गर्भावस्था में इन बातों का रखें खास खयाल औरत को प्रेगनेंसी में क्या क्या नहीं करना चाहिए

गर्भवती स्त्री को अपने खाने में क्या क्या खाना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए

आइए दोस्तों आज हम जानते हैं कि गर्भवती स्त्री को अपने खाने में क्या क्या खाना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए । जो आज हम आपको बताएंगे ।

औरत के लिए मां बनना सबसे बड़ी खुशी की बात होती है । जब उसे पहली बार पता चलता है कि वह मां बनने वाली है तो उसकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहता ।

औरत जब इस दुनिया में आती है तो वह सबसे पहले बेटी बनती है और फिर किसी के घर की बहू और पत्नी बनती है और फिर वह बनती है एक मां । जब औरत मां बनती है तो उसका पुनर्जन्म होता है । वह कहीं समस्याओं का सामना करके अपने आप को जन्म देती है ।

इसीलिए जब औरत मां बनने वाली होती है तो सब उसका बहुत अच्छे से ख्याल रखता है । चाहे वह पति हो या उसके ससुराल वाले । आज हम जानेंगे कि जब औरत मां बनने वाली होती है तो उसे क्या क्या सावधानियां रखनी चाहिए ?

1- जब औरत प्रेग्नेंट रहती है तो उसे अनार खाने चाहिए और फल फ्रूट मिनिमम मात्रा में खाने चाहिए और अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए और उसे दालों का खास ध्यान रखना चाहिए । उसे मूंग मसूर की दाल खानी चाहिए । इससे बच्चे और माता दोनों के शरीर में विटामिन की मात्रा बनी रहती है ।

2‌ – प्रेगनेंसी के कुछ महीनों में मां को ड्राई फूड्स ज्यादा से ज्यादा खाने चाहिए । क्योंकि उन्हें भी विटामिन भरपूर मात्रा में पाया जाता है और गर्भवती स्त्री को पत्तेदार सब्जियां खानी चाहिए । मतलब हरी सब्जी खानी चाहिए । इसमें पालक , फूल गोभी , पत्ता गोभी सब्जियों का सेवन अधिक से अधिक मात्रा में करना चाहिए ।

3- प्रेग्नेंट औरत को प्रेगनेंसी में 6 महीने के बाद उसे अपने शरीर को काम में लगाना चाहिए । जैसे उसे घर का काम करना चाहिए । ऑफिस वर्क भी कर सकती है ।

अब हम जानते हैं कि औरत को प्रेगनेंसी में क्या क्या नहीं करना चाहिए । जिससे औरत एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सके । ऐसे कई काम होते हैं जो औरत को नहीं करनी चाहिए ।

वरना उसे बच्चे को खतरा भी हो सकता है । औरत को इन 9 महीनों में अपने और अपने बच्चे का खास ख्याल रखना पड़ता है ।

4 – औरत को प्रेगनेंसी में पूरे 9 महीने तक पपीता करेला से कच्चा मांस अंडा और घर पर बनी आइसक्रीम नहीं खानी चाहिए । फल और सब्जियों को धोकर खाना चाहिए ।

शराब तथा धूम्रपान से दूर है तथा उच्च पारे की मछली का सेवन ना करें । इससे शरीर में गर्मी हो सकती है और बच्चे के अवार्ड होने का खतरा रहता है ।

5 – गर्भवती स्त्री को शुरू के 3 या 4 महीने काम कम करना चाहिए और उसे पांचवे महीने से घर का काम ज्यादा से ज्यादा काम करना चाहिए । क्योंकि इससे उसके शरीर पर सूजन नहीं आती और गर्भवती स्त्री को एक्सरसाइज भी करनी चाहिए ।

इससे बच्चे को काफी राहत मिलती है और स्त्री का शारीरिक संतुलन बना रहता है और उसे डिलीवरी में ज्यादा मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ता डिलीवरी हो जाती है ।

3- गर्भवती स्त्री को प्रेगनेंसी मैं बाहर की चीजें बिल्कुल नहीं खानी चाहिए । ज्यादा घर में बनी चीजें खाएं । क्योंकि बाहर की चीजों से बच्चा तथा माता खुद बीमार हो सकती है ।

4- गर्भवती माता को कम से कम सफर करना चाहिए सफर करने से उसकी तबीयत भी खराब हो सकती है तथा यह बच्चे को भी नुकसान दाई हो सकता है

Translate »
%d bloggers like this: