शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज जोशटिक, shighrapatan rokne ki tablet Joshtik , शीघ्र स्खलन की आयुर्वेदिक दवा का नाम

शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज जोशटिक shighrapatan rokne ki tablet Joshtik . shighrapatan kya hota hai . shighrapatan kyo hota hai . shighrapatan in hindi . शीघ्र स्खलन की आयुर्वेदिक दवा का नाम । शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज पतंजलि । shighrapatan rokne ki tablet .

पुरुषों की सबसे बड़ी समस्या शीघ्र स्खलन होती है आज के पुरुष बिस्तर में लंबे समय तक टिक नहीं पाते हैं । जल्दी ही वीर्य का स्खलन हो जाता है। आज युवा शीघ्र स्खलन की समस्या से परेशान है ।

shighrapatan kya hota hai . shighrapatan in hindi

shighrapatan kya hota hai . पुरुष के वीर्य के जल्दी निकल जाने को ही shighrapatan कहते है । shighrapatan में पुरुष का वीर्य पांच 6 मिनट से पहले ही निकल जाता है । पुरुष बिस्तर में लंबे समय तक नहीं टिक पाता है । शीघ्र स्खलन में पुरुष का वीर्य 1 मिनट से ज्यादा समय तक नहीं टिक पाता है । shighrapatan का मतलब शीघ्र स्खलन होता है । Premature ejaculation का मतलब शीघ्रपतन (Premature ejaculation) होता है । शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन के कारण पुरुष के शुक्राणु की गुणवत्ता में कमी आती है । वीर्यस्खलन का मतलब लिंग से वीर्य का निकलना होता है ।

shighrapatan in hindi . shighrapatan kya hai

shighrapatan in hindi . shighrapatan kya hai . shighrapatan एक प्रकार की पुरुषों की बीमारी hai . shighrapatan की बीमारी में पुरुष का वीर्य चरमोत्कर्ष तक पहुंचने से पहले ही निकल जाता है । शीघ्र स्खलन में पुरुष का वीर्य उसकी इच्छा के विरुद्ध 1 मिनट से भी पहले निकल जाता है । शीघ्र स्खलन दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है शीघ्र + स्खलन । शीघ्र का मतलब समय से पहले यानी कि जल्दी होता है। स्खलन का मतलब विर्य का निकलना होता है । शीघ्र पतन और शीघ्र स्खलन की बीमारी के कारण पुरुष के शुक्राणु कमजोर हो जाते हैं ।

shigrapatan kyu hota hai.shighrapatan kyo hota hai

shigrapatan kyu hota hai.shighrapatan kyo hota hai . शीघ्रपतन (premature ejaculation) क्यों होता है इसके पीछे कई कारण होते हैं । तनाव के कारण भी shigrapatan होता है । अवसाद के कारण भी shigrapatan होता है । कुछ लड़कों और पुरुषों में शारीरिक कमजोरी के कारण shigrapatan होता है । कुछ पुरुषों में स्तंभन दोष होता है जिसके कारण shigrapatan होता है । कुछ पुरुषों में बीपी के बढ़ने के कारण shigrapatan होता है । कुछ पुरुषों को मधुमेह और थायराइड की समस्या होती है जिसके कारण भी shigrapatan होता है ।

shighrapatan ke karan शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन के कारण

shighrapatan ke karan : शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन होने के मुख्य कारण कौन कौन से होते हैं । बचपन से ही हस्तमैथुन की आदत के कारण ही शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या शुरू होती है । शुरुआती यौन अनुभव शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या का मुख्य कारण होता है ।

1 . यौन शोषण – यौन शोषण शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या का एक महत्वपूर्ण कारण होता है बहुत सारे पुरुषों का समय से पहले ही बाल्यावस्था में यौन शोषण हो जाता है ।

2 . शरीर की खराब छवि – कुछ युवाओं और पुरुषों का शरीर दुबला पतला होता है जिसके कारण भी शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या का सामना करना पड़ता है । कमजोर शरीर के कारण वह बिस्तर में लंबे समय तक नहीं टिक पाते हैं ।

3 . शीघ्रपतन की चिंता करना – कुछ पुरुष कभी कबार वीर्य जल्दी निकल जाने के कारण चिंतित हो जाते हैं और यही चिंता शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन का कारण बन जाती है । क्योंकि वह धीरे-धीरे अवसाद का कारण बन जाता है ।

4 . हस्तमैथुन को बढ़ावा देना – गलत सोच जो हस्तमैथुन को बढ़ावा देती है यह शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या का वर्तमान में सबसे बड़ा कारण है ।

5 . शराब या नशीली दवाओं का सेवन – ड्रग्स और शराब के सेवन हमारे शरीर पर हानिकारक दुष्प्रभाव पड़ते हैं । जिसका सीधा असर हमारे लीवर और किडनी पर पड़ता है । जो कि शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या का कारण बनता है ।

6 . निद्रा संबंधी परेशानियां – शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण कारण नींद की बीमारी है । नींद पूरी नहीं होने के कारण स्वपनदोष होता है और जो कि धीरे-धीरे शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या का रूप ले लेता है ।

7 . वजन और भूख में कमी – वजन कम होने के कारण और भूख कम लगने के कारण इसका सीधा असर हमारे शरीर पर पड़ता है । जिससे हमारे शरीर में कमजोरी आती है और फिर शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या शुरू हो जाती है ।

8 . वायरस और बैक्टीरिया के कारण – जैविक कारक जैसे वायरस, बैक्टीरिया जो मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं । इसके कारण भी शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या हो सकती है ।

9 . असामान्य हार्मोन का स्तर – यदि शरीर में हार्मोन का संतुलन बिगड़ता है और हार्मोन का स्तर या तो घटता है या बढ़ता है तो भी शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन की समस्या हो सकती है ।

10 . मुत्र मार्ग में समस्या – प्रोस्टेट या मूत्रमार्ग की सूजन और संक्रमण भी कभी कबार शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन की समस्या का कारण बन जाता है ।

11 . विरासत के लक्षण – कुछ पुरुषों में शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की बीमारी विरासत में मिलती है। यदि किसी के परिवार में उसके पिता को या दादा को शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या है तो वह उनके पुत्र में भी हो सकती है ।

shighrapatan ke lakshan . शीघ्रपतन के लक्षण (symptom of Premature Ejaculation)

shighrapatan ke lakshan : शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की बीमारी को लक्षणों के आधार पर पहचाना जा सकता है कुछ लक्षण ऐसे होते हैं जिससे यह पहचान सकते हैं कि शीघ्रपतन की समस्या है ।

1 . शीघ्र पतन के लक्षण – शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की बीमारी में पुरुष का वीर्य लिंग के उत्तेजित होते ही बाहर निकल जाता है यह शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन का पहला लक्षण होता है ।

2 . शीघ्र पतन के लक्षण – शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन का दूसरा लक्षण यह होता है कि सेक्स प्रक्रिया शुरू होते ही वीर्य बाहर निकल जाता है ।

3 . शीघ्र पतन के लक्षण – शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन का तीसरा लक्षण यह होता है कि इसमें यौन उत्तेजना में कमी आती है ।

4 . शीघ्र पतन के लक्षण – शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन का चौथा लक्षण यह होता है कि शारीरिक संबंध की प्रक्रिया शुरू होते ही वीर्य स्खलन हो जाता है।

5 . शीघ्र पतन के लक्षण – शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन का पांचवा कारण यह होता है कि इसमें वीर्य 1 मिनट से ज्यादा समय तक टिक नहीं पाता है ।

6 . शीघ्र पतन के लक्षण – शीघ्र पतन और शीघ्र स्खलन का लक्षण यह होता है कि पेनिस के अंदर प्रवेश करते ही शुक्राणु रिलीज हो जाते हैं ।

shighrapatan kaise roke. shighrapatan ko kaise roke

shighrapatan kaise roke. shighrapatan ko kaise roke . शीघ्रपतन को शीघ्रपतन की आयुर्वेदिक दवा से रोका जा सकता है । इसके अलावा शीघ्रपतन को शीघ्रपतन की अंग्रेजी दवा से रोका जा सकता है । शीघ्रपतन को घरेलू दवा इलाज उपचार और उपाय से भी रोका जा सकता है ।

shighrapatan ka ilaj in hindi . shighrapatan ka ramban ilaj

shighrapatan ka ilaj in hindi. shighrapatan ka ramban ilaj . शीघ्रपतन (Premature ejaculation) रोकने के लिए करें इन 5 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल । घर बैठे करें शीघ्रपतन का इलाज| Shighrapatan ka Ilaj . Shighrapatan Ki Dawa | शीघ्रपतन रोकने के घरेलू उपायका ।

शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन का इलाज जोशटिक ( Joshtik ) है । shighrapatan ki dawa Joshtik hai . Joshtik का उपयोग शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन के इलाज और उपचार के लिए उपाय के तौर पर किया जाता है । जोशटिक शीघ्र स्खलन की दवा है । शीघ्र स्खलन की आयुर्वेदिक दवा का नाम जोशटिक है । शीघ्र स्खलन का आयुर्वेदिक उपचार जोशटिक आयुर्वेदिक दवा है ।
शीघ्र स्खलन का आयुर्वेदिक इलाज जोशटिक आयुर्वेदिक दवा है । शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज जोशटिक आयुर्वेदिक दवा है ।

जोशटिक ( Joshtik ) क्या है ?

