सीता माता का जन्म कैसे हुआ ? सीता का नामकरण संस्कार

ब्राह्मणों ने सीता का नामकरण संस्कार करने से मना क्यों कर दिया ?

रामायण के अनुसार ऐसे हुआ था माता सीता का जन्म कैसे हुआ ? सीता जन्म की पहली पौराणिक कहानी। सीता जी के पिता कौन थे

नमस्कार दोस्तों दोस्तों जब सीता का जन्म हुआ और राजा जनक ने सीता के नामकरण का आयोजन रखा तभी बड़ी ही विचित्र समस्या राजा जनक के सामने उत्पन्न हो गई ।

क्योंकि वहां के ऋषि-मुनियों ने राजा जनक की पुत्री सीता का नामकरण करने से मना कर दिया था । क्योंकि उस समय ऐसा कोई विधान नहीं था

कि उसका नामकरण हो सके । उस समय नामकरण उसी का किया जाता था जिसका कुल तथा गोत्र पता हो

सीता माता का जन्म कैसे हुआ ?

किसी भी व्यक्ति का नामकरण उसके कुल तथा गोत्र को देख करके किया जाता है । जबकि सीता तो जमीन से उत्पन्न हुई थी।

जिसके कारण उसका ने तो कोई कुल था और ने ही कोई गोत्र था । ऐसी स्थिति में उसका नामकरण कैसे किया जा सकता है ।

अवश्य पढ़े – गिलहरी के बारे में रोचक तथ्य

राजा जनक के सामने एक गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई । इस समस्या के समाधान के लिए राजा जनक ने बुद्धिजीवी तथा ज्ञानियों की एक धर्म सभा बुलाई ।

धर्म सभा में उन्होंने सभी ऋषि-मुनियों तथा देवताओं को आमंत्रित किया । सभी देवताओं का , ऋषि मुनि का , ज्ञानी जन राजा जनक कि इस धर्म सभा में प्रस्तुत हुए ।

सभी ने अपना अपना तर्क सम्मत धर्म संगत तथा परंपरागत रूप से वैदिक परंपरा के आधार पर अपने अपने प्रश्न सभी के सामने रखें ।

अवश्य पढ़े – बिल्लियों के बारे में रोचक तथ्य

सीता जी के पिता कौन थे

तब सभी देवताओं तथा ज्ञानियों ने मिलकर के यह निर्णय लिया कि जो भी व्यक्ति संतान का पालन तथा पोषण करेगा , उसी के नाम पर उस व्यक्ति का कुल तथा गोत्र रखा जाएगा

तथा उसी के कुल का गोत्र के आधार पर ही उसका नामकरण किया जाएगा ।

क्योंकि पालन पोषण करने वाली को जन्म देने वाले से भी बड़ा माना जाता है ।

जब जन्म देने वाले का नाम पता मालूम नहीं होता है तब पालन करने वाले को ही सर्वेश्वर माना जाता है ।

यदि कोई माता-पिता संतान के जन्म के पश्चात उसे छोड़ देते हैं या फिर त्याग देते हैं तब उस संतान का कुल तथा गोत्र क्या होगा ।

इस पर भी ऋषि-मुनियों ने संतोषजनक जवाब दिया ताकि भविष्य में होने वाली ऐसी घटनाओं से समाज में कोई भी व्यक्ति के साथ गलत व्यवहार नहीं हो ।

ब्राह्मणों ने सीता का नामकरण संस्कार करने से मना क्यों कर दिया ?

अवश्य पढ़े – मधुमक्खियां शहद कैसे बनाती है

पालने वाले व्यक्ति को जन्म देने वाले व्यक्ति से कभी भी कम नहीं आंकना चाहिए ।

इस धर्म सभा के बाद अनजान , लावारिस तथा त्यागे गए के बच्चों के नामकरण की प्रथा शुरू हुई । इससे पहले यह प्रथा इस धरती पर नहीं थी

सीता का जन्म हल चलाने से हुआ था । जिसे सीताफल भी कहते हैं । जिसके परिणाम स्वरूप कुंडली के अनुसार ” “अक्सर बनता है।

इसलिए इसका नाम ” ” से शुरू होगा । जिसके कारण राजा जनक की पुत्री का नाम सीता पड़ा ।

अवश्य पढ़े – बिच्छू के बारे में रोचक तथ्य

अवश्य पढ़े – लड़कियां बॉयफ्रेंड क्यों बनाती है

अवश्य पढ़े – गेहूं की रोटी फुल क्यों जाती है

Translate »
%d bloggers like this: