विश्व-स्वास्थ्य-दिवस-कब-मनाया-जाता-है-भारत-में-सांपों-की-कितनी-प्रजातियां-पाई-जाती-है

सांप से जुड़े 23 रोचक, मज़ेदार और ज्ञानवर्धक सांप काटने पर करें यह 10 उपाय

सांप काटने पर करें यह 10 उपाय सभी सांप नहीं होते जहरीले, लेकिन ये चार प्रजाति होती है बड़ी घातक

विश्व-स्वास्थ्य-दिवस-कब-मनाया-जाता-है-भारत-में-सांपों-की-कितनी-प्रजातियां-पाई-जाती-है

सांप काटने पर करें यह 10 उपाय सभी सांप नहीं होते जहरीले, लेकिन ये चार प्रजाति होती है बड़ी घातक विश्व स्वास्थ्य दिवस कब मनाया जाता है ? सांप काटने पर करें यह 10 उपाय स्नेक के बारे में जानकारी सांप से जुड़े 23 रोचक, मज़ेदार और ज्ञानवर्धक

प्राचीन समय से ही सांपों से कई मिथक तथा भ्रांतियां जुड़ी हुई है ‌। बहुत सारी मान्यताएं भी सांपों से जुड़ी हुई है । जिनकी वास्तविकता हकीकत से काफी दूर है

विश्व स्वास्थ्य दिवस कब मनाया जाता है ?

सांप के काटने से हमारे देश में हर साल 50000 लोगों की जान जाती है । लेकिन हम इसके दूसरे पहलु की बात करें तो इसका जेहर काफी उपयोगी होता है । जिनसे की दवाइयां भी बनाई जाती है जो कि घातक से घातक जहर को भी कम कर देती है ।

हर साल 16 जुलाई को विश्व में सर दिवस मनाया जाता है ।

भारत में सांपों की कितनी प्रजातियां पाई जाती है ?

भारत में हम सांप की प्रजाति की बात करें तो भारत में सांप की लगभग 300 प्रजातियां पाई जाती है । एवोल्यूशन की बात करें तो सांपों का विकास इंसान से120 मिलियन साल पहले हुआ था ।

सांप की 300 प्रजातियों में से 62 प्रजातियां ऐसी होती है जिसमे जहर पाया जाता है । 21 प्रजाति के साथ ऐसे होते हैं जो कि समुद्र में रहते हैं ।

किंग कोबरा दुनिया का सबसे बड़ा जहरीला सांप होता है । इसकी लंबाई लगभग 18 फीट तक हो सकती है । इंसानों को हमेशा किंग कोबरा तथा वाइपर स्नेक से बच के रहना चाहिए । क्योंकि यह जहरीली प्रजातियां होती है ।

रोचक तथ्य – वाइपर सांप में दो जहरीले दांत होते हैं ।

हमारे देश में हर साल 50000 से भी ज्यादा लोग विषैले सांपों के काटने से मर जाते हैं । यह जाने बच सकती है । यदि उनको सही जानकारी मिल जाए । तथा सही इलाज भी उसकी जान को बता सकता है ।

सांपों की 4 प्रजातियां ऐसी होती है जो कि जहरीली होती है

1 . नाग या स्पेटिक्ल कोबरा
2 . रसेल वाइपर 
3 . करैत
4 . सॉ-स्केल्ड वाइपर

इन चारों सांपों के अलावा और भी विषैले सांप देश में पाए जाते हैं । कोई भी सांप हमें काटना नहीं चाहता है लेकिन यदि गलती से उसका विष हमारे शरीर में पहुंच जाता है तो वह तेजी से फैलता है ।

सर्पदंश से बचाव के उपाय

1 . अपने घरों में चूहों को पनपने ना दें । जहां पर चूहे वहां पर सांप ।

2 . घर तथा उसके आसपास की जगह को साफ सुथरा रखें । कबाड़ा बिल्कुल भी जमा ना करें । क्योंकि इसमें सांप छिपना पसंद करते हैं ।

3 . खेतों में काम करते समय तथा चलते समय जूते पहने

4 . कहीं भी हाथ डालने से पहले या फिर पांव रखने से पहले नजर डालें । कहीं सांप तो नहीं है ।

5 . काम करने से पहले जगेहे को चेक कर ले । डंडे को बजाएं तथा खेत में घूमाए । सांप खुद ही सजग होकर के भाग जाएगा ।

6 . रात के समय टॉर्च ले करके चलना चाहिए । पत्तियों तथा झाड़ियों के बीच में सांप हो सकते हैं । चलते समय बीच में तथा खुली जगह पर चलें ।

7 . यदि आप जमीन पर सोते हैं तो मच्छरदानी जरूर लगाएं । उसे चारों तरफ से दबा करके रखें । जमीन के मुकाबले ऊपर चारपाई पर सोना ज्यादा सुरक्षित होता है ।

8 . किसी भी सांप के साथ कभी भी छेड़खानी ना करें ।

यदि कभी कोई सांप काट ले तो क्या करें तथा क्या ना करें ?

