फिटकरी का सूत्र । फिटकरी का सूत्र और रासायनिक नाम । Fitkari ka sutra .
फिटकरी का सूत्र । फिटकरी का सूत्र और रासायनिक नाम । Fitkari ka sutra .

फिटकरी का सूत्र । फिटकरी का सूत्र और रासायनिक नाम । Fitkari ka sutra .

Potash Alum in Hindi – आज हम फिटकरी के बारे में जानते हैं । फिटकरी का रासायनिक नाम तथा सूत्र क्या है । इसके साथ ही फिटकरी के और भी रासायनिक गुणधर्म के बारे में जानेंगे । ( fitkari ka rasayanik sutra )

फिटकरी का नाम तो आप सभी ने सुना ही होगा । फिटकरी का इस्तेमाल दैनिक जीवन में तो किया ही जाता है । इसके अलावा वैज्ञानिक प्रयोगशाला में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है ।

फिटकरी क्या है ? – Fitkari kya hai .

फिटकरी एक क्रिस्टलीय पदार्थ होता है । फिटकरी रंगहीन होती है । फिटकरी का कोई भी रंग नहीं होता है ।

फिटकरी को अंग्रेजी में क्या कहते हैं ? फिटकरी का English name .

फिटकरी हिंदी का शब्द है फिटकरी को अंग्रेजी में ( Alum )कहते हैं । अपनी स्थानीय या फिर लोकल भाषा में इसे ” Fitkari ” इस तरीके से भी लिख सकते हैं ।

fitkari ka sutra .

fitkari ka sutra: 200 °C क्वथनांक और 92.5 ° गलनांक वाले fitkari का sutra KAl(SO₄)₂·12H₂O होता है । fitkari ka sutra KAl(SO₄)₂·12H₂O .
एलम(KAl(SO4)2.24H2O)

KAl(SO₄)₂·12H₂O किस का रासायनिक सूत्र है ?

KAl(SO₄)₂·12H₂O fitkari ka sutra होता है । फिटकरी का दूसरा नाम Alum होता है ।

फिटकरी का रासायनिक नाम क्या होता है ? फिटकरी का फार्मूला .

अब हम फिटकरी के रासायनिक नाम के बारे में जानते हैं । फिटकरी का रासायनिक नाम पोटाश एलम होता है । fitkari ka formula .

पोटाश एलम का रासायनिक सूत्र ( fitkari ka rasayanik sutra ) KAl(SO4)2.12H2O होता है । इसे कुछ लोग पोटेशियम एल्यूमीनियम सल्फेट भी बोलते हैं । इसके दोनों ही नाम सही है ।

फिटकरी का सूत्र ( fitkari ka rasayanik sutra ) KAl(SO4)2.12H2O

फिटकरी के प्रकार – Types of Alum in Hindi

फिटकरी एक ही प्रकार की नहीं होती है । फिटकरी अलग-अलग प्रकार की होती है । इन सब के काम भी अलग-अलग होते हैं । इसलिए अपने काम के हिसाब से फिटकरी को चुनना चाहिए । हर काम के लिए अलग फिटकरी का इस्तेमाल किया जाता है ।

छह प्रकार की फिटकरी के नाम – 6 type of fitkari name .

1 . पोटैशियम एलम
2 . अमोनियम एलम
3 . क्रोम एलम
4 . एल्युमिनियम सल्फेट एलम
5 . सोडियम एलम
6 . सेलेनेट एलम

फिटकरी में कौन-कौन से गुण होते हैं ? Fitkari ke gun .

फिटकरी में एंटीबैक्टीरियल तथा एंटीफंगल गुण होते हैं । जो कि हमारी त्वचा पर मौजूद बैक्टीरिया को नष्ट कर देता है ।

इसके अलावा सौंदर्य प्रसाधन में भी फिटकरी का इस्तेमाल किया जाता है । फिटकरी का इस्तेमाल हमारी त्वचा पर त्वचा को निखारने के लिए भी किया जाता है ।

कई तरह के इंफेक्शन का रामबाण इलाज फिटकरी है । इसका इस्तेमाल हमें जरूर करना चाहिए । यदि किसी भी तरह का कोई इंफेक्शन जो आज हम बता रहे हैं उनमें से है तो ।

फिटकरी के 8 अचूक फायदे । 8 benefit of Fitkari .

1 . फिटकरी से पैरों की सूजन को दूर भगाएं
2 . फिटकरी से पसीने की बदबू को गायब कैसे करें
3 . चेहरे की झुर्रियों को फिटकरी से कैसे हटाए
4 . दांतो के लिए रामबाण है फिटकरी
5 . चोट लग जाने पर पीटर कड़ी का इस्तेमाल
6 . बलगम दमा खांसी में फिटकरी का उपयोग
7 . जूंओं को मारने के लिए फिटकरी का घरेलू उपाय
8 . फिटकरी से यूरिन इन्फेक्शन को ठीक करें

फिटकरी का रासायनिक नाम क्या होता है ? फिटकरी का फार्मूला .

फिटकरी के 10 फायदे, उपयोग और नुकसान – Alum (Fitkari) Benefits and Side Effects in Hindi

आइए अब हम जानते हैं कि फिटकरी के क्या-क्या फायदे होते हैं । फिटकरी को ऐसे करें इस्तेमाल होंगे चौकाने वाले फायदे ।

दांतो के लिए रामबाण है फिटकरी – danto ke liye ramban pithadi .

दांतों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए फिटकरी का नियमित रूप से समय-समय पर इस्तेमाल करना चाहिए । फिटकरी को दांतो के लिए अचूक दवा भी माना जाता है ।

आयुर्वेद में फिटकरी के बहुत सारे अचूक नुस्खे बताए गए हैं । जिनका उपयोग करके हम अपने दांतों को स्वस्थ बनाए रख सकते हैं और हम दांतो की उम्र को भी बढ़ा सकते हैं ।

फिटकरी को दातों पर लगाने से मुंह में मौजूद बैक्टीरिया को मार देती है । जो कि हमारे दांतो के लिए हानिकारक होते हैं और हमारे दांतो को नुकसान पहुंचाते हैं ।

फिटकरी से पसीने की बदबू को गायब कैसे करें – fitkari se pasine ki badbu ko dur Karen .

यदि आपके शरीर से पसीने की बदबू आती है और आप पसीने की बदबू से परेशान रहते हो तो इसमें फिटकरी काफी फायदेमंद हो सकती है ।

फिटकरी के इस्तेमाल से आप पसीने की बदबू को दूर भगा सकते हो । जब हम फिटकरी को शरीर पर लगाते हैं तब यह फिटकरी हमारे शरीर पर मौजूद बैक्टीरिया को मार देती है । जिससे कि हमारे शरीर से बदबू आना बंद हो जाती है ।

चोट लग जाने पर फिटकरी का इस्तेमाल – chot lagne par lagaen Fitkari .

यदि कभी आपके कहीं पर लग जाती है या फिर शरीर पर धाव, कटने , फटने का निशान हो जाता है और उसमें धाव हो जाता है, तब आपको फिटकरी का इस्तेमाल करना चाहिए ।

फिटकरी कटे-फटे जगह पर और घाव को भरने का गुण पाया जाता है । फिटकरी का इस्तेमाल घाव को साफ करने के लिए करना चाहिए । जिससे कि घाव जल्दी भर जाते हैं ।

चेहरे की झुर्रियों को फिटकरी से कैसे हटाए – chehre ki jhuriyon ko hatane fitkari .

यदि आपके चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगी है और आप दूरियों को कंट्रोल करना चाहते हैं , तब आपको फिटकरी का उपयोग जरूर करना चाहिए । क्योंकि फिटकरी चेहरे की झुर्रियों को कंट्रोल करती है ।

जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगती है । इन झुरियों को कंट्रोल करने या फिर कम करने के लिए भी फिटकरी का इस्तेमाल होता है ।

जब हम फिटकरी को चेहरे पर लगाते हैं तब यह फिटकरी हमारे चेहरे की त्वचा में कसावट ला देती है और रूखी और बेजान त्वचा को फिर से जवान बना देती है ।

fitkari chemical formula – chemical formula of fitkari.

फिटकरी का रासायनिक सूत्र :– फिटकरी एक रंग हिन रासायनिक पदार्थ होता है। जो की क्रिस्टल के रूप में पाया जाता है।

फिटकरी का रासायनिक नाम पोटेशियम एल्युमिनियम सल्फेट (potassium Aluminium sulphate) होता है।

अंग्रेजी में फिटकरी को Alum (एलम) कहते हैं।
फिटकरी में कई सारे औषधि गुण पाए जाते हैं

जिसके कारण इसका उपयोग चिकित्सा के क्षेत्र में भी किया जाता है।

साधारण फिटकरी का रासायनिक नाम पोटाश एलम होता है।

chemical formula of potash alum :-

K2SO4.Al2(SO4)3.24H2O.