जोशटिक स्तंभन दोष की आयुर्वेदिक दवा है जिसका उपयोग शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन की बीमारी के इलाज और उपचार के लिए किया जाता है। जोशटिक पुरुषों के बांझपन को दूर करता है । लिंग में तनाव को बढ़ाता है । बिस्तर में लंबे समय तक टिक पाने में मदद करता है । इसके अलावा जोशटिक वीर्य को जल्दी निकलने से रोकने में मदद करता है ।

shighrapatan rokne ki tablet

shighrapatan rokne ki tablet Joshtik hai . shighrapatan rokne ki tablet Joshtik का उपयोग शीघ्रपतन को रोकने के लिए बांजपन की समस्या को दूर करने के लिए , लिंग को मजबूत करने के लिए किया जाता है । इसके अलावा shighrapatan rokne ki tablet Joshtik का उपयोग शुक्राणु की संख्या बढ़ाने के लिए और टेस्ट रेस्टोरेंट हार्मोन को बढ़ाने के लिए किया जाता है । लिंग में रक्त प्रवाह को बढ़ाने के लिए पुरुषों में कामेच्छा को बढ़ा करके पेनिस में इरेक्शन के लिए भी shighrapatan rokne ki tablet Joshtik का यूज किया जाता है ।

यौन दुर्बलता को कम करने के लिए भी shighrapatan rokne ki tablet Joshtik का उपयोग किया जाता है । पौरूष शक्ति बढ़ाने के लिए , संभोग के समय को बढ़ाने के लिए , नई ऊर्जा के संचार के लिए भी shighrapatan rokne ki tablet Joshtik का सेवन किया जाता है ।

shighrapatan rokne ki tablet – शीघ्रपतन रोकने की टेबलेट

shighrapatan rokne ki tablet – एलोपैथी में वियाग्रा, सिल्डेनाफिल जैसी दवाइयों को shighrapatan rokne ki tablet के रूप में इस्तेमाल किया जाता है । वर्तमान में शारीरिक संबंध बनाने से पहले shighrapatan rokne ki tablet के रूप में अधिकतर लोग मेन फोर्स टेबलेट का सेवन करते हैं । shighrapatan rokne ki tablet के रूप में लड़की और पुरुष वियाग्रा का सेवन बिस्तर पर जाने से पहले करते हैं ताकि वह शीघ्रपतन को रोक सके । shighrapatan rokne ki tablet मेन फोर्स में सिल्डेनाफिल होता है जो कि शीघ्रपतन को रोकने में मदद करती है ।

shighrapatan rokne ki tablet ट्रामाडोल – ट्रामाडोल टेबलेट शीघ्रपतन को रोकने में मदद करती है । यदि कोई जानने टेबलेट शीघ्रपतन को रोकने में सक्षम नहीं होती है तब पुरुषों को ट्रामाडोल टेबलेट का इस्तेमाल करना चाहिए । यह टेबलेट शीघ्रपतन रोकने की टेबलेट के रूप में जानी जाती है और शीघ्रपतन को रोकने में सक्षम होती है। shighrapatan rokne ki tablet ट्रामाडोल के सेवन से नुकसान हो सकता है । इसलिए इस टेबलेट का सेवन डॉक्टर की सलाह से ही करें ।

shighrapatan rokne ki tablet डयपॉक्सटिन – डयपॉक्सटिन टेबलेट का उपयोग पुरुषों के द्वारा shighrapatan rokne ki tablet के रूप में किया जाता है । shighrapatan rokne ki tablet डयपॉक्सटिन को 60 से अधिक देशों में बेचने का लाइसेंस प्राप्त हैं । shighrapatan rokne ki tablet डयपॉक्सटिन का सेवन बिस्तर पर जाने से 1 से 3 घंटे पहले लेना होता है ।

shighrapatan rokne ki tablet क्लॉमिप्रामाइन – क्लॉमिप्रामाइन टेबलेट का उपयोग ऑन डिमांड के आधार पर shighrapatan rokne ki tablet के रूप में किया जाता है । क्लॉमिप्रामाइन टेबलेट शीघ्रपतन को रोकने में कारगर साबित हुई है । क्लॉमिप्रामाइन टेबलेट शीघ्रपतन को रोककर के शारीरिक संतुष्टि को बढ़ाती है ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक कौन-कौन से फॉर्मेट में उपलब्ध है ?