1 . सांप के काट लेने के बाद घबराए नहीं । खुद भी शांत रहें तथा रोगी को भी शांत रखें ।

2 . यह समय समझदारी का होता है । इस आपात स्थिति में समझदारी से काम लेना चाहिए ।

3 . ज्यादातर सांप जहरीले नहीं होते हैं । फिर भी इस बात का निर्णय डॉक्टर पर ही छोड़ देना चाहिए कि क्या करना है क्या नहीं करना है ।

4 . रोगी को इधर-उधर भागने ना दें । एक जगह बिठा दें ।

5 . सर्पदंश वाली जगह को इधर उधर ना हीलांए तथा ना ही उसको छेड़े । हिलने डुलने से रक्त संचार बढ़ेगा तथा विष तेजी से शरीर में घुलेगा ।

6 . तुरंत एंबुलेंस को बुलाएं या फिर टोल फ्री नंबर 108 पर या फिर 102 पर कॉल करें ।

7 . यदि एंबुलेंस को आने में टाइम लग रहा है तो पास ही के किसी सरकारी अस्पताल में खुद चलें जाऐं ।

8 . गाड़ी नहीं मिल रही है तो मरीज को मोटरसाइकिल पर ही ले जाएं । सर्पदंश रोगी को हमेशा बीच में ही बिठाना चाहिए ।

9 . अपने करीबी डॉक्टर तथा एंबुलेंस का नंबर हमेशा अपने पास में रखना चाहिए ।

10 . मरीज के शरीर पर सभी कसी हुई चीजें जैसे की अंगूठी , घड़ी , पेंट उतार देना चाहिए ।

11 . मरीज को हमेशा बाई करवट लेटा करके रखना चाहिए ।

12 . सर्पदंश व्यक्ति को किसी भी ओझा या फिर भगत के पास में ना ले जाएं । कोई भी जंतर-मंतर तथा जड़ी बूटी काम नहीं करती है ।

13 . सांप के विष का अकेला तोड़ उसी के विष से बना anti-venom है । एंटी वेनम केवल डॉक्टरों के पास तथा सरकारी अस्पतालों में मिलता है ।

14 . घाव को काटकर चुंसकर या फिर सिरींज से विष निकालने की कोशिश ना करें । यह खतरनाक हो सकता है तथा यह बेकार है ।

15 . घाव के ऊपर कसकर नहीं बांधना चाहिए । इससे रक्त संचार रुक जाता है । हाथ पांव काटना तक पड़ सकता है ।

16 . देश में हर साल हजारों लोग इस वजह से मर जाते हैं कि उन्हें सही समय पर अस्पताल तथा दवा नहीं मिलती है तथा उसका इलाज नहीं हो पाता है ।

सांप के काटने का जिम्मेदार कौन है ?

सांप के काटने के पीछे कहीं ना कहीं जिम्मेदार हम इंसान ही है । क्योंकि हम कई बार ऐसी जगह पर अपना घर बना लेते हैं जहां पर सांप रहते हैं । इंसान ही सांप की आबादी वाले स्थानों में घुसने तथा रहने लगा है ।

चूहों की अधिक संख्या के कारण भी सांप हमारे आसपास के इलाके में आ जाते हैं । इसलिए हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि हमारे आसपास चुहे पनपने ना दें ।

Mulga snake के बारे में जानकारी दुनिया के सबसे जहरीले सांप

सैंड बोआ एक ऐसा सांप है जो कि आपको काटता नहीं

रेट स्नेक के बारे में रोचक जानकारीसांपों से जुड़े रोचक और जानने योग्य तथ्य

सांप की दो मोहे वाली जीभ क्यों होती है

गिलहरी जहरीले सांपों का सामना कैसे करती है

क्या साँप सुन सकते हैं सांप के पास कान नहीं होते हैं

कोबरा सांपो के बारे में रोचक तथ्य |

पाइथन अजगर Pythonकी सबसे खतरनाक तथा जेहरिली प्रजाति