फिटकरी का रासायनिक सूत्र निम्नलिखित है :-

KAl(SO4)2.12H2O

science formula in hindi – rasaynik sutra.

रासायनिक सूत्र :- जब हम रसायन विज्ञान पढ़ते तो बहुत सारे तत्वों के बारे में अध्ययन करते हैं।

बहुत बार हम इन तत्वों का नाम लिखने के बजाय इनके प्रतीक चिन्ह लिखते है।

जैसे कि हमें कैल्शियम लिखना हो तो ca तथा क्लोरीन लिखना हो तो Cl लिखते हैं।

तो चलिए आज हम आपको साइंस के फॉर्मूला तथा रासायनिक सूत्र के बारे में बताते हैं।

साधारण नमक :- NaCl

बेकिंग सोडा :- NaHCO₃

धोवन सोडा :- Na₂CO₃·10H₂O

कास्टिक सोडा :- NaOH

सुहागा :- Na₂B₄O₇·10H₂O

फिटकरी :- K₂SO₄·Al₂(SO₄)₃·24H₂O

लाल दवा :- KMnO₄

कास्टिक पोटाश :- KOH

शोरा :- KNO₃

विरंजक चूर्ण :- Ca(OCl)·Cl

चूने का पानी :- Ca(OH)₂

जिप्सम :- CaSO₄·2H₂O

प्लास्टर ऑफ पेरिस :- CaSO₄·½H₂O

चॉक :- CaCO₃

चूना-पत्थर :- CaCO₃

संगमरमर :- CaCO₃

नौसादर :- NH₄Cl

लाफिंग गैस :- N₂O

लिथार्ज :- PbO

गैलेना :- PbS

लाल सिंदूर :- Pb₃O₄

सफेद लेड :- 2PbCO₃·Pb(OH)₂

नमक का अम्ल :- HCl

शोरे का अम्ल :- HNO₃

अम्लराज :- HNO₃ + HCl (1 : 3)

शुष्क बर्फ :- CO₂

हरा कसीस :- FeSO₄·7H₂O

हॉर्न सिल्वर :- AgCl

भारी जल :- D₂O

प्रोड्यूशर गैस :- CO + N₂

मार्श गैस :- CH₄

सिरका :- CH₃COOH

गेमेक्सीन :- C₆H₆Cl₆

नीला कसीस :- CuSO₄·5H₂O

ऐल्कोहॉल :- C₂H₅OH

मण्ड :- C₆H₁₀O₅

अंगूर का रस :- C₆H₁₂O₆

चीनी :- C₁₂H₂₂O₁₁

यूरिया :- NH₂CONH₂

बेंजीन :- C₆H₆

तारपीन का तेल :- C₁₀H₁₆

फिटकरी को हिंदी में क्या कहते हैं? :- fitkari ko Hindi mein kya khete hai ?

आइए दोस्तों अब हम आपको बता देते हैं कि फिटकरी को हिंदी में क्या कहते हैं।

क्या आपको पता है कि फिटकरी का हिंदी नाम क्या है ?

फिटकरी सफेद रंग का एक खनिज पदार्थ होता है जिसका उपयोग हम औषधि के रूप में करते हैं ।

अगर हम कटी हुई त्वचा पर फिटकरी लगा लेते हैं तो वह सही हो जाता है।

फिटकरी का हिंदी नाम फिटकरी ही होता है तथा फिटकरी को इंग्लिश में Alum कहते हैं ।

फिटकरी को पानी में डालने से क्या होता है? – fitkari ko pani me dalne se kya hota hai?

अगर आपको पता नहीं है कि फिटकरी को पानी में डालने से क्या होता है तो हम आपको बता दे।

कि लोग पानी को साफ करने के लिए फिटकरी का उपयोग करते हैं यानी फिटकरी को पानी में डालने से पानी साफ हो जाता है।

पानी को साफ करने के लिए पानी के अंदर फिटकरी का टुकड़ा डाल दिया जाता है ।

और उसके बाद उस पानी को छानकर पीने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

मलेरिया के समय फिटकरी का पानी पीना सबसे ज्यादा फायदेमंद साबित होता है।

इसके लिए गुनगुने फिटकरी के पानी का सेवन ज्यादा फायदेमंद होता है।

फिटकरी को चेहरे पर लगाने से क्या होता है? – fitkari ko chere pr lgane se kya hota hai?