shighrapatan ki dawa जोशटिक कौन-कौन से फॉर्मेट में उपलब्ध है ? शीघ्र स्खलन की आयुर्वेदिक रामबाण दवा जोशटिक तीन फॉर्मेट में उपलब्ध है । shighrapatan ki dawa जोशटिक के किसी भी फॉर्मेट का सेवन आप बड़ी आसानी से कर सकते हो ।

JOSHTIK Dawa Ke Format

1 . JOSHTIK (कैप्सूल)
2 . JOSHTIK (पाउडर)
3 . JOSHTIK (सिरप)

shighrapatan ki dawa जोशटिक के इनग्रेडिएंट

shighrapatan ingredient : सामग्री का नाम ।
ingredient के तौर पर जोशटिक में आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है । जोशटिक को 100% आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से तैयार किया जाता है ।

1 . अश्वगंधा
2 . अकरकरा
3 . गोखरु
4 . कौंच बीज
5 . सफेद मूसली
6 . विदारीकंद
7 . लौंग
8 . जायफल
9 . शतावरी
10 . ब्रह्मदंडी
11 . बीजबंद
12 . शर्करा

shighrapatan ki dawa जोशटिक ( Joshtik ) का सेवन कैसे करें ?

shighrapatan ki dawa जोशटिक ( Joshtik ) का सेवन कैसे करें ? जोशटिक दवा का सेवन खाना खाने के बाद करना चाहिए । खाली पेट और भूखे पेट जोशटिक दवा का सेवन नहीं करना चाहिए । जोशटिक दवा का सेवन सुबह और शाम दोनों समय खाना खाने के पश्चात 30 दिनों तक करना होता है ।

शीघ्र स्खलन की दवा जोशटिक के सेवन की विधि

shighrapatan ki dawa जोशटिक का सेवन करने के लिए आधा कप गुनगुना पानी ले और एक चम्मच जोशटिक दवा ले । इसके बाद इसे पानी में मिलाकर के सेवन करें । यदि इस तरह से दवा के सेवन में परेशानी आ रही है तो एक चम्मच जोशटिक दवा का पाउडर मुंह में डालें और ऊपर से गुनगुने पानी डाल कर के पी ले ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक सेवन करने के फायदे और नुकसान ।

प्रत्येक प्रकार की दवा के फायदे और नुकसान दोनों होते हैं । shighrapatan ki dawa जोशटिक दवा के फायदे और नुकसान के बारे में जानकारी ।
shighrapatan ki dawa जोशटिक दवा के कौन-कौन से फायदे हैं और कौन-कौन से नुकसान हैं ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक सेवन करने के फायदे

shighrapatan ki dawa जोशटिक सेवन करने के फायदे । शीघ्र स्खलन की आयुर्वेदिक दवा जोशटिक के सेवन के फायदे ही हैं । shighrapatan ki dawa जोशटिक का उपयोग सभी प्रकार की जनसमस्याओं के इलाज और उपचार के लिए किया जाता है ।

1 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक के सेवन का सबसे पहला फायदा यह होता है कि यह पुरुषों की यौन दुर्बलता को दूर करती है । सेक्स से जुड़ी सभी समस्याएं जोशटिक के सेवन से दूर होती है ।

2 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक के सेवन का दूसरा फायदा यह होता है कि यह आयुर्वेदिक दवा पुरुषों के स्तंभन दोष को दूर करती है ।

3 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक आपकी खोई हुई ताकत को वापिस लाता है । आपके शरीर में नई जोश और ऊर्जा का संचार करता है ।

4 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक आयुर्वेदिक दवा पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन के हार्मोन को बढ़ाती है। टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को बढ़ाने के लिए shighrapatan ki dawa जोशटिक का सेवन पुरुषों के द्वारा किया जाता है ।

5 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक का उपयोग पुरुषों के द्वारा लिंग को बड़ा और मजबूत करने के लिए किया जाता है ।

6 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक का इस्तेमाल शारीरिक और मानसिक दुर्बलता को दूर करने के लिए किया जाता है ।

7 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक का use पुरुषों के बेहतर यौन प्रदर्शन के लिए किया जाता है। पुरुष लंबे समय तक टिक पाते हैं और अच्छा यौन प्रदर्शन कर पाते हैं ।

8 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक का use पुरुषों में प्राकृतिक रूप से यौन इच्छा को बढ़ाने के लिए भी किया जाता है ।

9 . shighrapatan ki dawa के फायदे – shighrapatan ki dawa जोशटिक का use पुरुष के लिंग में रक्त प्रवाह को बढ़ाने के लिए , लिंग को मोटा , सख्त बनाने के लिए भी करते हैं ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक सेवन करने के नुकसान

जोशटिक पूरी तरीके से आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से तैयार की जाती है । जोशटिक पाउडर , जोशटिक सिरप और जोशटिक कैप्सूल को बनाने के लिए किसी भी तरह के केमिकल का उपयोग नहीं किया जाता है । शीघ्र स्खलन की आयुर्वेदिक दवा जोशटिक के सेवन के कोई भी साइड इफेक्ट और नुकसान नहीं है ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक कैसे खरीदें ?

