंतुलन होता है । पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होने का एक कारण यूट्रस में कैंसर के होने का भी हो सकता है ।

period ke baad bhi bleeding hona . पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होने पर घरेलू उपाय ।

पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होने पर घरेलू उपाय ।
मासिक में ज्यादा ब्लीडिंग होना । reason of heavy bleeding during periods in hindi.
पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग होने के कारण ।भारी खून बह रहा है होने के कारण । पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होना । heavy bleeding during periods in hindi . period jyada din tak aana kaise roke . पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होने पर क्या करें । भारी या लंबे समय तक माहवारी । period me bleeding jyada hona . हैवी ब्लीडिंग रोकने के उपाय ।

period ke baad bhi bleeding hona किसी गंभीर बीमारी के होने की ओर इशारा करता है। कई बार प्रेग्नेंसी के कारण भी period ke baad bhi bleeding hoti hai . इसके अलावा कई बार संक्रमण के कारण भी period ke baad bleeding hoti hai . period ke baad ब्लीडिंग होने के कही कारण होते हैं । वेजाइनल इनफेक्शन , यूट्रस इन्फेक्शन , हार्मोन में बदलाव जैसे कई महत्वपूर्ण कारणों के कारण period ke baad bleeding hoti hai .

पीरियड के १५ दिन बाद ब्लड आना

पीरियड के 15 दिन बाद ब्लड आना नॉर्मल भी हो सकता है और अबनॉर्मल भी हो सकता है । पीरियड के बाद और पीरियड जाने के बाद होने वाली बिल्डिंग को स्पॉटिंग कहते हैं । स्पॉटिंग होने के कही कारण हो सकते हैं । इस तरह की स्पोटिंग प्रेगनेंसी के दौरान देखी जा सकती है । यदि आपने ऐसा कोई कदम नहीं उठाया है तो यह चिंता का विषय हो सकता है ।

1 . प्रेगनेंसी के दौरान – पीरियड के 15 दिन बाद ब्लड आना । पीरियड के 8 दिन बाद ब्लड आना ।प्रेगनेंसी यानी कि गर्भ ठहरने के बाद कुछ महिलाओं में स्पोटिंग के रूप में ब्लीडिंग 15 दिन बाद भी देखी जा सकती है । प्रेगनेंसी के बाद यदि ब्लीडिंग होती है तो कुछ महिलाएं घबरा जाती है और यह सोचती है कि मिसकैरेज ( गर्भपात ) हो गया है । जबकि ऐसा कुछ नहीं है । यह एक नॉर्मल प्रक्रिया है जिसके दौरान स्पोटिंग के रूप में ब्लीडिंग होती है ।

2 . वजन बढ़ने के कारण पीरियड के 15 दिन बाद ब्लड आना । पीरियड के 8 दिन बाद ब्लड आना ।वजन का हमारे पीरियड और Ovulation पर काफी असर पड़ता है । वजन बढ़ने पर हमारे शरीर की फेट कोशिकाएं एक हार्मोन का स्राव करती है जिसके कारण स्पोटिंग के रूप में हल्की ब्लीडिंग होती है ।

3 . तनाव के कारण और आराम की कमी के कारण पीरियड के 15 दिन बाद ब्लड आना । पीरियड के 8 दिन बाद ब्लड आना । स्ट्रेस यानी कि तनाव के कारण हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाता है। जिसका सीधा असर पीरियड पर पड़ता है। तनाव के कारण भी कई बार पीरियड के बाद स्पोटिंग के रूप में ब्लीडिंग हो सकती है । यदि तनाव के कारण ऐसा हो रहा है तो आपको योगा , व्यायाम , एक्सरसाइज करना चाहिए । साथ ही स्ट्रेस के कारणों का पता लगा करके स्ट्रेस को कम करना चाहिए ।

4 . गर्भाशय या सरविक्स में चोट लगने के कारण पीरियड के 15 दिन बाद ब्लीडिंग होना । पीरियड के 8 दिन बाद ब्लड आना । कही बार सर्विस में चोट लगने के कारण भी पीरियड के बाद में ब्लडिंग होती रहती है । ऐसा इसलिए भी होता है कि जब कई बार महिलाओं के ऑपरेशन होता है तब उनके दौरान या सेक्स के दौरान चोट लग जाती है जिसके कारण ब्लीडिंग हो सकती है ।

5 . इंफेक्शन के कारण पीरियड के 15 दिन बाद ब्लीडिंग होना । पीरियड के 8 दिन बाद ब्लड आना । वेजाइनल इंफेक्शन के कारण फेलोपियन ट्यूब में इन्फेक्शन के कारण और यूट्रस में इन्फेक्शन के कारण भी महिलाओं में पीरियड के 15 दिन बाद भी ब्लीडिंग स्पोटिंग के रूप में हो सकती है । बच्चेदानी की दीवार में घाव होने के कारण भी ब्लीडिंग हो सकती है ।

6 . थायराइड के कारण पीरियड के 15 दिन बाद ब्लीडिंग होना । पीरियड के 8 दिन बाद ब्लड आना । थायराइड के अनियमित होने के कारण हार्मोन अनियमित और असंतुलित हो जाते हैं । जिसके कारण भी कई बार स्पोटिंग के रूप में महिलाओं को ब्लीडिंग हो सकती है । थायराइड के असंतुलित होने पर वजन का घटना , वजन का बढ़ना , भूख का कम लगना , बालों का झड़ना , जोड़ों का दर्द , भूख में कमी , नाखून का टूटना जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं ।