दोस्तों फिटकरी आमतौर पर हर घर में मिल जाती है। अगर आपके घर में ना हो तो बाजार में आसानी से मिल जाती है।

फिटकरी को पानी में डालने से पानी साफ हो जाता है यह तो सभी जानते हैं लेकिन इसके बहुत सारे अनेक गुण है जो बहुत कम लोग जानते हैं।

हमारी त्वचा के दाग धब्बे हटाने के लिए भी हम फिटकरी का उपयोग कर सकते हैं।

इसके लिए आप नियमित रूप से चेहरे पर फिटकरी से मसाज करें या फिर फिटकरी के पानी से चेहरे को साफ करने से हमारी त्वचा पर एक भी दाग नहीं रहता है।

फिटकरी का उपयोग करने से चेहरे की झुर्रियां भी खत्म हो जाती है।

क्योंकि फिटकरी में एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं जो स्किन तथा बालों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होते हैं।

फिटकरी का प्रयोग कैसे करें? – fitkari ka prayog kaise karen?

दोस्तों हमारी स्किन की समस्याओं के लिए फिटकरी एक रामबाण उपाय है।

फिटकरी के बहुत सारे फायदे होते हैं यह ना केवल पानी को साफ करती है इसका इस्तेमाल करने से चेहरे पर दाग और झुरिया भी कम की जा सकती है।

पैरों की सूजन कम करने के लिए भी फिटकरी का प्रयोग किया जाता है।

अगर आपके पैरों में सूजन है तो फिटकरी मिले पानी में अपने पैरों को 10 से 15 मिनट रखना है।

और इसके बाद साफ पानी से धो लेना है। यह प्रक्रिया दिन में एक बार करनी चाहिए।

अगर गर्मियों में आपके पसीने के कारण शरीर से बदबू आती है तो आप फिटकरी का चूर्ण बनाकर नहाने के पानी में डाल दे ।

इस पानी से नहाने से आपके पसीने की समस्या दूर हो जाएगी।

अगर आपके चेहरे पर बहुत सारी झुर्रिया है और आप इन से परेशान है तो आप फिटकरी का प्रयोग कर सकते हैं।

अगर आपके दांत में दर्द हो रहा है तो फिटकरी का प्रयोग कर सकते हैं।

इसके लिए आपको फिटकरी को पानी में मिलाकर कुल्ला करना है।

अगर शरीर के किसी हिस्से पर चोट लग गई है और वहां से लगातार खून आ रहा है ।

तो आप फिटकरी के पानी से उस घाव को धो सकते हैं इससे खून आना बंद हो जाएगा।

जल वितरण में फिटकरी का उपयोग क्यों किया जाता है?

दोस्तों जैसा कि आप सभी को पता ही है कि जल वितरण में फिटकरी का उपयोग बहुत ज्यादा ही किया जाता है।

यानी कि पानी को शुद्ध करने के लिए फिटकरी का उपयोग हम आमतौर पर करते ही रहते हैं।

गंदे जल के अंदर हम फिटकरी का उपयोग करते हैं यानी फिटकरी मिलाते हैं।

तो जल में उपस्थित अशुद्धियां नीचे बैठ जाती है और पानी साफ हो जाता है।

शहरों में जल वितरण में फिटकरी का उपयोग क्यों किया जाता है? – फिटकरी किसका उदाहरण है?

शहरों में जल वितरण में फिटकरी का उपयोग किया जाता है।

क्योंकि शहरों में पीने वाले जल की सप्लाई करने वाले फिल्टर प्लांट पर बारिश के दिनों में पानी को साफ करने के लिए सामान्य दिनों की तुलना में 3 गुना ज्यादा सामग्री खर्च करनी पड़ती है।

Filter plant से पानी के कीटाणुओं को खत्म करने और पानी को साफ करने के लिए ब्लीचिंग पाउडर और फिटकरी का उपयोग किया जाता है।

क्योंकि बारिश के दिनों में मटके का पानी आता है जिसको साफ करना बहुत ज्यादा जरूरी होता है।

वहीं पानी में उपस्थित कीटाणुओ को खत्म करने के लिए भी पाउडर डाला जाता है।

फिटकरी से पानी कैसे साफ करते हैं? – fitkari se pani kaise saff krte hai?