जोशटिक को Joshtik की ऑफिशियल वेबसाइट से खरीद सकते हो । इसके अलावा Joshtik को कहान आयुर्वेदा की ऑफिशियल वेबसाइट से भी खरीद सकते हो । Amazon website से भी online जोशटिक पाउडर , जोशटिक कैप्सूल और जोशटिक सिरफ Buy कर सकते हो ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक कितनी है ?

shighrapatan ki dawa जोशटिक , कैप्सूल, पाउडर एवं सिरप तीनों की प्राइज अलग-अलग है।
जोशटिक कैप्सूल की प्राइस ₹1259 है । जोशटिक पाउडर की प्राइस ₹1349 है । जोशटिक सिरफ की प्राइस ₹899 हैं ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक क्यों लें ?

shighrapatan ki dawa जोशटिक पूरी तरीके से आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से तैयार की गई है ।
जोशटिक में किसी भी प्रकार के केमिकल का उपयोग नहीं किया जाता है । इसके अलावा सबसे बड़ी बात यह है कि जोशटिक का कोई भी साइड इफेक्ट और नुकसान नहीं है । जोशटिक शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की आयुर्वेदिक और रामबाण दवा है ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक के Best रिजल्ट के लिए क्या करें ?

1 . जोशटिक के Best रिजल्ट के लिए सुबह उठने के बाद एक से दो गिलास गुनगुना पानी जरूर पीना चाहिए ।

2 . सुबह उठने के बाद योगा व्यायाम एक्सरसाइज करना चाहिए और सुबह के समय चलना चाहिए।

3 . सभी काम समय पर करना चाहिए समय पर खाना खाना चाहिए और समय पर पानी पीना चाहिए रोजाना 3 से 4 लीटर पानी पीना चाहिए ।

4 . अपने आहार में हरी सब्जियां , छिलके वाली दाल , दूध , दही , मक्खन , पनीर , टमाटर , सलाद आदि का सेवन जरूर करें ।

5 . गुटका , बीड़ी , तंबाकू , शराब आदि के सेवन से बचना चाहिए ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक दवा के सेवन के दौरान किन किन चीजों का परहेज करें ?

shighrapatan ki dawa जोशटिक दवा के सेवन के दौरान किन किन चीजों का परहेज करें ?
shighrapatan ki dawa के सेवन के दौरान कुछ चीजों का परहेज करना चाहिए ताकि इसके अच्छे और सकारात्मक परिणाम मिले ।

1 . परहेज – खाने पीने में ज्यादा तली भुनी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए ।
2 . इसके अलावा खाने में अधिक मिर्च मसालों का सेवन भी नहीं करना चाहिए ।
3 . खट्टी चीजों का कम से कम सेवन करना चाहिए ।
4 . फास्ट फूड का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए ।
5 . इसके अलावा गंदे विचारों से दूर रहना चाहिए ।

6 . अश्लील वीडियो देखने से बचना चाहिए और 7 . अश्लील सामग्री को बिल्कुल भी नहीं देखना चाहिए ।

shighrapatan ki dawa जोशटिक सेवन करने के दौरान क्या-क्या सावधानी रखें ?

1 . shighrapatan ki dawa जोशटिक जब भी कर रहे हो तब खाना खाने से 2 घंटे पहले ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी का सेवन जरूर करें।

2 . shighrapatan ki dawa जोशटिक का सेवन खाना खाने के आधे घंटे बाद में ही करना चाहिए । तुरंत जोशटिक दवा का सेवन नहीं करना चाहिए ।

नोट – दवा का सेवन खाना खाने के आधे घंटे बाद करें ।

शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज 10 घरेलू उपाय से कैसे करें

1 . शतावरी – शतावरी शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन की समस्या दूर करने में सक्षम होती है । सेक्स समस्या के इलाज और उपचार के लिए शतावरी का उपयोग किया जाता है । शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज के लिए दिन में दो बार आधा-आधा चम्मच शतावरी के चूर्ण का सेवन दूध के साथ करना चाहिए । शतावरी के नियमित सेवन के कुछ ही दिनों बाद शीघ्र स्खलन में राहत मिलेगी ।