7 . इंप्लांटेशन के कारण पीरियड के 15 दिन बाद ब्लीडिंग होना । पीरियड के 8 दिन बाद ब्लड आना । इंप्लांटेशन के दौरान होने वाली बिल्डिंग बहुत कम होती है । जिसका पता भी नहीं चलता कही बार यह बिल्डिंग बहुत कम होती है और कम समय के लिए होती है । यदि बिल्डिंग ज्यादा दिनों तक रहती है तो यह गर्भपात की ओर इशारा करता है ।

8 . बर्थ कंट्रोल दवाओं के कारण पीरियड के 15 दिन बाद ब्लीडिंग होना । गर्भधारण को रोकने के लिए यदि आप गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो अभी पीरियड के 15 दिन बाद ब्लीडिंग हो सकती है ।

पीरियड ज्यादा आने का कारण

पीरियड ज्यादा आने का कारण – पीरियड ज्यादा आने का मतलब मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव होना होता है । पीरियड ज्यादा आने का कारण हार्मोन में बदलाव , योनि मार्ग में इन्फेक्शन जैसे कही कारण होते हैं । पीरियड ज्यादा आने का मतलब हेवी ब्लीडिंग होना होता है । पीरियड में ब्लीडिंग होना पीरियड ज्यादा आना इसके कई कारण होते हैं इन कारणों के बारे में ऊपर विस्तार से बताया गया है ।

मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव को कम करने के उपाय । ब्लीडिंग रोकने के घरेलू उपाय ।

पीरियड्स के दौरान अत्यधिक रक्तस्राव से बचने के ये हैं घरेलू उपाय । मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव को कम करने के उपाय । पीरियड्स कम करने के उपाय – Home remedies for heavy menstrual bleeding in hindi . Periods के दौरान हैवी Bleeding से हैं परेशान तो अपनाए ये घरेलू नुस्खे । मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव को कम करने के उपाय । Heavy Bleeding During Periods .

मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव को कम करने के लिए महिलाओं को अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए । पानी की कमी के कारण भी मासिक धर्म के दौरान रक्त स्राव यानी कि ब्लीडिंग ज्यादा होती है। तला हुआ और भूना हुआ खाना खाने से भी मासिक धर्म में अधिक रक्त स्राव होता है । इसलिए महिलाओं को तला भुना हुआ खाना खाने से बचना चाहिए । ताकि मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव ना हो। मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव से बचने के लिए भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियां फल फ्रूट को शामिल करना चाहिए ।

अधिक शुगर वाले खाद्य पदार्थों को खाने से बचना चाहिए । आयरन युक्त सब्जियों को अपने आहार में अधिक से अधिक शामिल करना चाहिए । ताकि मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव ना हो । मासिक धर्म में हैवी ब्लीडिंग को रोकने के लिए इन सभी उपाय को अपनाना चाहिए। जीवनशैली और खानपान में बदलाव करके पीरियड के दौरान होने वाली हेवी ब्लीडिंग से बचा जा सकता है ।

पीरियड ज्यादा आने का कारण। पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारण। पीरियड ज्यादा दिन तक क्यों रहता है । मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना ।

पीरियड ज्यादा दिन तक आने

पीरियड ज्यादा दिन तक आने का मतलब यह होता है कि पीरियड का सामान्य दिनों के मुकाबले अधिक दिनों तक आना । आमतौर पर पीरियड 3 से 7 दिन तक आते हैं । लेकिन पीरियड ज्यादा दिन आने का मतलब पीरियड 7 दिन से ज्यादा दिन तक आना । यदि पीरियड 7 दिन से ज्यादा दिन आते हैं तो पीरियड नॉर्मल नहीं होते हैं । कई बार पीरियड पीरियड खत्म होने के 8 दिन बाद , 10 दिन बाद और 15 दिन बाद तक आते रहते हैं ।

पीरियड ज्यादा दिन तक क्यों रहता है । पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो क्या करना ।

पीरियड ज्यादा दिन तक आए तो क्या करना चाहिए । पीरियड ज्यादा दिन तक आये तो क्या करे। period jyada din tak aaye to kya kare . period jada din aaye to kya kare. jyada din tak period aana . jada din tak period aana

पीरियड ज्यादा दिन तक क्यों रहता है। इसके पीछे कई कारण होते हैं । पीरियड ज्यादा दिन तक आ रहे हैं तो सबसे पहले डॉक्टर से संपर्क करें और डॉक्टर जो भी टेस्ट के लिए बोले वह टेस्ट कराएं। पीरियड ज्यादा दिन तक आना , हेवी ब्लीडिंग होना, पीरियड 7 दिन से अधिक तक चलना यह सामान्य लक्षण की ओर इशारा नहीं करता है ।

मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना – मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना चिंता का विषय हो सकता है । कई बार मासिक धर्म इंफेक्शन के कारण भी अधिक दिनों तक आता है । कैंसर के कारण भी मासिक धर्म अधिक दिनों तक आता है । यूट्रस में योनि मार्ग में इंफेक्शन और चोट के कारण भी मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आता है । मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आने के लिए कुछ कारण होते हैं ।

Contact Us

किसी भी प्रकार की समस्या और शिकायत के लिए इस ईमेल आईडी पर हमसे संपर्क कर सकते हैं। - calltohelps@gmail.com इस वेबसाइट के माध्यम से हमारा उद्देश्य सिर्फ लोगों को जागरूक करना और जानकारी देना है । इस वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के आधार पर कोई निर्णय अपने स्वविवेक पर लें । अधिक जानकारी के लिए Disclaimer जरूर पढ़ें