पीने का पानी साफ करने के भी कई सारे घरेलू तरीके है। फिटकरी से भी हम पीने का पानी साफ कर सकते हैं।

ऐसे कई सारे लोग होते हैं जो दूषित पानी की वजह से फैल जाते हैं जैसे उल्टी, पेट दर्द, टाइफाइड, जुकाम ,पीलिया और त्वचा रोग आदि।

अगर आपको भी फिटकरी से पानी साफ करना है तो चलिए हम आपको वह भी बता देते हैं।

फिटकरी से पानी साफ करने की विधि –

अगर आपको फिटकरी से पानी साफ करना है तो सबसे पहले आपको एक लीटर पानी को एक बर्तन में लेना है।

अब इस पानी के अंदर 30 से 35 ग्राम फिटकरी मिलाना है।

तथा इसके बाद इस पानी को 5 से 10 मिनट तक अच्छी तरीके से मिलाएं।

5 से 10 मिनट बाद आप देखेंगे कि बर्तन के अंदर अशुद्धियां नीचे बैठने लग जाती है।

अब किसी अन्य बर्तन पर छलनी रखकर इस पानी को छान लें।

आप चाहे तो छलनी की जगह कपड़े का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
लेकिन कपड़ा साफ होना चाहिए।

इस प्रकार पानी को छानने से उसमें जमा हुई फास्फेट की अशुद्धियां निकल जाएगी और पानी पीने लायक हो जाएगा।

फिटकरी में कौन कौन से तत्व पाए जाते हैं? –
Fitkari main kaun kaun se tatva paye jaate Hain?

पानी को साफ करना हो या फिर शेविंग करने के बाद लोशन के लिए इस्तेमाल करना हो।

इनमें से फिटकरी का उपयोग करना आपने कई बार सुना तथा देखा होगा।

शायद आपको यह भी मालूम होगा कि यह पारदर्शी पत्थर जैसी दिखने वाली फिटकरी कई स्वास्थ्य संबंधी मामलों के लिए कारगर साबित होती है।

इसके अलावा फिटकरी के बहुत सारे अन्य फायदे भी है।

जिनके बारे में आपने शायद ही पहले सुना होगा। जिन फायदो की हम बात कर रहें है वे सब घरेलू फायदे हैं।

जो केवल हमें समस्याओं से राहत दिला सकते हैं। फिटकरी को किसी समस्या का उपचार नहीं कहा जा सकता है ।

क्योंकि किसी भी बीमारी का पूर्ण उपचार डॉक्टरी परामर्श पर ही निर्भर करता है।

फिटकरी कहां पर मिलती है? – fitkari kaha pr milti hai ?

दोस्तों सालों से हम लोग फिटकरी का उपयोग करते आए हैं।

फिटकरी एक रंग हीन क्रिस्टलीय पदार्थ होता है। फिटकरी का उपयोग मुख्य रूप से रंगाई उद्योग में भी किया जाता है।

इसके साथ ही चमड़े को संरक्षित करने के लिए , कागज बनाने में और अग्नि रोधी के रूप में भी फिटकरी का इस्तेमाल किया जाता है।

आइए अब हम जान लेते हैं घर पर फिटकरी बनाने की विधि यानी प्रक्रिया क्या है?

सबसे पहले हम को आधा कप गरम पानी को जार में डाल लेना है।

अब इसमें फिटकरी पाउडर डालकर मिलाना है और कॉफी फिल्टर पेपर से जार को थोड़ा सा ढक देना है ताकि उसमें धूल ना जा सके।

कुछ घंटे के बाद आप को जार में छोटे-छोटे फिटकरी के टुकड़े देखने को मिल जाएंगे।

इसके साथ ही फिटकरी के इन छोटे टुकड़ों को बड़ा करने की प्रक्रिया भी बहुत आसान है।

अगर आपको घर पर फिटकरी बनाना नहीं आता है या फिर आप फिटकरी नहीं बनाना चाहते हैं।

तो आप इसे पंसारी की दुकान से भी खरीद सकते हैं।

यानी आपको पंसारी की दुकान पर फिटकरी आसानी से मिल जाएगी।