2 . गोक्षुर – गोक्षुर को निर्दोष को खत्म करने वाली और नियंत्रित करने वाली औषधि माना जाता है । आयुर्वेद में गोक्षुर का उपयोग यौन समस्याओं के इलाज और उपचार के लिए किया जाता है । शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन के इलाज के लिए गोक्षुर का सेवन करना चाहिए । प्रतिदिन आधा चम्मच गोक्षुर को घी और चीनी के साथ मिलाकर के दिन में 2 बार सेवन करना चाहिए । जिससे की मांसपेशियां मजबूत होती है और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का लेवल भी बढ़ता है । गोक्षुर को शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज माना जाता है ।

3 . केसर – आयुर्वेद में केसर को कामोत्तेजक बताया गया है । आयुर्वेद में केसर को दूध में मिलाकर के पीने की सलाह दी जाती है । शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन के इलाज के लिए रात को सोते समय दूध में पांच से सात केसर के रेशों को डाल करके पी लें और उसके बाद सो जाना चाहिए ।

4 . मकरध्वज – मकरध्वज वीर्य को बढ़ाने के लिए और नपुंसकता की बीमारी के इलाज के लिए किया जाता है । मकरध्वज के सेवन से शरीर में नई ऊर्जा और जोश का संचार होता है । मकरध्वज शीघ्र स्खलन की रामबाण दवा मानी जाती है । शीघ्र स्खलन की दवा मकरध्वज का उपयोग डॉक्टर के निर्देशानुसार करना चाहिए ।

5 . मुलेठी – मुलेठी का उपयोग अधिकतर जुकाम खांसी तथा गले की खराश को दूर करने के लिए किया जाता है । जबकि बहुत कम लोग यह बात जानते हैं कि मुलेठी का उपयोग शीघ्रपतन और शिकारी स्खलन के इलाज के लिए दवा के तौर पर भी किया जाता है । मुलेठी को शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज माना जाता है । शीघ्र स्खलन के इलाज के लिए रोजाना आधा चम्मच मुलेठी का चूर्ण दूध या शहद के साथ करना चाहिए ।

6 . शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज उड़द दाल की खिचड़ी

शीघ्र स्खलन के घरेलू इलाज के तौर पर उड़द की दाल की खिचड़ी बना करके खानी चाहिए । इसके लिए दिन में दो बार सुबह और शाम उड़द तथा चावल को मिलाकर के खिचड़ी बना ले तथा उसका सेवन करें । उसके बाद एक गिलास मीठे दूध का सेवन करें । शीघ्र स्खलन के इस उपाय को 1 महीने तक लगातार करना है । इस उपाय के बाद शीघ्र स्खलन में कमी आएगी ।

7 . शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज तरबुज

तरबूज शीघ्र स्खलन को रोकने में मदद करता है। इसके लिए आपको तरबूज लेना है और इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लेना है । फिर इसके ऊपर नमक और अदरक का पाउडर छिड़ककर के इस तरबूज का सेवन करना है । इससे कुछ ही दिनों में शीघ्र स्खलन की समस्या में आराम मिलेगा ।

8 . हरा प्याज शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज

हरे प्याज के बीजों से शीघ्र स्खलन को रोकने में मदद मिलती है । इसके लिए हरे प्याज के बीजों को पीसकर के उनका चूर्ण बना लेना है । अब इस चूर्ण का सेवन दिन में तीन बार सुबह , शाम और दोपहर को खाना खाने से पहले पानी के साथ करना है । इससे शीघ्र स्खलन की समस्या में जल्द ही कमी आएगी ।

9 . भिंडी पाउडर शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज

भिंडी शीघ्र स्खलन का घरेलू रामबाण इलाज माना जाता है । शीघ्र स्खलन के इस घरेलू उपाय को रात को सोते समय करना है । आपको 10 ग्राम भिंडी का पाउडर लेना है अब इस पाउडर को गुनगुने दूध में मिलाकर के इसे पी लेना है । शीघ्र स्खलन के इस उपाय को लगातार एक महीने तक करें ।

10 . लहसुन शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज

लहसुन यौन समस्याओं का सबसे अच्छा घरेलू उपाय माना जाता है । लहसुन के सेवन से यौन क्षमता में वृद्धि होती है । लहसुन का उपयोग शीघ्र स्खलन के इलाज के तौर पर किया जाता है । इसके लिए प्रतिदिन तीन से चार कच्चे लहसुन की कलियों का सेवन करना होता है । कच्चे लहसुन की कलियों का सेवन प्रतिदिन करने से शीघ्र स्खलन में लाभ प्राप्त होता है ।

शीघ्र स्खलन का आयुर्वेदिक इलाज

अश्वगंधा से शीघ्रपतन की समस्या का इलाज (Ashwagandha: Home Remedies for Premature Ejaculation in Hindi) – अश्वगंधा चूर्ण का उपयोग नपुंसकता को दूर करने के लिए शीघ्रपतन के इलाज के लिए और शीघ्र स्खलन के इलाज और उपचार के लिए किया जाता है । शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज के लिए पतंजलि के अश्वगंधा चूर्ण का उपयोग करना चाहिए । पतंजलि अश्वगंधा चूर्ण यौन विकारों को दूर करता है ।

इसबगोल से शीघ्रपतन की समस्या का इलाज (Isabgol: Home Remedies to Treat Premature Ejaculation in Hindi) – इसबगोल को शीघ्रपतन और सीकर स्क्रीन की घरेलू आयुर्वेदिक दवा माना जाता है । इसबगोल पिसी हुई मिश्री और खसखस तीनों को 5-5 ग्राम की मात्रा में मिलाकर के चूर्ण तैयार कर ले । रात को सोते समय एक गिलास दूध में इस चूर्ण को मिलाकर के सेवन करें । इससे शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या दूर होगी । इसबगोल मिश्री और खसखस का यह उपाय शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज माना जाता है ।

सफेद मूसली से शीघ्रपतन की समस्या का उपचार (White Muesli: Home Remedy for Premature Ejaculation in Hindi) – सफेद मूसली शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज माना जाता है । सफेद मूसली के चूर्ण को प्रतिदिन एक गिलास दूध में मिलाकर पीने से शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन की समस्या दूर होती है । साथ ही वीर्य भी गाढ़ा होता है ।

इलायची के सेवन से शीघ्रपतन की समस्या का उपचार (Cardamom: Home Remedies to Treat Premature Ejaculation in Hindi) – इलायची के घरेलू आयुर्वेदिक उपाय से भी शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन का रामबाण इलाज किया जा सकता है । शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की समस्या को दूर करने के लिए प्रतिदिन सुबह 3 इलायची को चबाएं । उसके बाद एक पका हुआ केला और 100 ग्राम खजूर का सेवन करें । उसके बाद मिश्री मिला हुआ एक गिलास गुनगुना दूध का सेवन करें ।

शीघ्र स्खलन का इलाज होम्योपैथी । शीघ्र स्खलन की होम्योपैथिक दवा

शीघ्र स्खलन की होम्योपैथिक दवा – Premature Ejaculation ki homeopathic medicine .
एवेना सैटाइवा (Avena Sativa) – एवेना सैटाइवा शीघ्र स्खलन की होम्योपैथिक दवा का उपयोग नपुंसकता को दूर करने के लिए किया जाता है । इसके अलावा एवेना सैटाइवा होम्योपैथिक दवा का उपयोग शराब पीने के बाद शीघ्र स्खलन की समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है ।

शीघ्र स्खलन की होम्योपैथिक दवा ऐग्नस कैस्टस

ऐग्नस कैस्टस (Agnus Castus) – ऐग्नस कैस्टस होम्योपैथिक दवा का उपयोग यौन शक्ति को बढ़ाने के लिए , लिंग की शीतलता को दूर करने के लिए , लिंग के छोटे पन को दूर करने के लिए , लिंग के ढीलेपन को दूर करने के लिए किया जाता है । शीघ्र स्खलन की होम्योपैथिक दवा ऐग्नस कैस्टस है ।

शीघ्र स्खलन की होम्योपैथिक दवा चाइना ओफ्फिसिनालिस

चाइना ओफ्फिसिनालिस (China Officinalis) – चाइना ओफ्फिसिनालिस शीघ्र स्खलन की होम्योपैथिक दवा का उपयोग शीघ्रपतन और शिकायत को दूर करने के लिए , शीघ्र स्खलन से आई कमजोरी को दूर करने के लिए किया जाता है। योन उदासीनता को और विरक्ति को दूर करने के लिए भी इस होम्योपैथिक दवा का उपयोग किया जाता है । शीघ्र स्खलन की होम्योपैथिक दवा चाइना ओफ्फिसिनालिस है ।

शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम एससिटैलोप्राम

शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम एससिटैलोप्राम, सेर्ट्रालीन, पैरोक्सेटाइन है । एससिटैलोप्राम का उपयोग शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा के रूप में किया जाता है । सेर्ट्रालीन, पैरोक्सटाइन अंग्रेजी दवा का उपयोग शीघ्र स्खलन और शीघ्र पतन के इलाज के लिए किया जाता है ।
प्रिइजेर्कुलेशन को रोकने के लिए ट्राइसाइक्लिक, एंटीडिप्रेसेंट , क्लोमीप्रामाइन अंग्रेजी दवा का उपयोग किया जाता है । शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम एससिटैलोप्राम है ।

शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम ट्रेमेडोल

ट्रेमेडोल – ट्रेमेडोल अंग्रेजी दवा का उपयोग शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन को रोकने के लिए किया जाता है । ट्रेमेडोल प्रिइजेकुलेशन को रोकने में मदद करता है और बिस्तर पर टाइम को बढ़ाता है । ट्रेमेडोल शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम है । शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम ट्रेमेडोल है ।

शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम कोडीन

कोडीन – कोडीन अंग्रेजी दवा प्रीइजैकुलेशन को कंट्रोल करती है और शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन को होने से रोकता है । कोडीन अंग्रेजी दवा के सेवन से शीघ्र स्खलन को रोका जा सकता है । टाडालफिल (सियालिस) , वार्डेनफिल (लेविट्रा) , अवानाफिल (स्टेंड्रा) ,एस्सिटालोप्राम, सिल्डेनाफिल व ट्रेमेडोल अंग्रेजी दवा भी शीघ्र स्खलन को रोकने में मददगार साबित हुई है । शीघ्र स्खलन की अंग्रेजी दवा का नाम कोडीन है ।

शीघ्र स्खलन की पतंजलि दवा का नाम

कैप्सूल शीघ्र स्खलन की पतंजलि दवा का नाम पतंजलि शिलाजीत गोल्ड कैप्सूल है । शिलाजीत गोल्ड कैप्सूल का उपयोग योन समस्याओं के इलाज और उपचार के लिए आयुर्वेदिक उपाय के तौर पर किया जाता है । शिलाजीत गोल्ड कैप्सूल के सेवन से शीघ्र स्खलन को शीघ्रपतन में चमत्कारी फायदा मिलता है ‌‌। शिलाजीत गोल्ड कैप्सूल का एक कैप्सूल प्रतिदिन एक गिलास दूध के साथ मिलाकर के सेवन करना चाहिए ।

Patanjali Divya Yaunamrit Vati – पतंजलि यौनअमृत वटी का उपयोग शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन की आयुर्वेदिक दवा के तौर पर किया जाता है । यौनअमृत वटी का उपयोग शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन के इलाज और उपचार के लिए किया जाता है ।

पतंजलि अश्वशिला – आयुर्वेदिक दवा पतंजलि अश्वशिला का उपयोग शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन के इलाज और उपचार के लिए किया जाता है । शरीर में आई कमजोरी और थकान को दूर करने के लिए भी पतंजलि अश्वशिला कैप्सूल का उपयोग किया जाता है ।

शीघ्र स्खलन के आयुर्वेदिक दवा हिमालया

शीघ्र स्खलन के आयुर्वेदिक दवा हिमालया – बंगेश्वर रस ,जातिफलादि वटी , मकरध्वज वटी हिमालया दवा का उपयोग शीघ्र स्खलन के आयुर्वेदिक दवा के तौर पर किया जाता है । शुक्रमातृका बटी, वीर्यशोधन वटी, स्वप्नदोषहरी टेबलेट का उपयोग भी शीघ्र स्खलन और शीघ्रपतन के इलाज और उपचार के तौर पर आयुर्वेदिक दवा के रूप में किया जाता है । वीर्यशोधन वटी, स्वप्नदोषहरी , जातिफलादि वटी , मकरध्वज वटी हिमालय की शीघ्र स्खलन की आयुर्वेदिक दवा है ।

  1. बंगेश्वर रस, 2. मोती पिष्टी नंबर वन, 3. जातिफलादि वटी (स्तंभक), 4. मकरध्वज वटी, 5. मेहमुद्गर बटी, 6. शुक्रमातृका बटी, 7. वीर्यशोधन वटी, 8. स्वप्नदोषहरी टेबलेट, 9. त्रिबंग भस्म, 10. वंग भस्म, 11. पुष्पधन्वा रस, 12. बंगेश्वर रस, 13. मन्मथ रस

Contact Us

किसी भी प्रकार की समस्या और शिकायत के लिए इस ईमेल आईडी पर हमसे संपर्क कर सकते हैं। - calltohelps@gmail.com इस वेबसाइट के माध्यम से हमारा उद्देश्य सिर्फ लोगों को जागरूक करना और जानकारी देना है । इस वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के आधार पर कोई निर्णय अपने स्वविवेक पर लें । अधिक जानकारी के लिए Disclaimer जरूर पढ़ें